Home Bhopal MP में मिलावट का अद्भुत खेल! वजन बढ़ाने के लिए गेहूं में...

MP में मिलावट का अद्भुत खेल! वजन बढ़ाने के लिए गेहूं में रेत मिलाई, कांग्रेस बोली जहर मत बांटे | MP – Sand mixed in wheat to increase weight, Congress said – do not distribute poison

72
0
MP में मिलावट का अद्भुत खेल! वजन बढ़ाने के लिए गेहूं में रेत मिलाई, कांग्रेस बोली- जहर मत बांटे

वीडियो रामपुर बघेलान के बांधा गांव का है. यहां गेहूं का भंडारण किया गया था. बताया जा रहा है कि गेहूं को बोरों में भरकर राज्य के अलग-अलग जिलों में भेजा जाएगा. फिर लोगों के बीच यह बांटा जाएगा.

गेहूं में रेत मिलाता शख्स

Image Credit source: twitter

मध्य प्रदेश के सतना में गेहूं में मिलावटखोरी का चौंकाने वाला मामला सामने आया है. सरकारी गेहूं की पैकिंग के दौरान वजन बढ़ाने के लिए रेत की मिलावट की जा रही थी. हालांकि, इस मामले पर प्रशासन ने जांच के निर्देश दिए हैं. एक अधिकारी के मुताबिक, इस मामले में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. वहीं, इस मिलावटखोरी का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें दिख रहा है कि एक शख्स गेहूं में रेत मिला रहा है.

वीडियो में दिख रहा है कि एक ट्रैक्टर पर एक शख्स खड़ा है. ट्रैक्टर में बालू है. तभी वह एक बरतन की मदद से पास में पड़े गेहूं के ढेर में बालू मिलाने लगता है. वहीं, इस काम में उसके साथ एक और व्यक्ति भी उसका मदद करते हुए दिखता है. वह भी गेहूं के ढेर में बालू फेंकता हुआ नजर आता है. वहीं, इस वीडियो के सामने आते ही कांग्रेस एमपी की बीजेपी सरकार पर हमलावर हो गई है.

कांग्रेस ने एमपी सरकार पर साधा निशाना

एमपी कांग्रेस ने इस वीडियो को अपने ट्विटर हैंडल से पब्लीश करते हुए लिखा है ‘शिव’राज में मिलावट जारी …सतना जिले में गेहूं में मिलाई जा रही रेत, यही गेहूं बाद में जनता को वितरित किया जाएगा. शिवराज जी, जनता को जहर देना बंद कीजिए. बताया जा रहा है कि वीडियो रामपुर बघेलान के बांधा गांव स्थित सायलो का है. यहां किसानों से गेहूं की खरीद कर उसका भंडारण किया गया था. गेहूं को बोरों में भरकर राज्य के अलग-अलग जिलों में भेजा जाएगा. फिर लोगों के बीच यह बांट दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें

प्रशासन ने जांच के दिए आदेश

वहीं, इस पूरे मामले पर साइलो सेंटर के ब्रांच मैनेजर ज्योति प्रसाद ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि यहां पर ऐसा कोई मामला नहीं हुआ है. हो सकता है किसी ने रेत डालकर वीडियो बना लिया हो और साजिश के तहत वायरल कर दिया हो. वहीं, इस मामले में एफसीआई के अधिकारियों ने कहा है कि जांच के आदेश दिए गए हैं. हो सकता है कि किसी मजदूर ने पैकिंग के दौरान जो धूल इकट्ठा होती है, उसे डाल दिया हो. हालांकि,घटना की जांच के बाद ही वास्तविक सच्चाई का पता चलेगा.