Home Jhabua जिला जेल झाबुआ में पुरूष एवं महिला बंदियों हेतु विधिक साक्षरता,जागरूकता शिविर...

जिला जेल झाबुआ में पुरूष एवं महिला बंदियों हेतु विधिक साक्षरता,जागरूकता शिविर का आयोजन एवं जेल निरीक्षण

98
0

झाबुआ। राकेश पोद्दार। नगर संवाददाता। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एवं मध्यप्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत पूरे देश में अखिल भारतीय जागरूकता एवं आउटरीच अभियान दिनांक 2 अक्टूबर से 14 नवम्बर-2021 तक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इसी क्रम में आज दिनांक 12.10.2021 को जिला जेल झाबुआ में पुरूष एवं महिला बंदियों के लिये विधिक साक्षरता,जागरूकता शिविर एवं जेल निरीक्षण का आयोजन किया गया।

दिनांक 12.10.2021 को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण झाबुआ के तत्वाधान में आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत जिला जेल झाबुआ में पुरूष एवं महिला बंदियों के लिए विधिक साक्षरता,जागरूकता शिविर एवं जेल निरीक्षण का आयोजन माननीय प्रधान जिला न्यायाधीश श्रीमान मोहम्मद सैय्यदुल अबरार महोदय जी के मार्गदर्शन एवं अपर जिला न्यायाधीश,सचिव श्रीमान लीलाधर सोलंकी जी के निर्देशन में संपन्न हुआ।
शिविर को संबोधित करते हुये श्री सोलंकी ने कहा कि बंदियों को निःशुल्क विधिक सहायता एवं सलाह प्राप्त करने का अधिकार है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अधिनियम-1987 के अंतर्गत अभिरक्षाधीन व्यक्ति को दाण्डिक न्यायालय, सत्र न्यायालय, उच्च न्यायालय एवं उच्चतम न्यायालय में उनके विचाराधीन प्रकरण या प्रकरणों को प्रस्तुत करने के लिए प्रकरण का पूरा व्यय तथा निःशुल्क अधिवक्ता शासन द्वारा उपलब्ध कराया जाता है। आयोजित लोक अदालतों एवं प्ली बारगेनिंग प्रक्रिया के माध्यम से प्रकरणों का निराकरण कराया जाकर त्वरित लाभ प्रदान कराया जाता है इस हेतु विचाराधीन बंदी जेल अधीक्षक/जेलर को विधिक सहायता प्राप्त करने हेतु आवेदन देकर विधिक सहायता प्राप्त कर सकता है। शिविर में मुख्य मजिस्टेªट झाबुआ श्री नदीम खांन द्वारा बताया गया कि कोई अभियुक्त जो कि 18 वर्ष से अधिक आयु का है और वह स्वैच्छिक रूप से प्ली बारगेनिंग करने हेतु अपराध एवं मामले का संक्षिप्त विवरण, शपथ पत्र सहित आवेदन पत्र उसी न्यायालय में जिसमें मामला चल रहा हो प्रस्तुत कर सकता है। शिविर में प्रधान न्यायाधीश किशोर न्याय बोर्ड श्रीमति तनवी माहेश्वरी ठाकुर एवं न्यायिक मजिस्टेªट अमन सुलिया ने भी महिला बैरिग में जाकर उनसे भोजन, उपचार महिलाओं के साथ रहे बच्चों की देखभाल आदि के बारे में भी पूछताछ की। श्री सोलंकी जी ने महिला बंदियों के अधिकार एवं सुविधाओं के बारे में भी विस्तार से बताया। शिविर पश्चात् श्री सोलंकी जी के द्वारा जेल का निरीक्षण किया गया जिसमे भोजन शाला, महिला एवं पुरूष बैरिक एवं अन्य स्थानों का निरीक्षण किया। न्यायालय पेशी, वकील पैरवी, भोजन, उपचार आदि के संबंध में आवश्यक पूछताछ की गई। उक्त शिविर में जेल उप अधीक्षक झाबुआ श्री राजेश विश्वकर्मा एवं स्टाॅप उपस्थित रहें।