Home Bhopal COVID19 in MP: भोपाल में CSP पॉजिटिव, कलेक्टर और DIG क्वारेंटाइन

COVID19 in MP: भोपाल में CSP पॉजिटिव, कलेक्टर और DIG क्वारेंटाइन

105
0

भोपाल । इंदौर के बाद भोपाल में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। मंगलवार को प्रदेश भर में 50 नए मरीज सामने आए। इनमें भोपाल में नए 21 मरीज मिले। मंगलवार को प्रदेश में मौतों की खबर नहीं है। लेकिन चिंता की बात तो यह है कि राजधानी में स्वास्थ्य विभाग के अफसरों/कर्मचारियों के बाद अब पुलिसकर्मी संक्रमित हो रहे हैं। मंगलवार को जहांगीराबाद के सीएसपी अलीम खान भी कोरोना पॉजिटिव निकले। उन्हें चिरायु अस्पताल में भर्ती किया गया है। कई पुलिसकर्मियों के संक्रमित होने के बाद डीआईजी इरशाद वली ने खुद को क्वारेंटाइन कर लिया है। कलेक्टर तरुण पिथौड़े भी क्वारेंटाइन पर हैं। दोनों ही अधिकारी वन विभाग के गेस्ट हाउस से ही काम कर रहे हैं। इंदौर में 22 नए मरीज मिले। इनमें 2 की मौतें पहले हो चुकी है। ग्वालियर में 4, मुरैना में 1 और श्योपुर में 1 नया मामला सामने आया है। उज्जैन के तीन संक्रमितों में नीलगंगा टीआई, नागदा का एक युवक और एक 65 साल की महिला शामिल है। महिला की मृत्यु रविवार को हुई थी।

सुरक्षा … पिपलानी में टीआई ने स्टाफ को दिए एप्रन

यह तस्वीर पिपलानी की है। थाना प्रभारी चैन सिंह रघुवंशी ने अपने खर्चे से थाने के स्टाफ के लिए 60 एप्रन बनवाकर दिए हैं। रघुवंशी ने कहा- मुझे अपने पुलिसकर्मियों की चिंता है। वे सुरक्षित रहें, इसलिए यह तरीका अपनाया।

 

जो एसिम्पटोमेटिक, उन्हें भी अस्पतालों में रखा जबकि, ऐसे मरीजों को होम क्वारेंटाइन ही काफी

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य पल्लवी जैन गोविल और स्वास्थ्य संचालक जे विजय कुमार पिछले दिनों कोरोना पॉजिटिव मिले थे। दोनों फिलहाल बंसल अस्पताल में हैं। इनके अलावा स्वास्थ्य विभाग के 3 दर्जन से ज्यादा अधिकारी-कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव हैं, जो अलग-अलग अस्पतालो में भर्ती हैं। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के मुताबिक इनमें से कुछ अधिकारी कोरोना पॉजिटिव हैं, लेकिन एसिम्पटोमेटिक हैं। यानी कि उनमें कोरोना के लक्षण नहीं दिख रहे। इसके बावजूद प्रत्येक की देख-रख में 2 डॉक्टर और 4 नर्स लगे हैं। डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइसं के मुताबिक इनके लिए होम क्वारेंटाइन ही काफी है।

वायरस से इफेक्टेड नहीं, सिर्फ वायरस का कैरियर हैं एसिम्पटोमैटिक मरीज

एसिम्पटोमैटिक मरीज वह होते हैं, जो कोरोना के पॉजिटिव तो हैं, लेकिन उनमें इसका लक्षण जैसे बुखार, जुकाम या अन्य समस्याएं नहीं होतीं। डॉक्टरों के मुताबिक ऐसे मरीजों में कोरोना वायरस से लड़ने की क्षमता होती है, इस वजह से इनमें वायरस कम असर करता है। लेकिन यह मरीज कोरोना कैरियर बन सकते हैं और खुद से दूसरों में फैला सकते हैं। इसलिए ये होम क्वारेंटाइन रहें तो ही काफी है। ऐसे अफसरों के अस्पतालों में होने से बड़ा अमला लगताहै। ऐसी स्थिति में आमजन के लिए संसाधनों की कमी हो सकती है।

