Home Bhopal ‘ध्वज समारोह में की तलवारबाजी, फिर आया हार्ट अटैक…’ महाकाल मंदिर के...

‘ध्वज समारोह में की तलवारबाजी, फिर आया हार्ट अटैक…’ महाकाल मंदिर के पुजारी के बेटे की मौत | ujjain news mahakal temple priest 17 year old son died due to heart attack

18
0
'ध्वज समारोह में की तलवारबाजी, फिर आया हार्ट अटैक...' महाकाल मंदिर के पुजारी के बेटे की मौत | ujjain news mahakal temple priest 17 year old son died due to heart attack

Ujjain: महाकाल मंदिर के पुजारी मंगलेश शर्मा के 17 साल के बेटे की मौत हार्ट अटैक से हो गई. मयंक 11वीं कक्षा का छात्र था और पिता के साथ मंदिर में पूजा-पाठ का काम भी करता था.

बाबा महाकाल उज्जैन

Image Credit source: tv 9

उज्जैन: हार्ट अटैक से कम उम्र में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है. इस बार उज्जैन के महाकाल मंदिर के पुजारी मंगलेश शर्मा के 17 साल के बेटे की मौत हार्ट अटैक से हो गई. रंग पंचमी के रंग में पूरा शहर डूबा हुआ था. पुजारी पुत्र मंयक भी जोरशोर से रंगपंचमी के गेर में उत्साह से शामिल हुआ था. महाकालेश्वर के ध्वज चल समारोह में उसने जमकर तलवार घुमाई थी. जिसके बाद जब वो रात को घर पहुंचा तो उसे घबराहट होने लगी. परिजनों से जब मयंक ने घबराहट की शिकायत की तो परिजन उसे अस्पताल ले गए. जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया.

बता दें कि मयंक 11वीं कक्षा का छात्र था और पिता के साथ मंदिर में पूजा-पाठ का काम भी करता था. महाकालेश्वर के ध्वज चल समारोह में उसने जमकर बनेटी घुमाई थी, जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था. गुदरी चौराहे पर उसने तलवार भी घुमाई थी. मयंक की मौत की जानकारी मिलते ही पुजारियों के परिवार में शोक छा गया है.

तलवारबाजी के बाद खराब हुई तबीयत

रंग पंचमी पर महाकालेश्वर का ध्वज चल समारोह निकल रहा था. जिसमें मयंक भी खुशी से शामिल हुआ था. उसने सभा मंडप में तलवार के साथ जबरदस्त प्रदर्शन किया. जिसका एक वीडियो भी वायरल हुआ, इस तलवारबाजी के प्रदर्शन के बाद से ही मयंक की तबीयत खराब होने लगी. उसे अचानक घबराहट महसूस हुई. जिसके बाद वो रात करीब 10 बजे घर पहुंचा.

ये भी पढ़ें- BBC की डॉक्यूमेंट्री कोर्ट की अवमानना, तर्कों और क्षमताओं की घोर अनदेखी- BJP विधायक

घर जाते ही उसकी तबीयत और खराब हो गई, और वो बेहोश हो गया. परिजन उसे फौरन अस्पताल ले गए. जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. बता दें कि मयंक दो बहनों में एकलौता भाई था. वो अक्षत कान्वेंट स्कूल में कक्षा 11 वीं का छात्र था. पढ़ाई में भी वह मंयक अच्छा था.

साइलेंट हार्ट अटैक से हुई मौत

डॉक्टरों के मुताबिक मयंक की मौत साइलेंट हार्ट अटैक से हुई है. अक्सर ऐसा हार्ट अटैक डायबिटीज के मरीज को आता है. जिसमें अटैक आने पर तत्काल मौत नहीं होती. न ही मरीज को यह महसूस होता है कि उसे हार्ट अटैक हुआ है, लेकिन सही समय पर इलाज ना मिलने से मरीज की जान को भी खतरा हो सकता है.

ये भी पढ़ें- चोर मचा रहे शोर! 2 दिन पहले मंत्री का जूता हुआ चोरी, अब BJP नेता के भतीजे की शादी में जेवर ले उड़े