Home Jhabua आरोग्य भारती मालवा प्रांत द्वारा यूनिक सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल इंदौर के विशेष...

आरोग्य भारती मालवा प्रांत द्वारा यूनिक सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल इंदौर के विशेष सहयोग से एक दिवसीय जिला स्तरीय निःशुल्क बाल विकलांगता निवारण जांच एवं सर्जरी शिविर का हुआ आयोजन

9
0

जिलेभर के 250 से अधिक दिव्यांग बच्चों की जांच कर 150 से अधिक बच्चों का यूनिक सुपर स्पेषलिटी हॉस्पिटल इंदौर में निःषुल्क आपरेशन के लिए हुआ चयन
शिविर में जिला प्रशासन, दिव्यांग पुनर्वास केंद्र के स्टाॅफ एवं अक्षर और अर्हम इंस्टीट्यट के नर्सिंग छात्र-छात्राओं ने भी पूर्ण सहयोग प्रदान किया

झाबुआ। राकेश पोद्दार। आरोग्य भारती मालवा प्रांत झाबुआ शाखा द्वारा शहर के समीपस्थ ग्राम रंगपुरा स्थित जिला दिव्यांग एवं पुनर्वास कंेद्र पर एक दिवसीय जिला स्तरीय निःषुल्क बाल विकलांगता निवारण जांच एवं सर्जरी शिविर का आयोजन 11 दिसंबर, रविवार सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक किया गया। जिसमें जिलेभर से, विशेषकर ग्रामीण अंचलों से आए शारीरिक रूप से दिव्यांग, विशेषकर ऊपरी (हाथं) एवं निचले (पैर) अंग से विकृत 15 वर्ष और उससे कम आयु के बालक-बालिकाओं की इंदौर के यूनिक सुपर स्पेषलिटी हॉस्पिटल की टीम ने जांच कर अधिकांश बच्चों का हाॅस्पिटल में निःशुल्क आॅपरेशन के लिए भी चयन किया। षिविर में 250 से अधिक विभिन्न प्रकार के दिव्यांग बालक-बालिकाओं की विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा जांच की गई। जिसके बाद 150 से बालक-बालिकाओं का इंदौर आॅपरेशन के लिए चयन किया गया। बच्चों को लाने-ले जाने, भोजन एवं आवास संबंधी समस्त सुविधाएं भी निःषुल्क उपलब्ध करवाई जाएगी।

जानकारी देते हुए आरोग्य भारती मालवा के प्रांत मंत्री डाॅ. वैभव सुराना ने बताया कि शिविर के शुभारंभ अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मालवा प्रांत के सह-व्यवस्था प्रमुख बलवसिंह हाड़ा, आरोग्य भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेन्द्र संचेती, राष्ट्रीय महासचिव नरेन्द्र भंडारी एवं राष्ट्रीय प्रोफेशनल कमेटी चेयरमैन निर्मल पगारिया उपस्थित रहे। विशेष अतिथि के रूप में कलेक्टर श्रीमती रजनी सिंह, नगरपालिका झाबुआ अध्यक्ष श्रीमती कविता सिंगार, आरोग्य भारती झाबुआ शाखा अध्यक्ष डॉ अर्पित गांधी मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता एवं सफल संचालन आरोग्य भारती मालवा प्रांत मंत्री डाॅ. वैभव सुराना ने किया।

इस अवसर पर मुख्य रूप से सामाजिक महासंघ जिलाध्यक्ष नीरजसिंह राठौर, सकल व्यापारी संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष पंकज जैन ‘मोगरा’, वरिष्ठ समाजसेवी एवं वरिष्ठ रोटेरियन अजय रामावत, वरिष्ठ शिक्षाविद् डाॅ. संतोष प्रधान, निजी चिकित्सा संगठन से डाॅ. अरविन्द दाताला, श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर सेवा समिति के पूर्व अध्यक्ष प्रेमअदीप सिंह पंवार, वरिष्ठ पत्रकार सचिन बैरागी, रोटरेक्ट क्लब सचिव दौलत गोलानी आदि भी उपस्थित रहे।े प्रारंभ में अतिथियों ने आरोग्यता के देवता भगवान धनवंतरिजी, मां सरस्वतीजी एवं भारत माता की तस्वीर पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्लवलन किया। बाद अतिथियों का पुष्पमाला एवं पुष्प गुच्छ भेंटकर अभिनंदन आरोग्य भारती संस्था से जुडे़ डॉ राकेश नायक, डॉ विजय मेरावत सह-प्रभारी डॉ अमित मेहता, डॉ मनोज गौड़, अंकित पोरवाल, पियूष मैड़तवाल, मंगल गहलोत एवं श्रीमती अलका दतला आदि ने किया। सभी अतिथियांे का परिचय शिविर प्रभारी डॉ सुमित सोनी ने दिया।

