Home National Whistling Village of Meghalaya as many songs as many people will make...

Whistling Village of Meghalaya as many songs as many people will make you crazy off course । मेघालय का ‘व्हिसलिंग विलेज’, जितने लोग उतने गाने, इस गांव की खासियत के बारे में जानकर हो जाएंगे दीवाने

16
0

Image Source : SOCIAL MEDIA
मेेघालय का अनोखा गांव

मेघालय: Unique Village In Meghalaya अगर हम कहें कि भारत में एक ऐसा अनोखा गांव है जहां लोग एक-दूसरे को नाम से नहीं गाने से बुलाते हैं। आप भी जानकर हंस पड़ेंगे कि ये कैसे संभव है लेकिन ऐसा ही है मेघालय के कोंगथोंग गांव में। कोंगथोंग गांव में, लोग एक दूसरे को उनके नाम से नहीं बल्कि एक अलग राग या विशेष धुन से बुलाते हैं, यही वजह है कि इस क्षेत्र को ‘व्हिसलिंग विलेज’ के नाम से जाना जाता है। कोंगथोंग पूर्वी खासी हिल्स जिले में स्थित है, जो मेघालय की राजधानी शिलांग से लगभग 60 किमी दूर है।

संदेश पहुंचाने के लिए सीटी बजाते हैं लोग

इस गांव के लोग अपने गांव वालों तक अपना संदेश पहुंचाने के लिए सीटी बजाते हैं। कोंगथोंग के ग्रामीणों ने इस धुन को ‘जिंगरवाई लवबी’ कहा है, जिसका अर्थ है मां का प्रेम गीत। गांव वालों के दो नाम होते हैं – एक सामान्य नाम और दूसरा गाने का नाम और गाने के नाम दो संस्करण होते हैं – एक लंबा गाना और एक छोटा गाना और छोटा गाना आम तौर पर घर में इस्तेमाल किया जाता है और लंबा गाना बाहर के लोग प्रयोग करते हैं। कोंगथोंग में लगभग 700 ग्रामीण हैं और नाम के हिसाब से गांव में 700 अलग-अलग धुनें हैं।

खासी जनजाति के एक व्यक्ति और कोंगथोंग गांव के निवासी फिवस्टार खोंगसित ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि किसी व्यक्ति को संबोधित करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली ‘धुन’ बच्चे के जन्म के बाद माताओं द्वारा बनाई जाती है। “यदि कोई ग्रामीण मरता है, तो उसके साथ-साथ उस व्यक्ति की धुन भी मर जाती है। हमारी अपनी धुनें होती हैं और मां ने इन धुनों को बनाया है। हमने धुनों को दो तरह से इस्तेमाल किया है – लंबी धुन और छोटी धुन हमारे पास हैं। “

ग्रामीण ने बताया कि हमारे गांव या घर में छोटी धुन का इस्तेमाल करते थे। मेरी धुन मेरी मां ने बनाई थी। यह व्यवस्था हमारे गांव में पीढ़ी-दर-पीढ़ी चली आ रही है। हमें नहीं पता कि यह कब शुरू हुई। लेकिन, सभी ग्रामीण इससे बहुत खुश हैं, ” फिवस्टार खोंगसिट ने समझाया। कोंगथोंग गांव के एक अन्य स्थानीय जिप्सन सोखलेट ने कहा कि ग्रामीण एक-दूसरे से संवाद करने के लिए धुनों का भी इस्तेमाल करते हैं।

बच्चा पैदा होने पर मां बनाती है गाने की धुन

फिवस्टार खोंगसित ने बताया “हमारे गांव में लगभग 700 की आबादी है, इसलिए हमारे पास लगभग 700 अलग-अलग धुनें हैं। इन धुनों का उपयोग केवल संचार के लिए किया गया है, न कि उनके मूल नामों को बुलाने के लिए। हमने पूरे गीत या धुन का उपयोग अन्य ग्रामीणों के साथ संवाद करने के लिए किया है। जंगल या मैदान, सबके लिए  गीत एक है, लेकिन दो अलग-अलग तरीके हैं – एक पूर्ण गीत या धुन और एक छोटी धुन। एक नया बच्चा पैदा होने पर मां द्वारा रचित धुन।

एक नया बच्चा पैदा होने पर एक नया गीत पैदा होता है। यदि एक व्यक्ति मर जाता है तो उसका गीत या धुन भी मर जाएगी, उस गीत या धुन का फिर कभी उपयोग नहीं किया जाएगा। यह प्रणाली पारंपरिक रूप से पीढ़ी-दर-पीढ़ी चली आ रही है। हम इन प्रथाओं को जारी रख रहे हैं। “

उन्होंने कहा कि अब मेघालय के कुछ अन्य गांवों के लोग भी इस प्रथा को अपना रहे हैं। पिछले साल, पर्यटन मंत्रालय ने देश के दो अन्य गांवों के साथ-साथ कोंगथोंग गांव यूएनडब्ल्यूटीओ (विश्व पर्यटन संगठन) के ‘सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गांव’ पुरस्कार का चयन किया। 2019 में, बिहार के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने गांव को गोद लिया और गांव के लिए यूनेस्को टैग का सुझाव दिया। 

ये भी पढ़ें:

मार्च की शुरुआत में ही IMD का हीट वेव अलर्ट, तापमान होगा 40 डिग्री के पार, जानें मौसम में बेरुखी की वजह

संजय राउत ने रेट कार्ड किया जारी: शिंदे ने MLA को 50 करोड़, MP को 75 करोड़ में खरीदा

Latest India News