Home Jhabua अंतरवेलिया चैकी के प्रभारी सहायक उप-निरीक्षक राजेन्द्र शर्मा को लोकायुक्त पुलिस इंदौर...

अंतरवेलिया चैकी के प्रभारी सहायक उप-निरीक्षक राजेन्द्र शर्मा को लोकायुक्त पुलिस इंदौर ने 20 हजार रू. की रिश्वत लेते रंग हाथों किया गिरफतार

9
0

एनडीपीएस एक्ट में दर्ज प्रकरण में गांजे की मात्रा कम करने की एवज में मांगे थे 50 हजार रू., 20 हजार रू. लेते रंग-हाथों पकड़ा गया
पुलिस अधीक्षक ने राजेन्द्र शर्मा को किया निलंबित

झाबुआ। राकेश पोद्दार। मप्र सरकार के महत्वपूर्ण नशा मुक्ति अभियान को भी जिले में कुछ पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों ने कमाई का जरिया बना लिया है। ताजा मामला समीपस्थ अंतरवेलिया पुलिस चैकी का सामने आया है, जहां पदस्थ चैकी प्रभारी राजेन्द्र शर्मा ने अवैध रूप से पकड़ाएं गए गाजों के पौधे के एक दर्ज प्रकरण में रिपोर्ट में गांजे की मात्रा करने की एवज में रमेश सुरतान से करीब 50 हजार रू. की मांग की थी, जिसमें से 20 हजार रू. रिश्वत लेते लोकायुक्त पुलिस ने चैकी प्रभारी शर्मा को रंग-हाथों धरदबोचा। मिली जानाकरी के अनुसार राजेन्द्र शर्मा के खिलाफ अंतरवेलिया चैकी पर लोकायुक्त पुलिस ने काफी देर तक कार्रवाई बाद भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया गया। वहीं एसपी श्री अगम जैन ने आरोपी राजेन्द्र शर्मा को पद से निलंबित कर दिया है।

                  लोकायुक्त की टीम द्वारा कार्यवाही करते हुये
थ्मली अनुसार वर्तमान में अंतवेलिया चैकी में पदस्थ चैकी प्रभारी राजेंद्रकुमार शर्मा ने एनडीपीएस एक्ट में गांजे की मात्रा कम करने को लेकर आवेदक रमेश सुरतान से कुल 50 हजार रू. की रिश्वत की मांग की थी। रमेश सुलमान ग्राम पचंायत सरपंच बताए जाते है। उनके द्वारा इसकी षिकायत मय सूबतो के लोकायुक्त पुलिस इंदौर को की गई। लोकायुक्त की टीम ने 29 नवंबर, मंगलवार दोपहर करीब 1 बजे आवेदक से राजेन्द्र शर्मा को रिश्वत लेते रंग हाथों गिरफतार किया। बाद यहां पुलिस चैकी पर राजेन्द्र शर्मा के खिलाफ लोकायुक्त की लंबी कार्रवाई चली। बाद बताया जाता है कि देर शामयहां से आरोपी को पुलिस अधीक्षक कार्यालय लाया गया। जहां भी लोकायुक्त टीम ने आरोपी से काफी देर पूछताछ की। लोकायुक्त टीम इंदौर के अधिकारियों से चर्चा करने पर बताया कि आरोपी राजेन्द्र शर्मा के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम एवं अन्य धारों में कायमी की गई है।
पुलिस अधीक्षक ने शर्मा को लिया निलंबित
पुलिस अधीक्षक अगम जैन ने बताया कि आरोपी राजेन्द्र शर्मा द्वारा रिश्वत लेने के चलते लोकायुक्त पुलिस इंदौर की कार्रवाई बाद दोषी पाते हुए शर्मा को पद से निलंबित कर दिया गया है। जिला पुलिस विभाग की ओर से भी इस मामले में पूरी जांच की जाएगी। यहां हम आपको बता है कि राजेन्द्र शर्मा पूर्व में झाबुआ शहर में यातायात पुलिस में भी प्रधान आरक्षक के पद पर पदस्थ रह चुके है। इसके बाद एएसआई बनने पर पुलिस थाना झाबुआ बाद जिले के कई थानों एवं चैकियों में भी रहे। एसपी कार्यालय में संचालित क्राईम ब्रांच में भी रहे। पिछले करीब डेढ़ से दो वर्ष से अंतरवेलिया चैकी में बतौर चैकी प्रभारी के रूप में सेवाएं ़दे रहे थे। लोकायुक्त पुलिस एवं जिला पुलिस विभाग की ओर से आरोपी राजेन्द्र शर्मा से इस मामले में सत्त पूछताछ जारी रहेगी।