दिव्यांग एवं जरूरतमंदों की सेवा करना सबसे पुनित कार्य
अतिथियों ने अपने उद्बोधन में आरोग्य भारती संस्था की इस निःस्वार्थ सेवाओं की मुक्त कंठ से सराहना करते हुए कहा कि दिव्यांग और जरूरतमंदों की सेवा करने से बड़ा कोई ओर पुनित कार्य जीवन में नहीं हो सकता है। आज आरोग्य भारती संस्था ने यूनिक हाॅस्पिटल इंदौर के विशेष सहयोग से जो इतना वृहद स्तर पर कैंप लगाया है, जिसमें बड़ी संख्या में दिव्यांग बच्चें लाभांवित होकर उनकी आवश्यकता मद्द हो सकेगी। जिसका भरपूर पुनित लाभ संस्था को प्राप्त होगा। आप सभी ने कहा कि ‘‘मानव सेवा से बढ़कर जीवन में कोई भी सेवा नहीं होती है’। विशेषकर आवष्यकता वाले बच्चों और जरूरतमंदों की सेवा समय≤ पर जरूर करते रहना चाहिए।

इन्होंने प्रदान किया विशेष सहयोग एवं यह रहीं सुविधा
शिविर को सफल बनाने में विशेष सहयोग जिला दिव्यांग एवं पुनर्वास केंद्र के संचालक शैलेन्द्रसिंह राठौर के नेतृत्व में पूरे स्टाॅफ, अक्षर नर्सिंग इंस्टीट्यूट झाबुआ एवं अर्हम नसिंग इंस्टीट्यूट पेटलावद के डायेक्टर डाॅ. अल्पित गांधी के नेतृत्व में बड़ी संख्या में नर्सिंग छात्र-छात्राओं ने शिविर में अपनी सेवाएं प्रदान की। वहंी जिला प्रशासन एवं नगरपालिका प्रशासन की ओर से भी पूर्ण सहयोग प्राप्त हुआ। शिविर में आने वाले समस्त दिव्यांग बच्चों और उनके अभिभावकों के साथ सेवाएं देने वाले समस्त लोगों और अतिथियांे के भोजन की व्यवस्था आरोग्य भारती संस्था की ओर से की गई। वहीं शिविर स्थल पर पेयजल के साथ पंजीयन काउंटर, परामर्श केंद्र के साथ चिकित्सकों के उपचार के लिए कक्षों में पृथक-पृथक व्यवस्था की गई। करीब दो घंटे चला यह शिविर पूर्णतः सफल रहा। षिविर का लाभ लेने दिव्यांग केंद्र रंगपुरा पर सुबह 8.30 बजे से ही जिले के दूरस्थ स्थानांे, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों से बच्चों केा लेकर उनके अभिभावकों का विभिन्न माध्यमों से आना आरंभ हो गया था।
50 दिव्यांगों को प्रोस्थेसिस एवं कृत्रिम हाथ लगाए जाएंगे, व्हील चेयर एवं ट्रायसिकल भेंट करंेगे
षिविर के सूत्रधार आरोग्य भारती मालवा प्रांत मंत्री डाॅ. वैभव सुराना ने बताया कि यूनिक हाॅस्पिटल इंदौर के लिए करीब 150 बच्चों का चयन हुआ है, जिनके आने-जाने अर्थात परिवहन की व्यवस्था जैन फेडरेशन ग्रुप की ओर से की जाएगी। इसके अलावा वहां भोजन, आवास संबंधी सुविधा आरोग्य भारती संस्था की ओर से उपलब्ध करवाई जाएगी। वहंी सभी दिव्यांग बालक-बालिकाओं का निःशुल्क आॅपरेषन डॉ. प्रमोद नीमा, चेयरमैन यूनिक हॉस्पिटल इंदौर के नेतृत्व मंे किया जाएगा। 12 दिसंबर से प्रत्येक 5 दिन के अंतराल में 7–7 मरीजों की बैंच बनाकर उन्हें इंदौर सर्जरी के लिए भिजवाने की व्यवस्था रहेगी। इसके साथ ही 50 से अधिक मरीजों को प्रोस्थेसिस एवं कृत्रिम हाथ लगाए जाएंगे। इसके साथ ही 3 मरीजों को व्हीलचेयर प्रदान की जाएगी। 1 पेंशेट को ट्राय-साईकिल की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। षिविर में शहर के कई गणमान्य नागरिकों एवं समाजसेवियों ने भीसहभागिता की। कैंप की सफलता पर आरोग्य भारती मालावा प्रांत शाखा झाबुआ ने सभी अप्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष सहयोगियों के प्रति आभार माना है।