Home Bhopal Exit Poll: पांच राज्यों के चुनाव में ‘थर्ड फ्रंट’ कहां बना किंगमेकर...

Exit Poll: पांच राज्यों के चुनाव में ‘थर्ड फ्रंट’ कहां बना किंगमेकर और किसका बिगाड़ा गेम? | Assembly Elections 5 states exit-poll-survey 2023 third front kingmaker MP rajasthan Chhattisgarh

10
0
Exit Poll: पांच राज्यों के चुनाव में

सभी 5 राज्यों में छोटे दलों की अहम भूमिका हो सकती है.

पिछले महीने 5 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के परिणाम रविवार (3 दिसंबर) को आएंगे, लेकिन 30 नवंबर को आए एग्जिट पोल सर्वे ने काफी कुछ साफ कर दिया है. हालांकि इन 5 राज्यों में दोनों राष्ट्रीय दलों भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के अलावा कुछ अन्य छोटे दलों की भी अहम भूमिका निकल सामने आ रही है. कुछ राज्यों में ये छोटे दल राष्ट्रीय दलों की राह का रोड़ा बन सकते हैं और उनका मिजाज भी बिगाड़ सकते हैं. चुनाव में छोटे-छोटे दल मिलकर थर्ड फ्रंट की भूमिका में हैं. सर्वे में यह बात भी सामने आई है कि कुछ राज्यों में ये फ्रंट राष्ट्रीय दलों का खेल बिगाड़ सकते हैं.

शुरुआत छत्तीसगढ़ से करते हैं. अमूमन सभी एग्जिट पोल सर्वे में यहां पर कांग्रेस को जीत मिलता दिखाया जा रहा है. Polstrat, सी वोटर, टुडेज चाणक्या, एक्सिस माय इंडिया समेत कई एग्जिट पोल सर्वे में कांग्रेस को बिना किसी दिक्कत के जीत मिल रही है. यहां पर बीजेपी और कांग्रेस के अलावा बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी), अमित जोगी की जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़-जोगी (जेसीसी) के साथ-साथ पूर्व कांग्रेस नेता अरविंद नेताम की हमार राज जैसे छोटे दल अपनी चुनौती पेश कर रहे हैं. अगर ये कुछ सीटों पर कब्जा हासिल करने में कामयाब होते हैं तो बड़े दलों का खेल बिगड़ जाएगा.

छत्तीसगढ़ में छोटे दलों की क्या स्थिति

हालांकि एग्जिट पोल सर्वे में छत्तीसगढ़ में छोटे दलों की स्थिति ज्यादा अच्छी नहीं दिख रही है. Polstrat के सर्वे में मायावती की बीएसपी और अमित जोगी की पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़-जोगी का खाता तक नहीं खुल रहा है. टुडेज चाणक्या, सी वोटर जैसे अन्य सर्वे में भी यही स्थिति दिख रही है. हालांकि इन सर्वे में अन्य दलों के खाते में 0 से 3 सीटें जाने का अनुमान लगाया गया है. ज्यादातर सर्वे में यहां पर कांग्रेस आराम से चुनाव जीतती दिख रही है.

बात अब तेलंगाना की. एग्जिट पोल के आंकड़े इस ओर इशारा कर रहे हैं कि तेलंगाना में कांग्रेस को बहुमत मिलता दिख रहा है जबकि सत्तारुढ़ पार्टी भारत राष्ट्र समिति (BRS) को झटका लग सकता है. एग्जिट पोल सर्वे में कांग्रेस को 49 से 56 सीटें मिलने का अनुमान है. टुडेज चाणक्या के सर्वे में 71 से ज्यादा सीटें मिल रही हैं. हालांकि Polstrat और सी वोटर के सर्वे में छोटे दल अहम भूमिका निभा सकते हैं. बीआरएस भी कड़ी चुनौती पेश कर रहा है और उसकी भी 50 के करीब सीट आने की उम्मीद है.

तेलंगाना में ओवैसी बन सकते हैं किंगमेकर

ऐसे में अगर किसी दल को बहुमत नहीं मिला तो यहां पर असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM किंगमेकर की भूमिका निभा सकती है. AIMIM को सर्वे में 6 से 8 सीटें मिलने की बात कही जा रही है, जबकि यहां पर बीजेपी भी करीब एक दर्जन सीट जीतकर कांग्रेस और बीआरएस का खेल बिगाड़ सकती है. हालांकि चाणक्या के सर्वे में AIMIM को एक भी सीट नहीं मिल रही है.

