Home National प्रोजेक्ट 15B के तीसरे वॉर शिप ‘इंफाल’ का अनावरण, क्या बनेगा चीन...

प्रोजेक्ट 15B के तीसरे वॉर शिप ‘इंफाल’ का अनावरण, क्या बनेगा चीन के लिए बड़ी चुनौती? | unveiling of third warship imphal of project 15B will it become a big challenge for china

36
0

इंफाल के नाम पर युद्धक जहाज का नाम. (फाइल)

माझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (एमडीएल) ने भारतीय नौसेना को प्रॉजेक्ट 15बी श्रेणी के तहत गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर के तीसरे स्टील्थ विध्वंसक पोत यानी यार्ड 12706 (इंफाल) को सौंप दिया. यह पहला वॉरशिप भी है, जो कॉन्ट्रैक्ट टाइम से पहले यानी चार माह से भी पहले ही भारतीय नौसेना को सौंपा गया है.

दरअसल मंगलवार को इम्फाल युद्धपोत का नई दिल्ली में अनावरण किया गया. अपने प्री-कमीशनिंग परीक्षणों के हिस्से के रूप में जहाज ने हाल ही में विस्तारित रेंज पर ब्रह्मोस मिसाइल का सफल फायर किया था.

युद्धपोत पर बेहद गर्व

इंफाल की अनावरण (Unveiling) के मौके पर रक्षा मंत्री रक्षामंत्री, मणिपुर के मुख्यमंत्री, सीडीएस, नेवी चीफ ने शिरकत की. समुद्री परंपराओं और नौसैनिक रीति-रिवाजों के अनुसार, भारतीय नौसेना के जहाजों और पनडुब्बियों के नाम प्रमुख शहरों, पर्वत श्रृंखलाओं, नदियों, बंदरगाहों और द्वीपों के नाम पर रखे गए हैं. भारतीय नौसेना को ऐतिहासिक शहर इंफाल के नाम पर अपने नवीनतम और तकनीकी रूप से उन्नत युद्धपोत पर बेहद गर्व है.

ये भी पढ़ें: सुरंग से निकाले गए सभी मजदूरों की एकसाथ फोटो आई सामने, PM ने की बात

भारतीय नौसेना को सौंपा युद्धपोत

मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (एमडीएल), मुंबई ने 20 अक्टूबर को यह युद्धपोत भारतीय नौसेना को सौंपा था. दिल्ली में मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह, प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल अनिल चौहान और नौसेना प्रमुख एडमिरल आर. हरि कुमार की उपस्थिति में अनावरण समारोह हुआ.आईएनएस इंफाल 15बी स्टील्थ निर्देशित मिसाइल विध्वंसक परियोजना के तहत निर्मित चार युद्धपोतों में से तीसरा युद्धपोत है.

प्राचीन साम्राज्य की पारंपरिक पीठ

क्रेस्ट के डिजाइन में बाईं ओर ‘कांगला पैलेस’ और दाईं ओर ‘कांगला-सा’ को दर्शाया गया है. रक्षा मंत्रालय ने कहा कि कांगला पैलेस और कांगला-सा से सुशोभित इम्फाल की क्रेस्ट का अनावरण भारत की स्वतंत्रता, संप्रभुता और सुरक्षा के प्रति मणिपुर के लोगों द्वारा किए गए बलिदान के लिए एक सच्ची श्रद्धांजलि है. कांगला पैलेस मणिपुर का एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक और पुरातात्विक स्थल है और यह प्राचीन साम्राज्य की पारंपरिक पीठ हुआ करता था.

ये भी पढ़ें: विकसित भारत संकल्प यात्रा में VIP नहीं, आयोजक की तरह शामिल हों: PM

मणिपुर का राज्य प्रतीक भी है कांगला-सा

ड्रैगन के सिर और शेर के शरीर की आकृति के साथ सुसज्जित ‘कांगला-सा’ मणिपुर के इतिहास का एक पौराणिक प्राणी है, और इसे स्थानीय लोगों के संरक्षक के रूप में जाना जाता है. कांगला-सा मणिपुर का राज्य प्रतीक भी है. इंफाल युद्धपोत का द्रव्यमान 7400 टन है और लंबाई 164 मीटर है. यह विध्वंसक जहाज अत्याधुनिक हथियारों और प्रणाली से लैस है, जिसमें सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलें, पोत रोधी मिसाइल और टॉरपीडो शामिल हैं. यह 30 समुद्री मील यानी 56 किलोमीटर प्रतिघंटा से अधिक गति प्राप्त करने में सक्षम है.