Home Jhabua साइबर अवेरनेस प्रोग्राम एवं तिरंगा रैली का हुआ आयोजन स्कूली छात्राओ को...

साइबर अवेरनेस प्रोग्राम एवं तिरंगा रैली का हुआ आयोजन स्कूली छात्राओ को दी गई जानकारी

20
0

झाबुआ। राकेश पोद्दार। पुलिस अधीक्षक झाबुआ अरविंद तिवारी द्वारा जिले में सायबर अपराधों की रोकथाम एवं जागरूकता हेतु साइबर अवेरनेस प्रोग्राम आयोजित करने हेतु निर्देशित किया गया। उक्त निर्देशों के पालन में आज दिनांक 12 अगस्त 2022 को विभिन्न स्कूलों के छात्र.छात्राओं को उनि रामसिंह मालवीय, उनि अनिता तोमर आर. 552 महेश प्रजापति, आर 193 दीपक पटेल, आर.संतोष एवं आर. सत्येन्द्र द्वारा उपस्थित 1000 से अधिक बालक.बालिकाओं को सायबर अवेयरनेस के बारे में जानकारी दी।

ऑनलाइन दुनिया में सुरक्षित रहने के लिए कुछ साइबर सुरक्षित प्रथाओं का पालन करना आवश्यक होता हैए जिनके बारे में जानकारी दी गई। सायबर क्राईम से सावधान रहने के संबंध में पेंपलेट की दिये गये। साथ ही साथ आज़ादी की 75वीं वर्षगाँठ के अवसर पर रुआज़ादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत मप्र शासन एवं पुलिस मुख्यालय के निर्देशानुसार हर घर तिरंगा अभियान में शुक्रवार को झाबुआ पुलिस द्वारा विभिन्न स्कूलों के छात्र.छात्राओं के साथ रुतिरंगा रैली का आयोजन भी किया गया।
सायबर एडवाइजरी में बताया कि कभी भी लॉटरी या इनाम के झांसे में किसी को अपनी जानकारी शेयर न करे। किसी भी अनजान व्यक्ति द्वारा बैंक संबंधी जानकारी जैसे उपयोगकर्ता का आईडी पासवर्ड एटीएम कार्डनंबर पिन सीवीवी नंबर ओटीपी नंबर आदि मांगे जाने पर प्रदाय ना करें। बैंक कभी भी फोन पर बैंक संबंधी जानकारी नहीं मांगते हैं। गूगल के माध्यम से कस्टमर केयर नंबर सर्च करने के लिए अधिकृत वेबसाइट को ही चुने।अनजान लिंक पर क्लिक न करे। सोशल मीडिया पर प्रोफाइल पिक्चर को लॉक व सिक्योर करके रखे। कभी भी 2 स्टेप वेरीफिकेशन चालू रखे। बैंकिंग ।चच में लॉक लगा के रखे। अनजान एप्प को प्ले स्टोर के अलावा दूसरे प्लेटफॉर्म से डाउनलोड न करे। किसी भी अनजान एप्प को मोबाइल की ;जैसे गैलरी, कॉन्टेक्ट, लोकेशनद्ध परमिशन न दे। ट्रांजैक्शन करते समय किसी भी रिमोट एक्सेस एप जैसे टीमव्यूअर, एनीडेक्स आदि को मोबाइल में इंस्टॉल ना करें। नौकरी की ऐसी पेशकश से बचे जिसमें आपको पैसे जमा करने के लिए कहा जा रहा हो। किसी को भी अपना मोबाइल न दे। फेसबुक और व्हाट्सएप मैसेंजर का उपयोग कर युवक,युवतियों के अश्लील वीडियो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल कर की जा रही फिरौती की मांग से बचे।