Home Bhopal Hindu organization accuses dargah e hakimi trust of demolishing the temple au568...

Hindu organization accuses dargah e hakimi trust of demolishing the temple au568 | मुस्लिम पक्ष पर मंदिर को ध्वस्त करने का आरोप, हिंदू संगठन बोला- रास्ता भी नहीं दे रहे

7
0
मुस्लिम पक्ष पर मंदिर को ध्वस्त करने का आरोप, हिंदू संगठन बोला- रास्ता भी नहीं दे रहे

हिंदू संगठन के महेश सिंह चौहान ने बताया कि शंकर सिंह नाम के जो व्यक्ति थे. उन्होंने यह भूमि दरगाह-ए-हकीमी ट्रस्ट को सशर्त बेची थी. मंदिर पहुंचने के लिए रास्ता छोड़ा जाए एवं पूरे परिसर को संरक्षण भी दिया जाए, लेकिन दरगाह हकीमी ट्रस्ट ने ऐसा नहीं किया.

मुस्लिम पक्ष पर है मंदिर ध्वस्त करने का आरोप

Image Credit source: TV9 Network

मध्य प्रदेश के बुरहानपुर के ग्राम लोधी पुरा में दरगाह-ए-हकीमी के पास स्थित चमत्कारी इच्छेश्वर हनुमान मंदिर का विवाद थमा नहीं रहा है. अब ग्राम लोधी पुरा में दरगाह-ए-हकीमी के बाजू में स्थित एक खेत में बाल हनुमान जी की मूर्ति मिलने से नया विवाद खड़ा हो गया है. भक्तों एवं हिंदू संगठनों का रास्ता रोकने का मामला एक बार फिर तूल पकड़ने लगा है. मध्य प्रदेश के बुरहानपुर के ग्राम लोधी पुरा में स्थित दरगाह-ए-हकीमी के बाजू में एक खेत में प्राचीन बाल हनुमान जी की मूर्ति मिली है. हिंदू संगठन के अनुसार चमत्कारी इच्छेश्वर हनुमान मंदिर पहुंचने मार्ग के लिए जब शासकीय दस्तावेज खोजे गए तो, उन्हें 1912 का एक नक्शा दिखा. उस नक्शे में लगभग 3 से 4 एकड़ खेत में प्राचीन हनुमान मंदिर, माता का मंदिर और एक बड़ा सा शिवालय का पता चला.

इसके बाद ग्राम लोधी पुरा के बुजुर्गों से इस संबंध में चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि दरगाह-ए-हकीमी का जो लॉज है. उसके पीछे के खेत में संभवतः वह मंदिर मिल सकता है. इसके बाद हिंदू संगठनों ने कुछ दिन पूर्व आकर देखा कि बाल हनुमान जी की मूर्ति जीर्ण शीर्ण अवस्था में गंदगी में पड़ी हुई मिली. मंदिर और शिवालय दरगाह हकीमी ट्रस्ट ने किस प्रकार से ध्वस्त किया और कब किया. यह तो पता नहीं लेकिन यहां पूछने के लिए हिंदू संगठन और भक्तों को काफी मशक्कत करना पड़ी.

पूजा अर्चना कर आरती भी की गई

हिंदू संगठन के महेश सिंह चौहान ने बताया कि शंकर सिंह नाम के जो व्यक्ति थे. उन्होंने यह भूमि दरगाह-ए-हकीमी ट्रस्ट को सशर्त बेची थी. मंदिर पहुंचने के लिए रास्ता छोड़ा जाए एवं मंदिर को संरक्षण भी दिया जाए लेकिन दरगाह हकीमी ट्रस्ट ने ऐसा नहीं किया. मंदिर गायब हो गया और प्राचीन बाल हनुमान जी की मूर्ति भी गंदगी में पड़ी हुई मिली. इसके बाद हिंदू संगठन गेट का ताला तोड़कर अंदर दाखिल हुआ और मूर्ति के आसपास साफ-सफाई की. इसके बाद हनुमान जी की विधि विधान से पूजा अर्चना कर सिंदूर लगाया और आरती भी की.

हिंदू संगठन का आरोप है कि दरगाह हकीमी ट्रस्ट मंदिर पहुंचने का रास्ता नहीं दे रहा है. इसके लिए हम प्रदेश की भाजपा सरकार और मुखिया शिवराज सिंह चौहान से मांग करते हैं कि यहां पर भव्य मंदिर बने. साथ ही मंदिर में पहुंचने के लिए सुगम रास्ते का निर्माण भी दरगाह हकीमी ट्रस्ट करके दे. क्योंकि यहां का किसी भी प्रकार का कोई मामला न्यायालय में लंबित नहीं है.

न्याय व्यवस्था पर पूर्ण विश्वास: मुस्लिम पक्ष

वहीं, इस पूरे मामले पर दरगाह-ए-हकीमी ट्रस्ट के सहायक प्रबंधक शेख मुस्तफा उज्जैन वाले का कहना है कि 40 साल पहले ही हमने खेत खरीदा था, जिसमें एक चबूतरा और प्रतिमा होना बताया गया था. इसको हमने अभी तक संभाल के रखा है. बाकी कुछ लोग यहां पर आकर विवाद को बढ़ावा दे रहे हैं. हमें प्रशासन और न्याय व्यवस्था पर पूर्ण विश्वास है.

ये भी पढ़ें

जब इस संबंध में एसडीएम दीपक चौहान से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि किसी की निजी संपत्ति में प्रवेश करना गैर कानूनी है. यदि दरगाह प्रबंधन द्वारा शिकायत की जाती है तो संबंधित लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी.