Home Bhopal Sawan 2023: अहंकार का नाश करते हैं श्री गुहेश्वर भगवान, 84 महादेव...

Sawan 2023: अहंकार का नाश करते हैं श्री गुहेश्वर भगवान, 84 महादेव में है दूसरा स्थान | ujjain news sawan 2023 mahakaleshwar ujjain know about Shri Guheshwar Mahadev Temple stwa

9
0
Sawan 2023: अहंकार का नाश करते हैं श्री गुहेश्वर भगवान, 84 महादेव में है दूसरा स्थान

श्री गुहेश्वर महादेव मंदिर.Image Credit source: TV9

Ujjain News: अब तक आपने कई शिव मंदिरों के दर्शन किए होंगे, जो कि पूजन अर्चन और दर्शन से समस्त संकटों को दूर कर देते हैं, लेकिन आज हम एक ऐसे शिव मंदिर की जानकारी आप लोगों तक पहुंचा रहे हैं जो कि भक्तों के अहंकार का नाश करते हैं. यदि भक्त पूरी श्रद्धा से इनकी पूजा-अर्चना करता है तो न सिर्फ उसके अहंकार का नाश होता है, बल्कि उसका धर्म और अब तक किया गया तप कभी भी समाप्त नहीं होता.

उज्जैन के रामघाट पर पिशाच मुक्तेश्वर के पास सुरंग के भीतर अति प्राचीन श्री गुहेश्वर महादेव का मंदिर है, जो कि अत्यंत चमत्कारी होने के साथ ही उज्जैन में विराजित चोरियासी महादेव के दूसरे स्थान पर आता है. मंदिर के पुजारी पंडित गौरव उपाध्याय और पंडित राहुल उपाध्याय ने बताया कि श्री गुहेश्वर महादेव का मंदिर रामघाट पर श्री पिशाच मुक्तेश्वर मंदिर के दक्षिण में स्थित है, जो कि एक सुरंग की तरह है. यहां भगवान श्री गुहेश्वर भूतल में विराजमान है. मंदिर में भगवान की काले पत्थर की प्रतिमा अत्यंत चमत्कारी एवं दिव्य है. प्रवेश द्वार के ऊपर मध्य में गणेशजी प्रतिमा है, जो कि अत्यंत दिव्य है.

ये भी पढ़ें- Sawan 2023: भगवान मंगलनाथ मंदिर में होती है मंगल ग्रह की विशेष पूजा, जानिए क्या है मान्यता

मंदिर के पुजारी पंडित गौरव उपाध्याय ने बताया कि वैसे तो गुहेश्वर महादेव के दर्शन मात्र से ही समस्त पापों का नाश हो जाता है, लेकिन मान्यता है कि जो व्यक्ति शिवलिंग का दर्शन पूजन करता है, उसके अहंकार को भगवान गुहेश्वर समाप्त कर देते हैं और उनकी कृपा से उस श्रद्धालु के धर्म और तप भी कभी कम नहीं होता है. मंदिर के पुजारी ने यह भी बताया कि अष्टमी और चतुर्दशी तिथि पर इस शिवलिंग के दर्शन करने से मनुष्य के पितरों को ब्रह्मलोक की प्राप्ति होती है.

सावन महीने में किया जा रहा विशेष श्रंगार और पूजन

वैसे तो श्री गुहेश्वर महादेव की प्रतिदिन ही विशेष पूजा-अर्चना की जाती है, लेकिन श्रावण भादो मास में भगवान के विशेष पूजन-अर्चन का क्रम जारी रहता है. प्रतिदिन मंदिर में भगवान का रुद्राभिषेक कर विशेष श्रंगार किया जाता है, जिसके बाद आरती पूजन का क्रम जारी रहता है. मंदिर में इन दिनों अधिकमास के कारण बड़ी संख्या में श्रद्धालुजन श्री गुहेश्वर महादेव का पूजन-अर्चन करने पहुंच रहे हैं और उनका आशीर्वाद प्राप्त कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- Sawan 2023: पुजारी के स्वप्न में आकर प्रकट हुए थे बृहस्पतेश्वर महादेव, यहां पीली वस्तु चढ़ाने से दूर होते हैं सभी संकट