Home Bhopal MP गजब! ऐसे कैसे पढ़ेगा इंडिया, टीचर ही तैयार कर रहे थे...

MP गजब! ऐसे कैसे पढ़ेगा इंडिया, टीचर ही तैयार कर रहे थे नकल सामग्री | Betul News Teacher was preparing copy material in board exam

7
0
MP गजब! ऐसे कैसे पढ़ेगा इंडिया, टीचर ही तैयार कर रहे थे नकल सामग्री

बैतूल न्यूज: मध्य प्रदेश बोर्ड परीक्षा में सामूहिक नकल का मामला सामने आया है. उड़दस्ते ने बैतूल जिले के एक स्कूल में छापेमारी कर 23 शिक्षकों को नकल सामग्री तैयार करते पकड़ा है. इन सभी को निलंबित कर दिया गया है.

जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय बेतूल

बैतूल: भले ही केंद्र और राज्य सरकार सर्व शिक्षा अभियान पर जो दे रही हैं. नारा दिया है कि पढ़ेगा इंडिया तो बढ़ेगा इंडिया. लेकिन जब स्कूलों में पढ़ाई की जगह नकल सामग्री तैयार होने लगे तो सवाल उठेगा कि आखिर ऐसे पढ़ेगा तो कैसे बढ़ेगा इंडिया. जी हां ऐसा ही कुछ देखने को मिला है मध्य प्रदेश के बैतूल में. यहां 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं जा रही है. इन परीक्षाओं में खुद स्कूल के टीचर और चपरासी ही परीक्षार्थियों के लिए नकल सामग्री तैयार कर रहे हैं और उनतक पहुंचा रहे हैं.

भीमपुर के प्रभुढाना गांव के स्कूल में उड़नदस्ते की छापेमारी के दौरान मामले का खुलासा होने के बाद जिला प्रशासन ने स्कूल में तैनात पूरे स्टाफ के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए हैं. जानकारी के मुताबिक इस स्कूल में बारहवीं कक्षा के लिए अर्थ शास्त्र और भौतिक शास्त्र का पेपर हो रहा था. इसी बीच उड़नदस्ता की टीम ने छापार दिया. अंदर कुछ टीचर और चपरासी नकल सामग्री तैयार कर रहे थे.

ये भी पढ़ें:MPESB Recruitment: एमपी में ग्रुप 4 के 3000 से ज्यादा पदों पर वैकेंसी, 20 मार्च तक करें अप्लाई

वहीं कुछ लोग नकल सामग्री बच्चों तक पहुंचा रहे थे. इस पूरी कार्यवाही के दौरान उड़नदस्ते ने कुल 23 लोगों को धर दबोचा. इसके बाद 17 टीचरों को तत्काल सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं 4 सीनियर टीचर को सस्पेंड करने के लिए प्रस्ताव भेजा गया है. जबकि दो टीचर की सेवाएं समाप्त करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.

ये भी पढ़ें:होली पर अनोखी आस्थाअंगारों पर चलते हैं पर नहीं होता जख्म, बरसती है हनुमान जी की कृपा

केंद्राध्यक्ष भी नकल में शामिल

उड़नदस्ते की जांच में पाया गया कि यहां हो रहे सामूहिक नकल में केवल टीचर और चपरासी ही नहीं, बल्कि केंद्राध्यक्ष भी शामिल थे. ऐसे में टीम ने सारी नकल सामग्री कब्जे में लेते हुए बैतूल कलेक्टर को सूचित किया है. वहीं बैतूल कलेक्टर अमनबीर सिंह बैस ने तत्काल एक्शन लेते हुए सभी को निलंबित करने व संविदा कर्मियों की सेवाएं समाप्त करने के निर्देश दिए हैं. इसके बाद आदिवासी विकास विभाग ने 15 टीचर और 2 चपरासियों को तत्काल सस्पेंड कर दिया है.

केंद्राध्यक्ष के सस्पेंशन के लिए कमिश्नर को प्रस्ताव

परीक्षा केंद्राध्यक्ष और तीन सीनियर टीचर को सस्पेंड करने के लिए नर्मदापुरम के कमिश्नर के पास प्रस्ताव भेजा गया है. इसी के साथ एक संविदा टीचर और एक संविदा चपरासी की भी सेवाएं समाप्त करने के आदेश दिए गए हैं. जिला शिक्षा अधिकारी अनिल कुशवाहा ने बताया कि प्रभुढाना गांव में परीक्षा केंद्र पर उड़नदस्ता की टीम ने कुछ चपरासी और टीचर को नकल सामग्री तैयार करते हुए पकड़ा है. यह नकल सामग्री छात्रों तक पहुंचाने की तैयारी हो रही थी. इस मामले में सभी के खिलाफ कार्रवाई की गई है.