Home Lucknow पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल के मंडुआडीह रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर...

पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल के मंडुआडीह रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर अब कर दिया गया बनारस

234
0

वाराणसी. धर्म नगरी वाराणसी के ज्यादातर लोग आज भी खुद को बनारसी ही कहते हैं. पूरे देश में आज भी इस शहर को बनारस के नाम से ही ज्यादा जाना जाता है. जबकि इस शहर में चार स्टेशन होने के बावजूद बनारस नाम का कोई स्टेशन नहीं था. यह कमी अब दूर हो गई है और पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल के मंडुआडीह स्टेशन का नाम बदलकर अब बनारस कर दिया गया है. स्टेशन के अंदर से लेकर स्टेशन के बाहर तक बनारस नाम के बोर्ड टांग दिए गए हैं. स्टेशन के अंदर प्लेटफार्म पर जो डिस्प्ले बोर्ड लगाए गए हैं, उनमें चार भाषाओं में इसका नाम दिया गया है. उनमें हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू और संस्कृत भी शामिल है. संस्कृत में इसका नाम बनारस: दिया गया है.

बता दें कि वाराणसी में चार स्टेशन है, जिनमें सबसे बड़ा स्टेशन है वाराणसी कैंट जंक्शन, जहां सबसे अधिक ट्रेनें आती और जाती हैं. इसके अलावा वाराणसी सिटी, काशी और मंडुआडीह नाम से स्टेशन हैं. अब मंडुआडीह का नाम बनारस कर दिया गया है. इतिहास से भी प्राचीन मानी जाने वाली वाराणसी के अलग-अलग कालखंड में यूं तो कई नाम रहे. लेकिन तीन नाम सबसे ज्यादा प्रचलित रहे. पहला वाराणसी, दूसरा काशी और तीसरा बनारस. अब इन तीनों ही नाम से यहां पर स्टेशन बन गए हैं.

मंडुआडीह से बनारस हुए स्टेशन के बारे में बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब काशी से सांसद बने तब इस स्टेशन का कायाकल्प किया गया. सेकंड एंट्री के साथ इस स्टेशन को एयरपोर्ट की तरह न केवल भव्य रूप दिया गया, बल्कि यहां काशी की संस्कृति और सभ्यता भी दिखाई गई. उसके बाद स्टेशन का नाम बनारस करने को लेकर सोशल मीडिया पर तमाम बुद्धिजीवियों ने मुहिम चलाई. साल भर पहले यह उम्मीद परवान चढ़ने वाली थी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. उस वक्त डीजल रेल इंजन कारखाने का नाम डीएलडब्ल्यू से बनारस के नाम पर बीएलडब्ल्यू जरूर हो गया, लेकिन स्टेशन का नाम नहीं बदला गया. लेकिन अब स्टेशन का नाम बदलने के साथ नया कोड भी इजाद कर दिया गया है. अब बनारस स्टेशन का नया कोड है बीएसबीएस. बता दें भाजपा के शासनकाल में मुगलसराय जंक्शन का नाम भी बदल कर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन रखा गया. यानी अब आप कह सकते हैं कि बनारस में बनारसियों का अब अपना एक स्टेशन बनारस भी है.