Home National मैं अधर्मी नहीं हूँ… मिलिए Swiggy के डिलीवरी बॉय सचिन पांचाल से,...

मैं अधर्मी नहीं हूँ… मिलिए Swiggy के डिलीवरी बॉय सचिन पांचाल से, जिन्होंने मंदिर परिसर में मटन की डिलीवरी से कर दिया इनकार: अब किए गए सम्मानित

28
0

दिल्ली में फूड डिलीवरी करने वाली कंपनी स्विगी के डिलीवरी बॉय सचिन पांचाल ने मंदिर परिसर में मटन डिलीवर करने से मना कर दिया था। यही नहीं, उसने इसका वीडियो सोशल मीडिया पर भी अपलोड किया था। वीडियो वायरल होने के बाद मंदिर के पुजारियों ने डिलीवरी बॉय का सम्मान किया है। वहीं, सचिन को नौकरी से निकाले जाने की खबरों का स्विगी ने खंडन किया है।

दरअसल, दिल्ली के कश्मीरी गेट इलाके में स्थित प्राचीन मरघट हनुमान मंदिर के अंदर से मटन कोरमा ऑर्डर किया गया था। लेकिन, स्विगी के डिलीवरी बॉय सचिन पांचाल ने यह कहते हुए डिलीवरी करने से मना कर दिया था कि वह मंदिर के अंदर मटन लेकर नहीं जाएगा। सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में भी देखा जा सकता है कि डिलीवरी बॉय मंदिर के अंदर डिलीवरी करने से मना कर रहा है।

बता दें कि स्विगी की पॉलिसी के अनुसार डिलीवरी बॉय को ऑर्डर देने वाले के दरवाजे तक सामान पहुँचाना होता है। लेकिन सचिन ने मंदिर की मर्यादा को ध्यान में रखते हुए मटन को मंदिर के अंदर ले जाने से इनकार कर दिया।

आज तक की रिपोर्ट के अनुसार, सचिन ने स्विगी के कस्टमर केयर पर भी बात करते हुए भी कहा था कि वह मंदिर के अंदर मटन लेकर नहीं जाएगा। सचिन का तर्क था कि मंदिर परिसर में जहाँ पर उसे ऑर्डर देना है वहाँ पर भगवान हनुमान को चढ़ाने वाला प्रसाद बनाया जाता है। हालाँकि, कस्टमर केयर से उसे कहा गया है कि वह गलत नहीं कर रहा है। लेकिन कंपनी के नियम के अनुसार उसे ग्राहक के दरवाजे तक ऑर्डर पहुँचाना चाहिए।

कस्टमर केयर से बात करते हुए सचिन ने यह भी कहा कि वह ‘अधर्मी’ नहीं है और नॉनवेज आर्डर देने मंदिर के अंदर नहीं जाएगा। यही नहीं, उसने यह भी कहा कि यदि उसे मंदिर के अंदर मटन ले जाने के लिए मजबूर किया गया तो वह इस कॉल की रिकॉर्डिंग सोशल मीडिया पर डाल देगा।

सचिन का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा था। लोग उसकी जमकर तारीफ कर रहे थे। तारीफ के बीच ही अब मरघट हनुमान मंदिर के बोर्ड द्वारा उसे सम्मानित किया गया है। मरघट बाबा मंदिर के प्रभारी व ट्रस्टी पंडित वैभव शर्मा का कहना है, “सचिन पांचाल ने हिंदू धर्म की रक्षा के लिए जो कुछ भी किया है वह उन्होंने अपनी नैतिकता और सोच के साथ किया है। वह किसी हिंदू संगठन या किसी राजनीतिक दल तथा किसी धार्मिक संगठन से जुड़े हुए व्यक्ति नहीं हैं। यह उन लोगों के लिए एक संदेश है जो कहते हैं कि हिंदू सो रहा है। हिन्दू अब जाग गया है।”

बता दें कि वीडियो वायरल होने के बाद कई हिंदूवादी संगठन उस दुकान पर पहुँच गए थे। जहाँ से मटन का ऑर्डर दिया गया था। लोगों का कहना है कि जो व्यक्ति दिन में मंदिर के लिए प्रसाद बनाता है वह रात में उसी दुकानमें मटन खाता है। इस पूरे मामले को लेकर हिंदूवादी संगठन की नाराजगी के बाद दुकान के बाहर सीआरपीएफ और दिल्ली पुलिस के जवानों की तैनाती की गई है।

वहीं, मीडिया में ऐसी खबरें थीं कि मंदिर में मटन ले जाने से इनकार करने के बाद स्विगी ने अपने डिलीवरी बॉय सचिन पांचाल को नौकरी से निकाल दिया है। हालाँकि स्विगी ने ऐसी खबरों का खंडन किया है।