Home Dharm सर्व पितृ अमावस्या ; 11 साल बाद बन रहा है यह विशेष...

सर्व पितृ अमावस्या ; 11 साल बाद बन रहा है यह विशेष योग…करें ये उपाय

44
0

 सर्व पितृ अमावस्या पितृपक्ष या श्राद्ध पक्ष का आखिरी दिन होता है। इसे विसर्जनी अमावस्या भी कहते हैं। इस साल सर्व पितृ अमावस्या 06 अक्टूबर, बुधवार को है। इस दिन उन सभी पितरों का श्राद्ध किया जाता है, जिनकी तिथि परिजनों को ज्ञात नहीं होती है। आश्विन मास में पड़ने वाली सर्व पितृ अमावस्या के दिन इस साल विशेष संयोग बन रहा है। जानिए शुभ मुहर्त, विशेष संयोग और तर्पण की विधि-

सर्व पितृ अमावस्या पर गजछाया योग-

इस साल सर्व पितृ अमावस्या पर गजछाया योग बन रहा है। इससे पहले यह योग 11 साल पहले 2010 में बना था। गजछाया योग को बेहद शुभ माना जाता है। 06 अक्टूबर को सूर्योदय से सूर्य और चंद्रमा शाम 04 बजकर 34 मिनट तक हस्त नक्षत्र में होंगे। इस स्थिति के कारण गजछाया योग बनता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, गजछाया योग में श्राद्ध या तर्पण करने से पितर प्रसन्न होते हैं। कहते हैं कि इस योग में श्राद्ध और दान करने से पितरों की क्षुधा अगले 12 सालों के लिए शांत हो जाती है। अब ये योग 8 साल बाद 2029 में बनेगा।

सर्व पितृ अमावस्या के दिन करें ये उपाय-

सर्व पितृ अमावस्या के दिन गजछाया योग बन रहा है। इस दिन गजछाया योग में पितरों का श्राद्ध करें और घी मिली हुई खीर का दान करें। मान्यता है कि ऐसा करने से पितर अगले 12 सालों तक तृप्त हो जाते हैं। इसके अलावा गरीबों व जरुरतमंदों को दान देना चाहिए। मान्यता है कि अन्न और वस्त्र के दान से जीवन के सभी संकट दूर हो जाते हैं।

भूलकर भी न करें ये काम

मान्यता है कि सर्वपितृ अमावस्या के दिन अगर कोई व्यक्ति दान- दक्षिणा लेने आता है तो उसे खाली हाथ न लौटाएं। इस दिन कोई व्यक्ति आपके घर खाना मांगने आता है तो खाली पेट नहीं जान दें। ऐसे लोगों को आटा- चावल का दान करना चाहिए। अमावस्या के दिन मांस- मंदिरा और प्याज, लहसुन खाने से परहेज करना चाहिए। ऐसा करने से पितृदोष लगता है। इसलिए इन चीजों को नहीं खाना चाहिए। सर्वपितृ अमावस्या के दिन बाल और नाखून नहीं काटने चाहिए। इस दिन दाढ़ी भी नहीं बनानी चाहिए। शास्त्रों में इन चीजों को करना अशुभ माना जाता है।