Home Bhopal ईश्वर दुश्मन के बच्चों को भी…’ बेटों की बीमारी से परेशान BJP...

ईश्वर दुश्मन के बच्चों को भी…’ बेटों की बीमारी से परेशान BJP नेता ने परिवार सहित खाया जहर | vidisha news former bjp councillor consumed poison along with his wife and two children

9
0
ईश्वर दुश्मन के बच्चों को भी...

विदिशा जिले में बीजेपी नेता संजीव मिश्रा ने अपने दो बेटों की लाइलाज बीमारी से परेशान होकर गुरुवार शाम अपनी पत्नी और दोनों बेटों सहित आत्महत्या कर जान दे दी.

संजीव मिश्रा के दोनों पुत्रों को डीएमडी नाम की आनुवांशिक बीमारी थी जिसका कोई इलाज नहीं है.

Image Credit source: Social Media

मध्य प्रदेश के विदिशा शहर में भाजपा नेता संजीव मिश्रा ने अपने दो बेटों की लाइलाज बीमारी से परेशान होकर गुरुवार शाम को कथित रूप से अपनी पत्नी और दोनों बेटों सहित खुद भी सल्फास खा लिया, जिससे चारों की मौत हो गई. भाजपा के विदिशा मंडल अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह चौहान ने बताया कि यहां बंटी नगर इलाके में रहने वाले मिश्रा वर्तमान में भाजपा के विदिशा नगर मंडल के उपाध्यक्ष थे और वह पार्टी के पूर्व पार्षद भी रह चुके हैं. कल शाम लगभग छह बजे मिश्रा ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखी थी जिसमें उन्होंने कहा था कि ईश्वर दुश्मन के बच्चों को भी यह ड्यूशेन मस्कुलर डिस्ट्राफी (डीएमडी) बीमारी न दे.

यह देखकर परिचित घर पहुंचे तो उन्होंने संजीव मिश्रा (45), उनकी पत्नी नीलम मिश्रा (42) और दो पुत्रों अनमोल (13) एवं सार्थक (7) को अचेत अवस्था में पाया. इसके बाद सभी को जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया, जहां पर चारों की मौत हो गई. विदिशा जिलाधिकारी उमाशंकर भार्गव ने बताया, मिश्रा के दोनों पुत्रों को डीएमडी नाम की आनुवांशिक बीमारी थी जिसका कोई इलाज नहीं है.

आज की बड़ी खबरें

उन्होंने कहा कि मौके पर एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें मिश्रा ने लिखा है कि वह अपने बच्चों को नहीं बचा पा रहे हैं, इसलिए अब वह जीवित नहीं रहना चाहते हैं. भार्गव ने बताया, सल्फास खाने के कारण मिश्रा, उनकी पत्नी और दोनों बच्चों की जिला अस्पताल में इलाज के दौरान मृत्यु हो गई. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक समीर यादव ने बताया कि पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है.

गौरतलह है कि डीएमडी मांसपेशियों की कमजोरी से जुड़ी एक अनुवांशिक एवं गंभीर बीमारी है जो समय के साथ बिगड़ती जाती है. डीएमडी मुख्य रूप से लड़कों को प्रभावित करता है.

ये भी पढ़ें

(भाषा के इनपुट के साथ)