40 सदस्यीय मिजोरम में सी वोटर के सर्वे में एमएनएफ और जेडपीएम के बीच कड़ा मुकाबला हो सकता है. एमएनएफ को 15 से 21 के बीच सीट मिल सकती है. तो वहीं जेडपीएम को 12 से 18 तो कांग्रेस को 2 से 8 सीटों के बीच संतोष करना पड़ सकता है. यहां पर बीजेपी के खाता खुलने की कम संभावना है. एक्सिस माय इंडिया के पोल सर्वे में एमएनएफ को 3 से 7 सीटें मिलने का अनुमान है तो जेडपीएम को 28 से 35 सीटें मिल सकती है. जबकि कांग्रेस को 2- सीट और बीजेपी को 0-2 सीट मिलने का अनुमान जताया गया है.

राजस्थान में BSP-RLP का क्या होगा

राजस्थान में Polstrat, सी वोटर और ईटीजी के सर्वे में बीजेपी सत्ता में लौटती दिख रही है. जबकि कांग्रेस के खाते में 90 तक सीटें आने की संभावना है. यहां पर बीएसपी और हनुमान बेनीवाल की पार्टी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी का खाता तक नहीं खुल रहा है. हालांकि अन्य दलों के खाते में 5 से 15 सीटें जाने की उम्मीद जताई गई है. बसपा की दलित बिरादरी और आरएलपी का जाट समुदाय यहां अहम भूमिका निभा सकता है. इसके अलावा भारत आदिवासी पार्टी (BAP) भी कुछ सीटें अपने पाले में कर सकती है. छोटे दलों के कई सीटों पर चुनौती पेश करने से मामला रोमांचक जरूर हो गया है, लेकिन सर्वे में इनके पक्ष में ज्यादा सीटें जाती नहीं दिख रही हैं.

इसे भी पढ़ें — Exit Poll और GDP के रथ पर सवार, रिकॉर्ड हाई पर शेयर बाजार

एक्सिस माय इंडिया और चाणक्या के सर्वे में कांग्रेस राजस्थान में सरकार बना रही है जबकि Polstrat, सी वोटर और ईटीजी के सर्वे में बीजेपी सरकार बनाते हुए दिख रही है. ऐसे में यहां पर जिस तरह से सर्वे आ रहे हैं उससे अन्य छोटे दलों के खाते में कुछ सीटें चली जाती हैं तो यहां सियासी हलचल तेज हो सकती है. सर्वे भी अन्य के खाते में 9 से 18 के बीच में ही सीटें रख रहे हैं.

MP में BSP-GGP को लग रहा झटका

बात अब मध्य प्रदेश की. Polstrat के सर्वे में कांग्रेस को 111 से 121 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है, जबकि सी वोटर और ईटीजी भी कांग्रेस की सरकार बनते देख रहे हैं जबकि एक्सिस माय इंडिया और टुडेज चाणक्य के सर्वे बताते हैं कि यहां पर फिर से बीजेपी ही सरकार बनाने जा रही है. हालांकि मुकाबला कांटे का होगा क्योंकि दोनों प्रमुख दलों के खाते में 110 से ज्यादा सीटें आ रही हैं. बीजेपी भी 106 से 116 सीटों के बीच टिक सकती है.

इसे भी पढ़ें — MP Exit Poll: ओबीसी का दांव उल्टा, गारंटी की टाइमिंग और बगावतप्रदेश में कांग्रेस की हार के कारण

दोनों प्रमुख दलों के अलावा बसपा और गोंडवाणा गणतंत्र पार्टी गठबंधन को चुनाव में बड़ा झटका लगने जा रहा है. कांग्रेस से बगावत कर अकेले कई सीटों पर चुनाव लड़ने वाली समाजवादी पार्टी का भी खाता खुलता नहीं दिख रहा है. इनके अलावा सपाक्स, जयस और जनहित पार्टी जैसे कुछ दल के हिस्से कुछ सीटें जा सकती हैं. लेकिन यह संख्या भी 0 से 6 के बीच ही रहेगी.