Home Jhabua सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों का समय सीमा में निराकरण करे – कलेक्टर श्रीमती...

सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों का समय सीमा में निराकरण करे – कलेक्टर श्रीमती रजनी सिंह

43
0

समयावधि पत्रों की समीक्षा बैठक आयोजित

झाबुआ। राकेश पोद्दार। कलेक्टर श्रीमती रजनी सिंह की अध्यक्षता में समयावधि पत्र (टीएल) की बैठक आयोजित थी। बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत अमन वैष्णव, एडीएम एस.एस.मुजाल्दा, एसडीएम झाबुआ सुनिल कुमार झा, डिप्टी कलेक्टर तरूण जैन, प्रबंधक लोक सेवा संत कुमार चैबे के साथ सभी जिला अधिकारी उपस्थित थे।
श्रीमती सिंह ने निर्देश दिये की कार्यालय प्रमुख सी.एम. हेल्पलाईन के प्रकरणों का निराकरण समय सीमा में करें एवं स्पेशल क्लोज के लिए प्रतिवेदन समक्ष में प्रस्तुत करें। समाधान आनलाइन वीसी जनवरी माह में होगी। डब्लयू आर डी द्वारा सी एम हेल्प लाइन के प्रकरणों का निराकरण करने पर कलेक्टर ने बधाई दी। सी एम हेल्प लाइन में सभी विभागों ने अच्छा प्रदर्शन किया है। सभी विभाग ए एवं बी श्रेणी में आने का प्रयास करे । पेसा एक्ट के मास्टर ट्रेनर के रूप में नियुक्त जिला अधिकारी पेसा एक्ट के संबंध में ग्रामीणों को जागरूक करें। मध्यप्रदेश पैसा एक्ट 15 नवबंर,2022 से मध्यप्रदेश के अनुसुचित क्षैत्र में लागू हो चुका है इस संबंध में श्रीमती सिंह द्वारा यह निर्देश दिये गये है कि आम जनता को पैसा एक्ट के बारे में बताया जाए एवं इसका व्यापक प्रचार प्रसार भी किया जाए। श्रीमती सिंह ने निर्देश दिये कि दिनांक 16-17 जनवरी 2023 को माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा कलेक्टर क्रांफेंस को आयोजित की जा रही है बैठक का स्थान किसी भी जिले में किया जावेगा। इससे संबंधित जानकारी तत्काल पूर्ण की जाये। बैठक का एंजेडा जारी किया जा चुका है। क्राफेंस वर्चुअल न होकर प्रत्यक्ष होगी, यह कांफे्रंस दो दिवसीय होगी।
सीएम हेल्पलाईन के निराकरण के लिए श्रीमती सिंह ने निर्देश दिए कि विभाग अपने शिविर लगाएं। नान अटेंड शिकायतें होने पर सख्त कार्यवाही की जावेगी। इस सप्ताह शतप्रतिशत शिकायतों का निराकरण हो जाएं इस प्रकार की कार्यवाही की जाएं। निम्न गुणवत्तापूर्ण जवाब दर्ज नहीं करें। सीएम हेल्पलाईन में 50 दिवस से अधिक लंबित शिकायतों का जल्द से जल्द निराकरण किया जाना सुनिश्चित करें। सी.एम. हेल्पलाईन में 100 दिवस, 300 दिवस व 500 दिवस से अधिक लंबित शिकायतों को जल्द से जल्द निराकरण करना सुनिश्चित करें। प्रति माह के प्रथम एवं द्वितिय सप्ताह में अभियान चलाकर सभी विभाग सीएम हेल्पलाईन का निराकरण करेंगें। मेरे द्वारा पेटलावद विकासखण्ड क्षैत्र भ्रमण के दौरान निरीक्षण में पाया की स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति अत्यंत कम है एवं माध्यान्ह भोजन की व्यवस्था ठीक नहीं है इसमें तत्काल कार्यवाही की जावें। सभी जिला अधिकारी अपने भ्रमण के दौरान आंगनवाड़ी, मध्यान्ह भोजन एवं स्कूल का भी सुक्ष्म निरिक्षण करें। आंगनवाड़ी केन्द्रों पर निरीक्षण पंजी अनिवार्य रूप से देखें व तत्काल कार्यवाही करें। यहां पर आंगनवाडी में नाश्ता बच्चों को दिया जा रहा है या नहीं इसें देखे इसके अतिरिक्त स्कूलों में मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था लगभग अव्यवस्थित एवं लापरवाही पूर्ण है इसे अपने निरीक्षण के दौरान कार्यवाही सुनिश्चित करें। बच्चों को सही समय पर एवं पर्याप्त मात्रा में एवं मीनू अनुसार भोजन दिया जा रहा है या नही इसे गंभीरता से देखें। मेरे भ्रमण के दौरान व्यवस्था ठीक नहीं पाई गई है मेरे द्वारा सख्त कार्यवाही की गई है।
श्रीमती सिंह ने निर्देश दिये की समायवधि पत्रों, सीएम हेल्पलाइन, सीएम विजिट के प्रकरणों का निर्धारित अवधि में निराकरण करें एवं प्रतिवेदन को पोर्टल पर दर्ज करे। प्रत्येक जिला अधिकारी प्रातः एक घंटा सीएम हेल्पलाइन देखे। समयावधि पत्रों एवं जनसुनवाई के प्रकरणों में निराकरण तत्काल किया जाना सुनिश्चित करे। श्रीमती सिंह द्वारा यह भी निर्देश दिये गये की सी.एम. हेल्पलाईन में दर्ज शिकायत का निराकरण एल-1 स्तर पर ही कर लिया जाए। मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान के अंतर्गत जो प्रकरण स्वीकृत किए गए है उनमें हितग्राहीयों को हित वितरण जिला स्तर एवं प्रदेश स्तर से किया जाएगा। विभाग अपनी संपूर्ण जानकारी के साथ तैयारी करें।
श्रीमती सिंह ने निर्देश दिए कि प्रति बुधवार हर पंचायत में कैम्प लगाकर आयुष्मान कार्ड बनाए जाने में तत्काल कार्यवाही सुनिश्चित करें। हाॅस्टल अधीक्षक एवं शिक्षकों को दिनाकं 28 29 एवं 30 में आयुष्मान कार्ड के सम्बन्ध में ट्रेनिंग दी जाये जिला स्तर से नियुक्त जिला अधिकारी इस पर नियमित मॉनिटरिंग करे। श्रीमती सिंह ने निर्देश दिए कि भू-माफिया, शराब माफिया मिलावटखोरों, खनिज माफिया, अतिक्रमण करने वालों पर निरन्तर दण्डात्मक कार्यवाही की जाए।
बैठक में डिप्टी कलेक्टर श्री एल.एन.गर्ग, सहायक आयुक्त जनजातीय कार्यविभाग श्री गणोश भाभर एवं समस्त जिला अधिकारी उपस्थित थे। समस्त अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, समस्त तहसीलदार, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत, समस्त सीएमओ, समस्त सीईओ जनपद पंचायत, बीएमओ उपस्थित थे।