Home National विदेश मंत्री एस जयशंकर का आतंक को लेकर पाकिस्तान पर हमला, बोले-...

विदेश मंत्री एस जयशंकर का आतंक को लेकर पाकिस्तान पर हमला, बोले- ‘यह आपको परेशान करने के लिए वापस आ जाएगा’ | External Affairs Minister S Jaishankar attacks Pakistan over terror says they will come back to haunt you

4
0
विदेश मंत्री एस जयशंकर का आतंक को लेकर पाकिस्तान पर हमला, बोले- 'यह आपको परेशान करने के लिए वापस आ जाएगा'

विदेश मंत्री एस जयशंकर (External Affairs Minister S Jaishankar) ने सीमा पार आतंकवाद के लिए पाकिस्तान (Pakistan) पर कड़ा निशाना साधा. उन्होंने कहा कि चरमपंथ, कट्टरता और हिंसा की ताकतें “उनका पालन-पोषण करने वालों को परेशान करने के लिए वापस आती हैं.” जयशंकर ने चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) को लक्षित करने के लिए कजाकिस्तान में एशिया (CICA) में बातचीत और विश्वास-निर्माण उपायों पर सम्मेलन की एक बैठक में अपने भाषण के दौरान ये बयान जारी किया.

एस जयशंकर ने कहा कि सभी कनेक्टिविटी परियोजनाओं के केंद्र में राष्ट्रों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान होना चाहिए. उनकी टिप्पणी 15 अगस्त को काबुल के तालिबान के अधिग्रहण के बाद अफगानिस्तान में पाकिस्तान की भूमिका पर नई दिल्ली में बढ़ती चिंताओं की पृष्ठभूमि के खिलाफ आई है. भारत ने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (CPEC) जैसे बीआरआई के तहत पहल का भी विरोध किया है, क्योंकि एक प्रमुख यह हिस्सा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से होकर गुजरता है.

पाकिस्तान आतंकवाद का एक और रूप – एस जयशंकर

जयशंकर ने आतंकवाद को सीआईसीए के सदस्यों के लिए शांति और विकास के सामान्य लक्ष्य का “सबसे बड़ा दुश्मन” बताया, जोकि एशिया में सुरक्षा और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए सहयोग के लिए एक बहुराष्ट्रीय मंच है. इसे 1999 में कजाकिस्तान के नेतृत्व में स्थापित किया गया था. सीमा पार से आतंकवाद कोई राजकाज नहीं है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद का एक और रूप है.

‘आतंकवाद के खिलाफ सभी देशों को होना चाहिए एकजुट’

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को इस खतरे के खिलाफ एकजुट होना चाहिए, जैसा कि जलवायु परिवर्तन और महामारी जैसे मुद्दों पर गंभीरता से होता है. कोई भी गणना कि अतिवाद, कट्टरता, हिंसा और कट्टरता का इस्तेमाल हितों को आगे बढ़ाने के लिए किया जा सकता है, जोकि बहुत ही अदूरदर्शी है. ऐसी ताकतें उन लोगों को परेशान करने के लिए वापस आएंगी जो उनका पालन-पोषण करते हैं.

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में स्थिरता की कोई भी कमी कोरोना महामारी को नियंत्रण में लाने के सामूहिक प्रयासों को कमजोर करेगी. उन्होंने कहा अफगानिस्तान की स्थिति गंभीर और चिंता का विषय है. उन्होंने ट्विटर पर कहा कि उन्होंने आतंकवाद, महामारी और वैश्विक आम लोगों की सुरक्षा जैसी चुनौतियों से निपटने में सीआईसीए की प्रासंगिकता को रेखांकित किया था और इस बात पर प्रकाश डाला कि “अफगानिस्तान की घटनाओं ने समझने योग्य चिंता पैदा की है”. वैश्विक प्रतिक्रिया को आकार देने में सीआईसीए एक सकारात्मक कारक हो सकता है.