Home Badwani राकेश टिकैत के मंच पर पहुंचते ही गिरा टेंट

राकेश टिकैत के मंच पर पहुंचते ही गिरा टेंट

41
0

बड़वानी. नर्मदा बचाओ आंदोलन के 36 वर्ष पूरे होने पर मंगलवार को नर्मदा बचाओ आंदोलन ने किसान, मजदूर जन संसद का आयोजन किया। इसमें दूर-दूर से अलग-अलग संगठनों के लोग भी शामिल हुए। संसद में आए किसान नेता राकेश टिकेत ने मीडियाकर्मियों से चर्चा में कहा कि आंदोलन की शुरुआत नर्मदा बचाओ आंदोलन से हुई। इसलिए आज आयोजित संसद में मैं भी शामिल होने आया हूं।

राकेश टिकैत ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये सरकार किसी विचार धारा या देश की नहीं है, ये सरकार उद्योगपतियों की सरकार है। ये सिर्फ बड़े-बड़े उद्योगपतियों की चिंता करती है। टिकैत ने कहा कि सरकार किसान नीतियों को लेकर देश को गुमराह करने का काम कर रही है। स्वामीनाथन की रिपोर्ट को लेकर कहा कि जो सिफारिश लागू की गई है, ये सिर्फ गुमराह करने वाली है। इसे लागू करने में भी सरकार ने गुमराह किया है, जो नीति तय होना था वह न करते हुए उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने का काम किया है, ये सरकार उद्योगपतियों की सरकार है।

मंच पर पहुंचते ही जोरदार बारिश से गिरा पंडाल

नर्मदा बचाओ आंदोलन के 36 वर्ष पूर्ण होने पर आयोजित किसान मजदूर जन संसद में मंच पर राकेश टिकैत योगेंद्र यादव के मंच पर पहुंचते ही जोरदार बारिश शुरू हुई। इस दौरान पांडाल कई जगह से गिरा। मंच के ऊपर गिरते पंडाल को पकड़ कर लोग खड़े हो गए। मूसलाधार बारिश से आयोजन को रोका गया।