मो.सुलेमान होंगे ACS हेल्थ, गोविल बनी रहेंगी

कोरोना वायरस पर नियंत्रण पाने के लिए राज्य सरकार ने स्वास्थ्य विभाग को और सशक्त बनाया है। मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर अपर मुख्य सचिव मो.सुलेमान को स्वास्थ्य विभाग की कमान दी गई है। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य पल्लवी जैन गोविल यथावत रहेंगी। वहीं स्वास्थ्य में अब दो संचालक होंगे। डॉ.जे विजय कुमार के साथ सुदाम खाड़े को संचालक को भी संचालक बनाया गया है। सुदाम खाड़े को संचालक को भी संचालक बनाया गया है।

 नगर निगमायुक्त विजय दत्ता भी परिजनों से दूर, सिर्फ फोन पर बात हो रही

इधर, नगर निगम आयुक्त विजय दत्ता भी हर व्यवस्था की स्वयं मॉनिटरिंग कर रहे हैं। अपर कलेक्टर , एसडीएम , एसपी, एडिशनल एसपी भी यही दिनचर्या अपनाए हुए हैं। परिवार के सदस्यों से दूर रहकर लगातार काम कर रहे हैं। इससे परिवार को संक्रमण की चिंता ना रहे और वह अपना पूरा समर्पण समाज,आम जनता और देश को दे पाए। इनमें से अधिकतर अधिकारी कोरोना से बचने के लिए रेस्ट हाउस, सर्किट हाउस, आॅफिसर मेस और होटल में रह रहे हैं। वे परिवार के सदस्यों से फोन पर चर्चा कर रहे हैं।

शिवराज समेत 7 राज्यों के उट लॉकडाउन बढ़ाने के पक्ष में, केंद्र सरकार ने कहा – अभी फैसला नहीं

लोगों का जीवन बहुत जरूरी है। अर्थव्यवस्था दोबारा बनाई जा सकती है पर मरने वाले को वापस नहीं लाया जा सकता। इसलिए अगर स्थिति नियंत्रण में नहीं रही तो लॉकडाउन बढ़ाना पड़ेगा। लॉकडाउन के 14 दिन गुजर चुके हैं। हर तरफ एक ही सवाल है कि लॉकडाउन बढ़ेगा या खत्म होगा। इधर, असमंजस के बीच मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान समेत 7 राज्यों के सीएम ने लॉकडाउन बढ़ाने का समर्थन किया है। हालांकि स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्पष्ट किया कि लॉकडाउन पर अभी फैसला नहीं लिया गया है। इसलिए इस पर अंदाजा न लगाया जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने मंगलवार को कहा कि अर्थव्यवस्था को तो ठीक किया जा सकता है, लेकिन मरे हुए लोगों को दोबारा जीवित नहीं किया जा सकता है। लॉकडाउन खत्म करने का अभी फैसला नहीं हुआ है, मैं इस बारे में राय ले रहा हूं। कुछ दिनों में जैसी स्थिति रहेगी उसके अनुसार फैसला करूंगा। इंदौर, भोपाल की जो स्थिति है, उसे देखते हुए लॉकडाउन हटाना मुश्किल है। उन्होंने इंदौर-भोपाल की सीमाओं को सख्ती से सील करने के निर्देश दिए। तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव ने भी 3 जून तक लॉकडाउन बढ़ाने का सुझाव दिया था।

यह लॉकडाउन बढ़ाने के पक्ष में

केरल के सीएम पी विजयन, महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर, दिल्ली के सीएम केजरीवाल लॉकडाउन के पक्ष में हैं।

कैबिनेट सचिव के ट्वीट पर सवाल 

कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने ट्वीट किया था। इसमें सूत्रों के हवाले से लिखा था कि कई राज्य सरकारों और विशेषज्ञों ने केंद्र सरकार से लॉकडाउन बढ़ाने की अपील की है और मोदी सरकार इस पर विचार भी कर रही है। हालांकि, बाद में यह ट्वीट डिलीट कर दिया गया।