Home COVID-19 हवा में 10 मीटर तक जा सकता है वायरस, बचना है तो...

हवा में 10 मीटर तक जा सकता है वायरस, बचना है तो इन 3 नियमों का कड़ाई से करें पालन

69
0
Representative Demo Image

सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण के संचरण के तरीकों पर चेतावनी जारी की है। उसने कहा है कि बूंदों के छोटे कण 10 मीटर तक हवा में जा सकते हैं। कोरोना महामारी से निपटने के लिए फेस मास्क पहनना, सामाजिक दूरी बनाना जैसे अन्य कोविड उपायों का पालन करने की सलाह दी है।

केंद्र सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन के कार्यालय ने नई एडवाइजरी में कहा कि उचित वेंटिलेशन के उपयोग से कोरोना वायरस के प्रसार को रोका जा सकता है, जिसमें एयर कंडीशनर चलाने की दिशा भी शामिल है।

उन्होंने कहा कि हमेशा याद रखें, जिन लोगों में लक्षण नहीं दिखते हैं, वो भी भी वायरस फैला सकते हैं। संक्रमित व्यक्ति से छींकने या खांसने से बूंदें 2 मीटर के भीतर गिरती हैं और छोटे एयरोसोल कण हवा में 10 मीटर तक जा सकते हैं।

वेंटिलेशन बेहतर बनाएं
इसमें कहा गया है कि खिड़कियां और दरवाजे बंद रखते हुए एसी चलाने से संक्रमित हवा कमरे के अंदर फंस जाती है और संक्रमित वाहक से दूसरों में संचरण का खतरा बढ़ जाता है।

सफाई का रखें ध्यान
एक संक्रमित व्यक्ति द्वारा उत्सर्जित बूंदें विभिन्न सतहों पर लंबे समय तक रह सकती हैं। दरवाजे के हैंडल, लाइट स्विच, टेबल, कुर्सियों और फर्श आदि को लगातार सफाई करनी चाहिए। इन्हें ब्लीच और फिनाइल से साफ करना चाहिए।

मास्क पहनें
नए दिशानिर्देशों में कहा गया है कि लोगों को डबल लेयर मास्क या एन 95 मास्क पहनना चाहिए, जो अधिकतम सुरक्षा प्रदान करता है। डबल मास्किंग के लिए, सर्जिकल मास्क पहनें, फिर उसके ऊपर एक और टाइट फिटिंग वाला कपड़े का मास्क पहनें।

आदर्श रूप से सर्जिकल मास्क का उपयोग केवल एक बार किया जाना चाहिए, लेकिन जोड़ी बनाते समय, आप इसे एक बार उपयोग करने के बाद 7 दिनों के लिए सूखी जगह पर 5 बार तक उपयोग कर सकते हैं।