Home Crime सायबर क्राईम का सनसनीखेज मामला: 10वीं के छात्र ने पुलिस के होश...

सायबर क्राईम का सनसनीखेज मामला: 10वीं के छात्र ने पुलिस के होश उड़ा दिए, कई लोगों के मोबाइल हैक करके ब्लैकमेल किया

73
0
Representative Image

सिंगरौली। कक्षा 10 में पढ़ने वाले 15 वर्ष के छात्र ने ऐसा कांड किया है जिसकी कल्पना पुलिस ने भी नहीं की थी। सिंगरौली में बैठे-बैठे इस लड़के ने अपनी लोकेशन UAE बताई और भारत में प्रतिबंधित किए गए मोबाइल ऐप को डाउनलोड करके कई लोगों के मोबाइल फोन हैक कर लिए। इसके बाद उन्हें ब्लैकमेल करना शुरू किया। सब कुछ इस तरीके से किया गया था कि उसे पकड़ना लगभग नामुमकिन था लेकिन कहते हैं ना कि हर अपराधी कोई ना कोई गलती जरूर करता है।

टैलेंट के कारण अपराधी बन गया

लॉकडाउन में स्कूली विद्यार्थियों ने ज्यादातर ऐसे गेम्स खेले हैं। कुछ विद्यार्थियों ने मोबाइल पर भी गेम खेले लेकिन सिंगरौली का यह लड़का अपने अद्वितीय टैलेंट के कारण अपराधी बन गया। यदि इसी टैलेंट का उपयोग सक्सेस के लिए करता तो शायद आने वाले साल में सिंगरौली की शान कहलाता।

ऐसे खेला ब्लैकमेलिंग का खेल

सिंगरौली के पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि बिल्कुल एक शातिर अपराधी की तरह 10th क्लास के स्टूडेंट ने सिंगरौली में बैठे बैठे अपनी लोकेशन UAE कर ली और भारत में प्रतिबंधित मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड करने में सफल हो गया।

सिंगरौली के पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि 10वीं में पढ़ने वाले एक 15 साल के बालक ने बहुत फ्रॉड किया है। छात्र वॉट्सऐप पर फेक आईडी बनाकर दूसरे लोगों के वॉट्सऐप को हैक कर के उनकी निजी जानकारियों से उन्हें ब्लैकमेल करता था। छात्र के पास ऐसे ऐप मिले हैं, जो भारत में बैन हैं और वह दूसरों के फोन को हैक कर के उनका डेटा रख लेते हैं। छात्र ने वीपीएन एप के माध्यम से अपनी लोकेशन यूएई में दिखाकर प्ले स्टोर से इस प्रतिबंधित एप को डाउनलोड कर लिया। इसी एप में प्रियंका नाम से फेक व्हाट्सएप आईडी बना कर वह अश्लील चैट करता था। बाद में उनका अश्लील वीडियो बनाकर उनसे पैसे मांगता था। जो पैसे नहीं देता उनके वीडियो उनके परिचितों को भेजने की धमकी देता था।

​सिंगरौली के पुलिस अधीक्षक ने आगे बताया कि छात्र ने ऐसे कई ऐप को डाउनलोड कर रखे थे, जिससे वह दूसरों के डेटा को हैक कर के अपने पास रख लेता था और उन लोगों से धमकी देकर पैसे मांगता था। छात्र ने दूसरों के नाम पर बैंक अकाउंट खुलवाएं हुए थे, जिसमें वह पीड़ितों से पैसा जमा करवाता था और एटीएम के जरिए पैसे निकालता था। 15 वर्षीय लड़का को पकड़ लिया गया है और लड़के के पास से बहुत-सी चीजें बरामद हुई हैं। मामला दर्ज़ किया गया है और उसे बाल न्यायालय में प्रस्तुत किया गया है।

दसवीं पास ब्लैकमेलर ऐसे पकड़ा गया

इंस्पेक्टर मनीष त्रिपाठी ने बताया कि 21 वर्ष के एक युवक ने आकर शिकायत की कि उसे एक लड़की ब्लैकमेल कर रही है। उसका वीडियो वायरल करने की धमकी दे रही है। पूछताछ के दौरान उसने बताया कि पड़ोस में एक लड़के को अच्छी टेक्निकल नॉलेज है। अब तक उसी ने लड़की को वीडियो वायरल करने से रोक कर रखा था। नया नाम आते ही पुलिस ने इन्वेस्टिगेशन में इस लड़के को भी और राउंड अप कर लिया और साइबर एक्सपर्ट से मिली जानकारी के बाद मोरवा पुलिस ने छात्र से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने सारा गुनाह कबूल कर लिया।लड़के की टेक्नोलॉजी पर पुलिस का कॉमन सेंस भारी साबित हुआ।
उसने बताया कि वह लोगों के जीमेल अकाउंट को हैक कर उनका मोबाइल नंबर निकाल लेता था। वह यूएसए के अलग-अलग नंबर प्रयोग कर व्हाट्सएप आईडी बना कर लगातार चैट कर अश्लील वीडियो बनाता था। फिर इसी आधार पर लोगों को ब्लैकमेल करता था।
देश में साइबर क्राइम अपने पैर पसारते जा रहा है और यह साइबर क्राइम अधिकांश देश के छोटे-छोटे शहरों से ही देखने को मिलते हैं। जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी एडवांस्ड होती जा रहीं है, वैसे-वैसे ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले अपराधी हर बार नए तरीके ढूंढ ही लेते है। मगर जरूरत है, लोगों को जागरूक करने की।