Home Bhopal गणगौर विसर्जन पूजा में साबूदाने की खिचड़ी बनी जानलेवा! 65 लोग फूड...

गणगौर विसर्जन पूजा में साबूदाने की खिचड़ी बनी जानलेवा! 65 लोग फूड पॉइजनिंग का शिकार | Burhanpur News Gangaur immersion Pooja 65 people food poisoning

8
0
गणगौर विसर्जन पूजा में साबूदाने की खिचड़ी बनी जानलेवा! 65 लोग फूड पॉइजनिंग का शिकार

साबूदाने की खिचड़ी खाने के एक घंटे के बाद करीब 65 लोगों को फूड पॉइजनिंग की शिकायत हुई, जिसमें उल्टी और दस्त की शिकायत हुई. लोग इधर- उधर जमीन पर ही गिरने लगे. सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी को अस्पताल में भर्ती कराया.

गणगौर विसर्जन के चल समारोह के दौरान 65 लोगों को हुई फूड पॉइजनिंग.

Image Credit source: Tv9

खरगोन: मध्यप्रदेश के खरगोन में गणगौर माता विसर्जन उत्सव पर मंगलवार को भव्य समारोह का आयोजन किया गया. श्रद्धालुओं द्वारा साबूदाने की खिचड़ी वितरण का कार्यक्रम रखा गया. बताया जा रहा है कि खिचड़ी खाने के बाद 65 लोग फूड पॉइजनिंग का शिकार हो गए. जिसमें महिला, पुरुष और बच्चे भी शामिल हैं. जिसके बाद जिला प्रशासन में खलबली मच गई.

सूचना मिलते ही कलेक्टर शिवराज वर्मा ने तत्काल प्रशासनिक अधिकारी के तौर पर तहसीलदार और सीएमएचओ डीएस चौहान को डॉक्टरों की टीम के साथ मौके पर भेजा. सभी पीड़ितों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उपचार के लिए भर्ती करवाया गया. फूड पॉइजनिंग के शिकार लोगों को उल्टी और दस्त की शिकायत थी. इसमें से कुछ को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तो कुछ को जिला अस्पताल रेफर किया गया. भर्ती सभी की हालत स्थिर बनी हुई है.

साबूदाने की खिचड़ी खाने से बिगड़ी हालत

जिला अस्पताल में भर्ती ग्रामीण इंदु प्रजापत ने बताया कि गणगौर के विसर्जन के चल समारोह के दौरान जगह-जगह साबूदाने की खिचड़ी के भक्त जनों द्वारा स्टॉल लगाए गए थे. वहीं पर साबूदाने की खिचड़ी खाने के एक घंटे के बाद करीब 65 लोगों को फूड पॉइजनिंग की शिकायत हुई, जिसमें उल्टी और दस्त की शिकायत हुई. लोग इधर- उधर जमीन पर ही गिरने लगे. सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी को अस्पताल में भर्ती कराया. हालांकि, सभी की हालत पहले से स्थिर बनी है.

वर प्राप्ति और सुख समृद्धि का पर्व

निमाड़ का सबसे बड़ा पर्व गणगौर उत्सव बड़े धूमधाम और भक्ति भाव के साथ मनाया जाता है. यह उत्सव होली के बाद से मनाना शुरू हो जाता है. वहीं, कुंवारी कन्या अच्छे वर के लिए, सुहागन महिलाएं पति की लंबी उम्र और घर की सुख समृद्धि के लिए गणगौर माता का उत्सव मनाती है. निमाड़ में यह उत्सव तीन दिन मनाया जाता है. मारवाड़ी समाज के लोग इस उत्सव को 16 दिन मनाते हैं.