Home Bhopal यहां नदी के बीच में से गुजरती है अंतिम यात्रा, बारिश में...

यहां नदी के बीच में से गुजरती है अंतिम यात्रा, बारिश में कई दिन घर में रखा रहता है शव

72
0
The last journey passes through the river in GWALIOR MPSG

ग्वालियर. ग्वालियर (Gwalior) जिले में एक ऐसा गांव है जहां नदी में लोग हर हर गंगे या नर्मदे नहीं बल्कि राम नाम सत्य कहते सुनाई देते हैं. यहां नदी के बीच में से शवयात्रा (Funeral Procession) गुजरती है. एक तरफ मुक्तिधाम है और दूसरी तरफ गांव. बीच में नदी पर रपटा या पुल पुलिया नहीं है इसलिए गांव वालों की मजबूरी इसमें से होकर गुजरने की है भले ही वो जिंदा हों या मुर्दा.

शासन प्रशासन भले ही  विकास के दावे करे, लेकिन ग्रामीण इलाकों में आज भी बदहाली बरकरार है. बदहाली का नज़ारा ग्वालियर जिले के खेड़ी रायमल गांव में देखने मिलता है. मौसम चाहें कोई भी हो गर्मी, सर्दी या बारिश. लोगों को नदी में से मुक्तिधाम पहुंचना पड़ता है.

जोखिम भरी अंतिम यात्रा…
ऐसा दृष्य आम है. गांव में रहने वाले विद्याराम शर्मा के भाई की मौत हो गई. उनका अंतिम संस्कार करने के लिए परिवार और गांव वाले अपनी जान जोखिम में डालकर नदी पार कर मुक्तिधाम पहुंचे. मुक्तिधाम तक का रास्ता करीब एक किमी का है. इसी रास्ते में गांव के लोग अपनी जान जोखिम में डालकर मुक्तिधाम तक पहुंचने को मजबूर हैं.

बारिश में होती है मुश्किल
विद्याराम शर्मा और अन्य ग्रामीणों का कहना है गांव में श्मशान  चिन्हित की गयी जमीन के बजाए नदी पार बना दिया गया है. नदी में जनवरी फरवरी तक पानी रहता है. बारिश के दिनों में ज़बरदस्त उफान रहता है. कई बार ये हालात रहते हैं कि अगर किसी के घर कोई मौत हो जाती है, तो नदी का जल स्तर कम होने के इंतज़ार में  कई दिन तक शव घर पर रखना पड़ता है. जब नदी का पानी उतर जाता है तब अंतिम संस्कार हो पाता है.

नदी पार करने नहीं बना रपटा
गांव वालों का कहना है पहले तो श्मशान घाट गलत जगह बना दिया गया, उसके बाद वहां तक पहुंचने के लिए नदी पर रपटा भी नहीं बनाया गया है. गांव वालों का कहना है उन्होंने कई बार प्रशासन से रपटा बनवाने की गुहार लगाई. केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर तक को लिखित में आवेदन दे चुके हैं लेकिन किसी पर कोई असर नहीं है. SDM प्रदीप शर्मा का कहना है कि गांव में चिन्हित जगह पर शमशान क्यों नही बनाया गया, इसकी जांच करेंगे. लोगों की समस्या हल करने के लिए जल्द ही कार्रवाई की जाएगी.