Home Politics त्रिपुरा से BJP को मिली ‘गुड न्यूज’, 20 में 7 निकायों पर...

त्रिपुरा से BJP को मिली ‘गुड न्यूज’, 20 में 7 निकायों पर निर्विरोध जीत, स्थानीय चुनाव में विपक्ष रहा नदारद

6
0
भारतीय जनता पार्टी.

बीजेपी (BJP) के लिए त्रिपुरा से अच्छी खबर सामने आई है. पार्टी ने स्थानीय निकाय चुनाव (Tripura Civic Elections) में 20 में से 7 निकायों पर निर्विरोध जीत हासिल की है. इन 7 सीटों पर विपक्षी दलों ने कोई उम्मीदवार नहीं उतारे थे. जबकि बीजेपी ने सभी 20 शहरी निकायों पर 336 उम्मीदवार मैदान में उतारे थे. वहीं पांच स्थानीय निकायों में विपक्ष ने नामांकन भी दाखिल नहीं किया था. जबकि दो अन्य सीटों पर BJP के अलावा किसी और पार्टी का उम्मीदवार ही नहीं उतरा था.

हालांकि विपक्ष ने नामांकन दाखिल नहीं करने को लेकर दलील देते हुए कहा कि बीजेपी के कार्यकर्ता पिछले कई दिनों से राज्य में हिंसा फैला रहे हैं, जिसकी वजह से विपक्ष के नेता अपना नामांकन दाखिल नहीं कर सके. सत्तारूढ़ बीजेपी ने त्रिपुरा में 20 में से सात शहरी स्थानीय निकायों (ULB) में बिना किसी स्पर्धा के जीत हासिल की है. विपक्षी CPI-M, तृणमूल कांग्रेस, कांग्रेस और टीआईपीआरए मोथा ने आरोप लगाया है कि बीजेपी कार्यकर्ताओं ने पिछले कुछ दिनों से राज्य भर में बड़े पैमाने पर हिंसा का सहारा लिया और नामांकन प्रक्रिया के पहले दिन से ही सत्ताधारी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने विपक्ष को रोकने के लिए निर्वाचन अधिकारियों के कार्यालयों को घेर लिया.

नामांकन दाखिल नहीं कर पाए विपक्षी नेता

3 तारीख को नामांकन दाखिल करने का अंतिम दिन था और विपक्षी दल कार्यालयों तक ही नहीं पहुंच पाए, क्योंकि बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उन्हें कमलपुर, खोवाई, मोहनपुर, जिरानिया, रानीरबाजार, बिशालगढ़, उदयपुर और संतिरबाजार के रास्ते में ही रोक दिया. विपक्ष ने त्रिपुरा के धलाई जिले के कमालपुर नगर पंचायत, पश्चिम त्रिपुरा जिले के जिरानिया नगर पंचायत, पश्चिम त्रिपुरा के रानीरबाजार नगर पंचायत, पश्चिम त्रिपुरा के मोहनपुर नगर परिषद, सिपाहीजला जिले के तहत बिशालगढ़ नगर परिषद, गोमती जिले के जिला मुख्यालय में स्थित उदयपुर नगर परिषद, दक्षिण त्रिपुरा जिले के अंतर्गत संतिरबाजार नगर परिषद में कोई उम्मीदवार नहीं उतारा है.

हालांकि बीजेपी के उम्मीदवारों की संख्या सीटों की कुल संख्या 334 से अधिक है. पार्टी सूत्रों का कहना है कि दो उम्मीदवार जल्द ही नामांकन वापस लेंगे. टीआईपीआरए मोथा के प्रमुख और शाही वंशज प्रद्योत किशोर देबबर्मन ने आरोप लगाया कि वे शांतिबाजार नगर पंचायत की पांच सीटों पर चुनाव लड़ने वाले थे, लेकिन बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उन्हें नामांकन पत्र जमा करने नहीं दिया. लिहाजा, उन्होंने सड़क जाम कर दिया और बीजेपी के खिलाफ विरोध किया और अन्य यूएलबी के लोगों को बीजेपी को हराने के लिए कहा.

नामांकन दाखिल करने के लिए नहीं दी गई सुरक्षा

तृणमूल कांग्रेस के राज्य संयोजक सुबल भौमिक ने आरोप लगाया कि राज्य चुनाव आयोग (एसईसी) और पुलिस से बार-बार अपील करने के बावजूद, अगरतला नगर निगम को छोड़कर यूएलबी की सभी सीटों पर अपना नामांकन दाखिल करने के लिए किसी भी विपक्ष को पर्याप्त सुरक्षा प्रदान नहीं की गई. बीजेपी के गुंडों ने पुलिस के सामने विपक्षी समर्थकों को धमकाया, लेकिन सुरक्षाकर्मी चुप खड़े रहे. इस बीच, एसईसी के अधिकारियों ने कहा कि अगरतला नगर निगम की 51 सीटों पर 13 निर्दलीय उम्मीदवारों सहित विभिन्न राजनीतिक दलों के 212 उम्मीदवारों सहित राज्य भर में विभिन्न राजनीतिक दलों और स्वतंत्र रूप से 829 उम्मीदवारों ने अपना नामांकन पत्र जमा किया है.