Home Bhopal जम्मू-कश्मीर शस्त्र लाइसेंस मामले में भिंड तक पहुंची CBI, BSF के पूर्व...

जम्मू-कश्मीर शस्त्र लाइसेंस मामले में भिंड तक पहुंची CBI, BSF के पूर्व जवान प्रमोद शर्मा के घर मारा छापा

7
0
Madhya Pradesh: जम्मू-कश्मीर शस्त्र लाइसेंस मामले में भिंड तक पहुंची CBI, BSF के पूर्व जवान प्रमोद शर्मा के घर मारा छापा
(FILE PHOTO)

जम्मू-कश्मीर के नकली शस्त्र लाइसेंस (Fake arms license of Jammu and Kashmir) मामले में CBI की 8 सदस्यीय टीम ने मंगलवार को मध्य प्रदेश के भिंड (Madhy Pradesh, bhind) में गोरमी के कचनाव कलां गांव में BSF के पूर्व जवान के घर छापामार कार्रवाई की है. CBI की टीम कचनाव कलां गांव बीएसएफ के पूर्व जवान प्रमोद शर्मा (pramod sharma) के घर फर्जी शस्त्र लाइसेंस से जुड़े दस्तावेजों को खंगालने के लिए गई थी. जानकारी के अनुसार CBI ने प्रमोद के घर से अलमारियों का ताला तोड़कर दस्तावेज निकाले हैं और उन्हे जब्त भी कर लिया है.

सूत्रों के मुताबिक ये छापामार कार्रवाई लगभग दो घंटे तक चली. इस छापामार कार्रवाई के बाद टीम वापस भोपाल आ गई थी. बीएसएफ के पूर्व जवान से सीबीआई इस मामले में पहले भी कई बार पूछताछ कर चुकी है. पूर्व जवान प्रमोद शर्मा को कई बार सीबीआई ने ऑफिस बुलाकर भी पूछताछ की है, लेकिन इस बार CBI को कुछ दस्तावेजों को जब्त करना था. इसी को ही देखते हुए सीबीआई की टीम ने प्रमोद के घर पर छापा मारा. बता दें कि जिले में बड़ी संख्या में लोगों के पास जम्मू कश्मीर से बने शस्त्र लाइसेंस हैं. ये पूरा मामला 2 लाख 78 हजार फर्जी लायसेंस का है.

कश्मीर से लेकर दिल्ली तक 41 जगह मारे गए छापे

जम्मू कश्मीर से फर्जी शस्त्र लाइसेंस मामले में सीबीआई ने श्रीनगर, अनंतनाग, बनिहाल, बारामूला, जम्मू, डोडा, राजौरी, कश्तवाड़, लेह, दिल्ली, और मध्य प्रदेश के भिंड सहित कुल 41 ठिकानों पर छापेमारी की है. भिंड में भोपाल से CBI की आठ सदस्यीय टीम निरीक्षक अभिषेक स्वर्णकार के नेतृत्व में गोरमी पहुंची थी.
यहां कचनाव कलां गांव में पूर्व बीएसएफ जवान प्रमोद शर्मा के घर टीम ने फर्जी आर्म्स लाइसेंस से जुड़े दस्तावेजों को दो घंटे तक खंगाला गया है.

उप राज्यपाल के पूर्व सलाहकार के ठिकानों पर भी मारा गया छापा

सूत्रों के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा के पूर्व सलाहकार पदोन्नत आईएएस अधिकारी बशीर खान के ठिकानों पर भी मंगलवार को छापेमारी की गई. खान को इस महीने की शुरुआत में सलाहकार के पद से मुक्त कर दिया गया था. उन्हें पिछले साल मार्च में सलाहकार बनाया गया था, उस वक्त जी सी मुर्मू जम्मू कश्मीर के उप राज्यपाल थे. मुर्मू के बाद सिन्हा उप राज्यपाल बने और खान उनके सलाहकार के पद पर कार्यरत रहे.

बता दें कि जम्मू कश्मीर में फर्जी शस्त्र लाइसेंस जारी करने के रैकेट का खुलासा हुआ था. उसके बाद 2019 में इसकी जांच CBI ने शुरू की थी. जांच के दौरान कचनाव कलां निवासी प्रमोद शर्मा का नाम आया था. बताया गया है कि प्रमोद ने BSF की नौकरी में जम्मू कश्मीर में तैनाती के दौरान फर्जी शस्त्र लाइसेंस बनवाए हैं.