Home Jhabua श्री हनुमान जन्मोत्सव का आयोजन बडी धूम धाम से मनाया गया

श्री हनुमान जन्मोत्सव का आयोजन बडी धूम धाम से मनाया गया

29
0

जगह जगह हुई महाआरती एवं विषाल प्रसादी भंडारी में भक्तजनो ने प्रसादी का लिया लाभ
मंदिरो में हजारो की संख्या मे भक्तजनो ने किये दर्षन
राजनीतिक पार्टी के पदाधिकारियो ने भगवान हनुमान के समक्ष नतमस्तक

झाबुआ। राकेश पोद्दार। गुरूवार 6 मार्च को हनुमान जन्मोत्सव बडी धूम धाम से मनाया गया। जिसमें हजारो की संख्या मे नगरवासियो ने दर्षनो का लाभ लिया। श्री हनुमान जन्मोत्सव को लेकर विगत कई समय से तैयारियो का दौर चल रहा था।

जानकारी देते हुए श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर समिति अध्यक्ष अरूण भावसार एवं वरिष्ठ गजेन्द्रसिंह चंद्रावत ने बताया कि श्री संकटमोचन सेवा समिति हनमुान टेकरी पर विषाल आयोजन किया गया। जिसमें आयोजन 4 अप्रेल, मंगलवार से आरंभ हुये। जिसमें प्रथम दिन मंगलवार सुबह 8 से 9 बजे तक अमृतवाणी संकिर्तन बाद शाम 7 बजे से नन्हें बालक-बालिकाओं के लिए फेंसी ड्रेस प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। वही रात्रि 8 बजे से प्रश्न-मंच प्रतियोगिता रखी गई। जिसका विषय ‘‘विक्रम संवत महान, रहे त्यौहारों का ज्ञान’’ रखा गया। इसी प्रकार 5 अप्रेल, बुधवार सुबह 6 से शाम 6 बजे तक श्री अखंड राम-नाम जाप बाद रात्रि 8 बजे से संगीतमय सुंदरकांड पाठ टीकमगढ़ की मंडली द्वारा किया गया। इस दौरान आदिवासी अंचल झाबुआ के सुरीले गायकों की भी धर्ममय प्रस्तुति दी। आदिवासी धर्म रक्षा समिति के वाल्मिकी कुल की भजन मंडली द्वारा यह दायित्व निभाया गया। 6 अप्रेल को जन्मोत्सव पर महाआरती एवं भंडारे का होगा भव्य आयोजन किया गया। समिति सचिव दिनेश चैहान ने बताया कि 6 अप्रेल, गुरूवार को हनुमान जयंती पर सुबह 6 बजे जन्मोत्सव आरती बाद 8 बजे से श्री पंचकुंडीय मारूति यज्ञ मंदिर परिसर में किया गया। श्री संकट मोचन हनुमानजी को अन्नकूट का नैवेध लगाकर दोपहर 12 बजे महाआरती एवं ध्वज यात्रा की आगवानी की गई। दोपहर 12.30 बजे से मंदिर परिसर में भव्य भंडारे का आयोजन किया गया।

