Home Jhabua कहावतो के दोहे कविता का जल्द होगा विमोचन- यशवंत भंडारी, यश

कहावतो के दोहे कविता का जल्द होगा विमोचन- यशवंत भंडारी, यश

47
0

झाबुआ। राकेश पोद्दार। नगर सवांददाता। नगर के प्रतिष्ठित सामाजिक एवं जनसेवक यशवंत भंडारी के द्वारा पूर्व में प्रकाशीत कविताये 1.काव्य संग्रह, 2. पतझड की छाया, 3.नाजायज का दर्द,4. जिन्दगी जैसी पुस्तको को लोगो के द्वारा खुब सराहा गया। उनकी पाॅचवी पुस्तक 5.शुभ परिणीती का पिछले दिनो भव्य शुभारंभ हुआ था। उक्त पुस्तक गुगल पर भी प्रकाशीत है। उनकी 6. पुस्तक सत्य के सामिप्य का प्रकाशन हिन्दी पुस्तक बैंक जबलपुर ई-पुस्तक के रूप मे भी प्रकाशीत हो रही है। सातवी पुस्तक हिन्दी साहित्य जगत में अद्भुत होगी जो कि 7.वर्णमाला मे मनोभाव को विदितजनो के पास समिक्षा हेतु भेजी है। आठवी पुस्तक 8. मुक्तक एवं 9 वी पुस्तक -समंदत मे मोती जिसमें 130 छणिकाएं समीक्षा हेतु प्रेषित है एवं पूर्ण रूप से तैयार है।
भंडारी जी ने बताया कि मेरे आराध्य दादा गुरू जिनदत्त सुरी जी मासा एवं माॅ वीणा पाणी की दिव्य कृपा से इस लाॅक डाउन के विषम काल में मेरा अध्ययन एवं लेखन कार्य चल रहा है। उन्होने बताया कि आगामी दिनो में मेरी दसवी पुस्तक 10. कहावतो के दोहे का सृजन लेखन प्रारंभ होने जा रहा है जिसमे 160 से अधिक प्रचलित कहावतो पर दोहे सृजन का लक्ष्य है जो एक अपने आप में नया प्रयोग होगा। उनके इस संचालन में श्री अभिषेक स्वामी जी , संचालक लिबरेट लाइफ एवं श्री रमेश प्रसाद जी शर्मा अध्यक्ष इन्दौर साहित्य संग्राम का अभूतपूर्ण योगदान एवं आर्शीवाद मार्गदर्शन प्राप्त है।