Home Jhabua नवकार करे भव पार …., 12 वर्ष से लेकर 90 वर्षीय महिला...

नवकार करे भव पार …., 12 वर्ष से लेकर 90 वर्षीय महिला भी कर रहीं श्री नमस्कार महामंत्र की आराधना, आराधना में प्रतिदिन तीन समय देववंदन, दो समय प्रतिक्रमण के साथ 2160 बार किया जा रहा श्री नमस्कार महामंत्र का जाप

62
0

23 अगस्त को सभी तपस्वियों के पारणे एवं स्वामी वात्सल्य का होगा आयोजन

झाबुआ।राकेश पोद्दार। नगर संवाददाता। जैन तीर्थ श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में पुण्य सम्राट राष्ट्रसंत आचार्य श्रीमद् विजय जयंतसेन सूरीश्वरजी मसा की प्रेरणा से पिछले 45 वर्षों से जारी श्री नमस्कार महामंत्र की आराधना का लाभ हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी यषवंत, निखिल, शार्दुल, जिनांश भंडारी परिवार द्वारा लेते हुए पूर्ण निष्ठा और समर्पण भाव से यह आराधना संपन्न करवाई जा रहंी है। सकल जैन समाज के बडी संख्या में आराधक यह आराधना कर रहे है। जिनके द्वारा प्रतिदिन तीन समय देववंदन, दो समय प्रतिक्रमण के साथ प्रत्येक आराधक द्वारा 2160 बार श्री नमस्कार महामंत्र का जाप किया जा रहा है। साथ ही प्रतिदिन सभी आराधकांे के एकासने का भी आयोजन हो रहा है।
जानकारी देते हुए श्वेतांबर जैन समाज के युवा रिंकू रूनवाल ने बताया कि यशवंत भंडारी परिवार द्वारा प्रतिदिन आराधना भक्ति भाव से संपन्न करवाई जा रहंी है। आराधना मालव रत्न मुनिराज श्री रजतचन्द्र विजयजी मसा एवं श्री जीतचन्द्र विजयजी मसा की निश्रा मंे संपन्न हो रहंी है। इस वर्ष विशेषता यह है कि छोटे बच्चें से लेकर वयोवृद्ध सुश्रावक एवं श्राविकाएं भी आराधना कर उनके द्वारा नित्य श्री नमस्कार महामंत्र के जाप माला के माध्यम से किए जा रहे है।
प्रतिदिन श्री नमस्कार महामंत्र की तस्वीर पर हो रहा दीप प्रज्जवलन
आरााना के क्रम में ही प्रतिदिन प्रातःकाल श्री नमस्कार महामंत्र की तस्वीर पर दीप प्रज्जवलन लाभार्थी परिवार द्वारा कर नौ दिनों तक अखंड ज्योत भी प्रज्जवलित हो रहंी है। प्रतिदिन अलग-अलग लाभ लेने वाले विषिष्ट अतिथि एवं लाभार्थी परिवारों तथा वरिष्ठ आराधकों का यशवंत भंडारी परिवार एवं चातुर्मास समिति की ओर से बहुमान किया जा रहा है। वहीं संपूर्ण आराधना में व्यवस्था में विशेष सहयोग मालवा जैन महासंघ एवं भारतीय जैन संघटना से जुड़े पदाधिकारियों में सुनिल संघवी, राजेन्द्र आर भंडारी, हेमेन्द्र संघवी, सुधीर संघवी, महेश संघवी, सुशील संघवी, अभय दख, सचिन पगारिया, लवेष जैन, निखिल सेठिया आदि द्वारा प्रदान किया जा रहा है। आराधना के लाभार्थी निखिल भंडारी ने बताया कि 22 अगस्त, रविवार को रात्रि 7.30 बजे से पोषध शाला भवन में सभी आराधकों के बहुमान बाद प्रभावना का वितरण किया जाएगा। इस दौरान संगीतमय चैवीसी का भी आयोजन होगा।
इन आराधकों की खूब-खूब अनुमोदना
इस वर्ष रंभापुर निवासी 12 वर्षीय बालक दक्ष पिता हेमंत जैन श्री नमस्कार महामंत्र की आराधना कर रहे है। वह तपस्या के दौरान बरती जाने वाली सुविधानियों और कठोर नियमों का भी बखूबी पालन कर रहे है। इसी प्रकार स्थानीय जगमोहनदास मार्ग निवासी 14 वर्षीय हर्ष पिता मुकेश जैन ‘लोढ़ा’ ने भी आराधना करने पर अत्यंत ही प्रसन्नता व्यक्त की। वह पूरे भक्तिभाव ौर उल्लास के साथ आराधना कर धर्म लाभ ले रहे है। यहीं रहने वाली नेहल कोठारी उम्र 12 वर्ष भी श्री नमस्कार महामंत्र की आराधना कर प्रतिदिन जाप, देववंदन और प्रतिक्रमण तथा एकासना कर रहीं है। स्थानीय लक्ष्मीबाई मार्ग निवासी वरिष्ठ सुश्राविका लीलाबाई शांतिलाल भंडारी उम्र 91 वर्ष की जितनी अनुमोदना की जाए, उतनी कम है, वह पिछले 55 वर्षों से सत्त श्री नमस्कार महामंत्र की आराधना कर अपने मन की शुद्धि के साथ तन की भी शुद्धि कर रहीं है।
23 अगस्त को जिनेन्द्र भक्ति महोत्सव का आयोजन
23 अगस्त को धर्मनिष्ठा श्रीमती पद्माबेन समरथमल मुथा के आत्म श्रेयार्थ एक दिवसीय जिनेन्द्र भक्ति महोत्सव का आयोजन महेन्द्रकुमार मुथा परिवार की ओर से रखा गया है। जिसके तहत प्रातः 6.30 बजे श्री भक्तामर स्त्रोत एवं गुरू गुण चालीसा पाठ, 8 बजे श्री नमस्कार महामंत्र के आराधकों के पारणे, 8.30 बजे श्री अंतरायकर्म निवारण पूजन का संगीतमय आयोजन, 9.45 बजे मुनिराज के प्रवचन एवं गुणानुवाद (श्रद्धांजलि सभा) बाद दोपहर 11.30 बजे से साधर्मी वात्सल्य का आयोजन किया जाएगा।