Home National किसान आंंदोलन : सरकार ने किसानों को प्रस्ताव भेजा, शाम तक साफ...

किसान आंंदोलन : सरकार ने किसानों को प्रस्ताव भेजा, शाम तक साफ होगा किसानों का रुख

59
0
Demo Pic

 दिल्ली। कृषि बिल को लेकर सरकार और किसान संगठनों के बीच गतिरोध के बीच मोदी कैबिनेट की अहम बैठक हुई। बैठक के बाद एक प्रस्ताव बनाकर किसानों तक पहुंचाया दिया गया है। किसान संगठन दोपहर में विचार करेंगे। भारतीय किसान यूनियन के राकेश टिकैत का कहना है कि शाम चार या पांच बजे तक किसान अपना रुख साफ कर देंगे। सिंधु बॉर्डर पर किसान सरकार के प्रस्ताव का इंतजार कर रहे हैं। इससे पहले मंगलवार रात केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ किसानों की बातचीत नाकाम रही। आज सरकार और किसानों के बीच में कोई बातचीत निर्धारित नहीं है।

इस बीच शरद पवार, सीताराम येचुरी और राहुल गांधी की अगुवाई में विपक्षी नेताओं का एक समूह आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेगा। वहीं, प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक पर भी सभी की नजर है। हरियाणा से सिटी दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का धरना प्रदर्शन जारी है। हरियाणा, उत्तर प्रदेश से सटे दिल्ली की बॉर्डर आज भी बंद है।

इससे पहले 13 किसान नेताओं ने मंगलवार रात अमित शाह से बातचीत की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार बिल वापस लेने को तैयार नहीं है, वहीं किसान इससे कम में आंदोलन खत्म करने को राजी नहीं हैं। यानी यह गतिरोध अभी कायम रहेगा। इस तरह एक और बैठक भी बेनतीजा रही। बैठक के बाद किसान संगठन के मुखिया राकेश सिंह टिकैत ने बताया कि गृहमंत्री ने शांतिपूर्ण बंद के लिए किसानों को धन्यवाद दिया और उम्मीद जताई कि उनका प्रदर्शन आगे भी शांतिपूर्ण रहेगा।

सरकार से प्रस्ताव मिलने के बाद दोपहर में सिंधु बॉर्डर पर किसान संगठनों की बैठक होगी। इसमें आगे की रणनीति पर विचार किया जाएगा। इसमें 40 किसान संगठन शामिल हो सकते हैं। यह भी तय होगा कि आगे सरकार से इस मुद्दे पर वार्ता की जाए या नहीं।

राष्ट्रपति से मुलाकात पर दिग्विजय सिंह को उम्मीद नहीं

शरद पवार, सीताराम येचुरी और राहुल गांधी समेत पांच नेताओं की राष्ट्रपति से होने वाली मुलाकात पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने बयान दिया है। दिग्विजय सिंह का मानना है कि उन्हें महामहिम जी से ज्यादा उम्मीद नहीं है।