Home Jhabua पास्का जागरण रात्रि पर्व कैथोलिक महागिरजाघर में हुआ संपन्न

पास्का जागरण रात्रि पर्व कैथोलिक महागिरजाघर में हुआ संपन्न

18
0

पास्का जागरण पर्व…………….
विश्व में मना हर्षोल्लास से पास्का पर्व

झाबुआ। राकेश पोद्दार। लगभग दो हजार साल पूर्व से चली आ रही पंरम्परा पास्का जागरण रात्रि कैथोलिक महागिरजाघर में संपन्न हुई। सम्पूर्ण मानव इतिहास की सबसे महान एवं महत्वपूर्ण घटना घटित हुई, जो येसु के पुनर्जीवित होने की घटना है। इस घटना का स्मरोणत्सव आज ईसाई समुदाय पास्का पर्व के रूप में मनाता है। ख्रीस्तीय धर्मियों के लिए आज के पास्का जागरण की इस रात्री सेय शायद ही कोई अन्य रात्री पवित्र्र हो। आज सारी कलिसिया प्रभु येसु के पुनरूत्थान के पर्व को मनाने के लिए उत्सुक रहती है। प्रभु येसु का पुनरूत्थान ही ईसाई विश्वास की नींव है।

पास्का जागरण को पुनरूथान की रतजगा भी कहा जाता है, जिसका अर्थ है- प्रभु येसु काय मृत्यु से, जीवन में उत्थान और सभी ख्रीस्त धर्मियों काय पाप रूपी मृत्यु से, ख्रीस्त रूपी जीवन में उत्थान। उक्त पर्व में हजारो की संख्या मे ईसाइ समाजजनो के द्वारा पवित्र गिरजाघर कैथोलिक चर्च मे एकत्रित होकर पास्का पर्व रात्री जागरण की पवित्र मिसा में सम्मिलित हुये। वही फादर पीटर खराडी के द्वारा उक्त समारोह एवं आयोजन की विशेष प्रार्थना की। वही सभी ईसाइ समाजजनो को पास्का पर्व एवं प्रभु ईशु के मृत्यु के साथ साथ जन्म होने तक के वृतांत का वर्णन किया। कई भाई बहनो के द्वारा पवित्र ग्रंथ बाईबिल के उपदेशो का भी वर्णन किया। जिसमें सृष्टि के निर्माता का भी वर्णन किया। ईसाइ समाजजनो के द्वारा उक्त पास्का पर्व की रात्री जागरण पर कैथोलिक चर्च प्रांगण में एकत्रित होकर अंधेरे से दीपक की ओर उजाला का संदेश देते हुये मोमबत्तियो का जलाया गया।

पास्का जागरण समारोह को चार भागों मे विभाजित किया गया। समारेाह के पहले भाग में, ज्योति का धर्मानुष्ठान हुआ, जिसमें में पास्का के मोमबती को प्रज्वालित किया गया। जो मसीह के पुनरूत्थान के प्रकाश का चिन्ह है। धर्म विधी की प्रस्तवाना का वाचन श्रीमती मंजुला बारिया द्वारा किया गया। पास्का की मोमबत्ती पर दो यूनानी शब्द अल्फा और ओमेगा अंकित हैं, ख्रीस्त को संसार के शुरूआत से, अंत तक के सभी समय, वस्तु और मानव जाति का राजा घोषित करते है, तत्पष्चात लोबान की पाँच कीलों को मोमबत्ती पर जड़ दिया गया। जो ख्रीस्त के पाँच घावों की ओर इंगित करता हैं, जो उनके हाथों और पैरों में, क्रूस पर ठोंके जाते समय और बगल में भाले से छेदे जाने पर हुआ था। इसके बाद फादर पीटर खराडी व अन्य पुरोहितों ने ख्रीस्त की ज्योति ले कर प्रभु के मंदिर की ओर, प्रवेश किया।


दूसरे भाग में पुण्य शब्द समारोह हुआ जिस मंे नए एवं पुराने विधान से कुल पाँच पाठों का पाठन किया गया, जो मुक्ति इतिहास के प्रमुख घटनाओं का वर्णन करता है। पाठों का वाचन श्रीमती शांति डामोर, श्री मार्टिन डामोर, श्रीमती रोजी डामोर, श्रीमती ज्योत्सना सिंगाडिया, श्री मनवेल भूरिया, आलोक मचार, रोहित जाजोरा एवं कालुसिंह खडिया द्वारा किया गया। तीसरे भाग में पवित्र जल की आशीष की गई, स्नान संस्कार की प्रतिज्ञाओं का नवीनीकरण किया गया और उन प्रतिज्ञाओं के अनुसार ख्रीस्तीय जीवन को जीने के लिए प्रेरित किया गया। चैथे भाग में पास्का का यूख्रीस्तीय समारेाह संपन्न हुआ। जिस में सभी अपने तन और मन से भाग लिया।

उक्त पास्का पर्व रात्रि जागरण में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष डाॅ विका्रंत भूरिया ने भी पुरी पवित्र मिसा सुनकर ईसाइ समाजनो को पास्का पर्व की बधाई दी। वही देश में अमन व चेन का संदेश दिया। बेन्जामिन निनामा, लेवनार्ड वसुनिया, आंनंद खडिया एवं जेरोम वाखला की अध्यक्षता में संगीत दल ने अपने मधुर संगीतों से प्रार्थना मय माहौल तैयार किया।