Home National पोस्टर गर्ल ने ही खोल दिए ‘लड़की हूँ लड़ सकती हूँ’ की...

पोस्टर गर्ल ने ही खोल दिए ‘लड़की हूँ लड़ सकती हूँ’ की पोल, बताया- प्रियंका गाँधी के सचिव ने टिकट के बदले माँगे पैसे

7
0

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारी में जुटीं प्रियंका गाँधी के कैम्पेन ‘लड़की हूँ, लड़ सकती हूँ’ की पोस्टर गर्ल ने ही कॉन्ग्रेस के अंदर धाँधली का आरोप लगा दिया है। पोस्टर गर्ल का नाम डॉ प्रियंका मौर्या है जो कॉन्ग्रेस की सक्रिय कार्यकर्ता हैं। उनके अनुसार प्रियंका गाँधी के सचिव संदीप सिंह ने टिकट के बदले उनसे घूस की डिमांड की थी। प्रियंका मौर्या ने कॉन्ग्रेस पार्टी को महिला विरोधी भी कह डाला। यह आरोप उन्होंने 13 जनवरी, 2022 (बुधवार) को लगाया है।

प्रियंका गाँधी के इस कैम्पन का नाम ‘शक्ति विधान महिला घोषणा पत्र’ है। TV 9 को दिए गए अपने इंटरव्यू पर प्रियंका मौर्या ने कहा, “बात की गई कि लड़की हूँ लड़ सकती हूँ। हमें मेहनत करने और आगे बढ़ने के लिए कहा गया। हमने बहुत मेहनत भी की। जब टिकट देने की बारी आई तो ये पार्टी (कॉन्ग्रेस) महिला और OBC विरोधी पार्टी निकली। सरोजनीनगर से टिकट रूद्रदमन सिंह को देना तय कर लिया गया तब हमें लगा कि ये गलत हुआ है। कैम्पेन के पोस्टर में मेरा चेहरा आगे करना सिर्फ एक लॉलीपॉप जैसा है। मेरे चेहरे का इस्तेमाल कॉन्ग्रेस ने OBC समाज और महिलाओं को लुभाने के लिए किया। जब पहले से ही टिकट किसी और को देना तय था तब स्क्रीनिंग का ड्रामा क्यों किया गया? 35 लोगों की कमेटी, आब्जर्वर और सर्वे की बातें क्यों कही गई? सर्वे की टीम ने भी सबसे ऊपर मेरा नाम रखा था। फिर मुझ से बूथ की लिस्ट मँगवाई गई।”

प्रियंका मौर्या ने आगे बताया, “मैराथन के लिए भी ऊपर से हर घंटे सवाल हो रहा था कि कितनी लड़कियाँ ले कर आ रहे हों अगर टिकट चाहिए तो। हमें बार-बार ज्यादा से ज्यादा लड़कियों को लाने और रजिस्ट्रेशन के टारगेट दिए जाते रहे। हमने वही किया जो पार्टी कह रही थी। मैं 10 बसें ले कर गई थी। मेरे पास वीडियो भी है जब लड़कियों से 5 किलोमीटर की रेश करवाई गई। रास्ते में कोई रिफ्रेशमेंट भी नहीं रखा गया था। लड़कियाँ दौड़ते हुए रास्ते में गिर जा रहीं थीं। उनकी हालत बहुत खराब थी। जिन लोगों को स्कूटी, स्मार्ट फोन या सर्टिफिकेट मिला है उसके दामों में भी धाँधली की गई है।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गुरुवार (13 जनवरी) को कॉन्ग्रेस ने 125 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की थी। इस लिस्ट में 40 प्रतिशत हिस्सेदारी महिलाओं की है। प्रियंका मौर्या को भी खुद के सरोजनीनगर से टिकट की आशा थी। लेकिन वहाँ से रुद्र दमन सिंह का नाम फाइनल कर दिया गया। इसी के बाद डॉ. प्रियंका मौर्या ने ट्वीट करके प्रियंका गाँधी के सचिव संदीप सिंह पर टिकट के बदले पैसे माँगने का आरोप लगाया। साथ ही कहा कि वो पैसे नहीं दे पाईं इसलिए उनके बदले किसी और को टिकट दे दिया गया है।