Home Crime Update: सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: जिस हाथ से दलित ने छुआ ‘सर्बलोह ग्रंथ’,...

Update: सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: जिस हाथ से दलित ने छुआ ‘सर्बलोह ग्रंथ’, निहंगों ने उसे काट डाला, वाइरल विडियो के बाद सोशल मीडिया पर फूटा जनता का गुस्सा तो पुलिस पर बढ़ा दबाव तब जाकार हुई कारवाई…नोटो की माला फूलों की बारिश कर आरोपी हत्यारों का सम्मान

136
0
नोटो की माला फूलों की बारिश कर आरोपी हत्यारों का सम्मान

नई दिल्ली: देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और हरियाणा की सीमा सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर बीते शुक्रवार को एक दलित युवक लखबीर सिंह (Lakhbir Singh) की हत्या (Murder) कर दी गई थी. उसके हाथ और पैर को काट दिया गया था. सिंघु बॉर्डर पर चल रहे प्रदर्शन में शामिल एक शख्स ने ज़ी न्यूज़ को Exclusive जानकारी देते हुए बताया कि इसी साल जून महीने में मृतक लखबीर सिंह सिंघु बॉर्डर प्रदर्शनस्थल पर आया था.

निहंगों की सेवा करता था मृतक लखबीर सिंह

उसने बताया कि मृतक लखबीर सिंह निहंगों के साथ ही उनके टेंट में रहता था. निहंगों ने लखबीर सिंह को टेंट की साफ सफाई और उनके कपड़े धुलने का का काम दिया था. बदले में उसके रहने और खाने-पीने का इंतजाम निहंग करते थे.

वारदात वाले दिन क्या हुआ था?

बीते 14-15 अक्टूबर की दरमियानी रात में जब लखबीर सिंह निहंगों के सोने से पहले साफ-सफाई कर रहा था तो वो निहंगों के टेंट में रखे ‘सर्बलोह ग्रंथ’ को उसकी जगह से हटा कर वहां की सफाई करने लगा.

ये देख कर भड़क गए निहंग

जान लें कि लखबीर सिंह जब सफाई कर रहा था तब सर्बलोह ग्रंथ जमीन पर उसके पैर के पास था. इतने में एक निहंग टेंट के अंदर आया और उसने ये देखने के बाद लखबीर सिंह को मारा पीटा और उस पर सर्बलोह ग्रंथ का अपमान करने का आरोप लगाया.

इतने में कई और निहंग आ गए और जैसे ही उन्हें पता चला कि लखबीर सिंह ने सफाई के लिए सर्बलोह ग्रंथ को जमीन पर अपने पैर के पास रखा था. उन्होंने भी लखबीर सिंह को पीटना शुरू कर दिया. जिसके बाद लखबीर सिंह ने भागने की कोशिश की लेकिन उसे पकड़ लिया गया और उसके हाथ-पैर बांध कर निहंग जत्थेदार अमनदीप सिंह और बाबा नारायण सिंह के सामने पेश किया गया.

जहां अमनदीप सिंह और बाबा नारायण सिंह ने निहंगों के समूह के साथ लखबीर सिंह से पूछताछ करने के बाद उसका हाथ जिससे लखबीर सिंह ने सर्बलोह ग्रंथ छुआ था और पैर जिसके पास सर्बलोह ग्रंथ रखा देखा गया था, उसे काटने का हुक्म सुना दिया.

फूलों की बारिश कर आरोपी हत्यारों का सम्मान

सूत्रों के मुताबिक पकड़े गए निहंगों (Nihang Sikh) के नाम गोविंद प्रीत सिंह और भगवंत सिंह हैं. मीडिया और पुलिस का दबाव बढ़ने के बाद उन्होंने शनिवार को सोनीपत पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया. सरेंडर से पहले दूसरे निहंगों ने फूलों की बारिश और माला पहनाकर इस हत्याकांड पर उनका सम्मान किया. पुलिस अब उनसे अलग-अलग पूछताछ कर दूसरे आरोपियों के बारे में सुराग लगाने में जुटी है.

आरोपी बाबा नारायण को अमृतसर से पकड़ा गया

इस मामले में सोनीपत पुलिस ने शुक्रवार को सरबजीत सिंह नाम के निहंग को पकड़ा था. वहीं बाबा नारायण सिंह (Nihang Baba Narayan Singh) सिंघु बॉर्डर से फरार हो गया. जिसे अमृतसर पुलिस ने शनिवार को अमरकोट गांव से दबोच लिया. अब दो और आरोपी पुलिस की पकड़ में आ गए हैं. सूत्रों के मुताबिक आने वाले दिनों में पुलिस इस हत्या में शामिल कई और लोगों की गिरफ्तारी भी कर सकती है.

 

Update

सीमा सिंघु बॉर्डर कांड के तीन आरोपियों को सोनीपत कोर्ट लाया गया। 15 अक्टूबर को जहां किसानों का विरोध प्रदर्शन चल रहा था, वहां एक व्यक्ति का शव उसके हाथ, पैर कटा हुआ मिला था। सीमा सिंघु बॉर्डर  कांड के तीनों आरोपी नारायण सिंह, भगवंत सिंह और गोविंद प्रीत सिंह को 6 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। उन्हें आज सोनीपत कोर्ट में पेश किया गया।