जिसमें बडी संख्या मे नगरवासियो सहित आस पास ग्रामीणो के द्वारा इस भंडारे मंे प्रसादी को ग्रहण किया। इस बीच एमपी म्यूजिक ग्रुप द्वारा संगीतमय भजनों की सुंदर प्रस्तुति रही। तत्पष्चात रात्रि 8.30 बजे से धार्मिक भजनों एवं देशक्ति गीतों पर आधारित नृत्य प्रतियोगिता की जाएगी। इसके साथ ही तीन दिवसीय महोत्सव का समापन होगा। नगर में राजवाडा स्थित राम मंदिर से युवाओ के द्वारा विषाल शौर्य यात्रा निकाली गई जो श्री संकट मोचन हनुमान टेकरी हनुमान मंदिर पहुची जहां विषाल यात्रा का समिति के सदस्यो द्वारा पुष्पमाला पहनाकर भव्य स्वागत किया गया।
नगर के मध्य में स्थित वाडी हनुमान मंदिर पर भी भक्तो की लंबी कतार अलसुबह से ही लगी हुई दिखाई दी। वही भक्तजनो ने दर्षन लाभ के साथ ही प्रसादी का लाभ भी प्राप्त किया। इसी के साथ ही पोलिटेक्निेक काॅलेज स्थित बालाजी धाम हनुमान मंदिर पर भी भक्तो ने दर्षन लाभ लिये। साथ ही विषाल भंडारे के आयोजन में भक्तो के द्वारा प्रसादी ग्रहण की गई। दर्षनो का दौर अलसुबह से ही लगा रहा। जिसमें हजारो की संख्या में हनुमान मंदिरो पर भक्तो की भीड दिखाई दी। मंदिरो मे विषेष साज संज्जा करवाई गई। वही अधिक भीड ना हो इसकी लिये कतार बद्ध भक्तो की दर्षनो की व्यवस्था की गई।

मंदिरो में राजनीतिक पार्टी के पदाधिकारीगण भी दर्षनो का लाभ लेने पहुचे। जिसमें भाजपा जिलाध्यक्ष भानु भूरिया द्वारा हनुमान टेकरी स्थित श्री संकटमोचन हनुमान मंदिर पर माथ टेका। साथ ही नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमी कविता सिंगार, उपाध्यक्ष लाखनसिंह सोलंकी एवं बिट््टु सिंगार भी उपस्थित रहे। नगर में बडी संख्या में लोगो ने दर्षन लाभ लिय। इस महा भंडारे में पूर्व विधायक शांतिलाल बिलवाल एवं भाजपा महामंत्री सोम सिंह जनपद अध्यक्ष प्रतिनिधी हरू भूरिया, प्रदेश युवक कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत भूरिया भी पहुंचे और भंडारे में शामिल हुए।

नगर के बडे तालाब बहाद्दुर सागर तालाब स्थित बडा हनुमान मंदिर जो कि अति प्राचीन मंदिर है जो करीब 250 वर्ष पुराना बताया गया है पर अलसुबह से ही दर्षन के लिये लोगो का तांता लग गया। वही मंदिर में 250 वर्ष से लगातार दीपक की लो को प्रज्जवलित किया जा रहा है। वही मंदिर के संचालक पंडित शरद चन्द्र शुक्ला द्वारा बताया गया कि यह हनुमान जी की मूर्ति पुरी सिंदूर की बनी हुई है जो कि करीब 10 क्विंटल सिंदूर से बनी हुई है। यहा पर 24 घंटे दीपक जलता रहता है जिसमें इस दीपक को चमत्कारी माना है जिससे की कई लोगो के आॅखो की रोषनी भी बढी है। ़इस मंदिर पर एक अलग बात यह है कि यहा पर सरस्वतीजी की जो मूर्ति है वह भी सिंदूर से बनी हुई है। वही भेैरव जी मूर्ति में भी चमत्कार हुये है जिसमें एक तरफ का भाग अपने आप निर्मित हुआ है। इनके अलावा भी अष्टधातुओं की मूर्तिया भी बनी हुई है जो दिपावली के समय निकाली जाती है। दीपक को मिठे तेल से प्रज्जवलित कर रखा गया है। जो 24 घंटे जलता रहता है। वही जिस पर दीपक को रखा रखा गया है वह स्तम्भ भी अपने आप में चमत्कार है जो अभी तक पता नही चला है कि वह किस चीज से बना हुआ है। कई आंधी तूफान आये लेकिन इस दीपक को बुझा नही पाये। वही उक्त मंदिर के दर्षन के लिये नगर ही नही बल्कि आसपास के क्षेत्र से भी हनुमान जी के दर्षन के लिये आते है।