Home Gadgets google tensor chip why worry for qualcomm: Qualcomm प्रोसेसर पर भारी पडेगी...

google tensor chip why worry for qualcomm: Qualcomm प्रोसेसर पर भारी पडेगी Google Tensor Chip! ये हैं 6 बड़े कारण – google tensor chip check out 6 reasons why it can be worry for qualcomm snapdragon chipsets

15
0


Google Tensor Chip: Google Pixel 6 Series के फोन्स Pixel 6 और Pixel 6 Pro को लॉन्च कर दिया गया है। इन फोन्स की सबसे बड़ी खासियत Google का अपना SoC Tensor है।ये चिपसेट पिक्सल 6 सीरीज के दोनों फोन्स को Google का सबसे बड़ा स्मार्टफोन अपडेट बनाता है। इसके साथ ही यह फोन्स पहले से ज्यादा हाई-टेक हो गए हैं। Tensor द्वारा संचालित Pixel 6 लाइनअप यूजर्स को एक अलग अनुभव देने में पूरी तरह से सक्षम है।

देखा जाए तो ज्यादा स्मार्टफोन निर्माता कंपनियां Qualcomm Chip का इस्तेमाल करते हैं। वहीं, Apple कंपनी iPhone के लिए अपने खुद के प्रोसेसर का इस्तेमाल करता है जो इसे सभी से अलग बनाता है।

अब, Google ने भी वही रास्ता अपना लिया है। हालांकि, यह कदम क्वालकॉम के लिए एक झटके से ज्यादा कुछ नहीं है। वास्तव में, क्वालकॉम ने इस साल अगस्त में एक बयान जारी करते हुए कहा था कि वो गूगल के साथ अपने संबंध को दोहरा रहा है। यह बयान तब आया था जब Google ने अपनी Tensor चिप्स की घोषणा की थी।

क्वालकॉम ने बयान में कहा, “क्वालकॉम टेक्नोलॉजीज और गूगल 15 से अधिक वर्षों से साझेदार हैं, जिसकी शुरुआत मार्केट में पहली एंड्रॉइड डिवाइस लाने से हुई है।” देखा जाए तो Google फोन बाजार में एक बहुत छोटा प्लेयर है। ऐसे में कंपनी को खो देने का नुकसान क्वालकॉम के लिए बहुत बड़ा नहीं कहा जा सकता है। लेकिन कुछ अन्य चीजें जरूर हैं जो इस कंपनी को चिंतित कर सकती हैं।

Google Tensor स्मार्टफोन चिप बाजार में एक नया प्लेयर बनकर उभरेगा
स्मार्टफोन बाजार की दो सबसे बड़ी कंपनियों में से एक सैमसंग और दूसरी एप्पल है जो चिप्स बनाती हैं। जहां Apple iPhones केवल कंपनी अपनी A-सीरीज चिप्स का ही इस्तेमाल करती है। वहीं, सैमसंग अपने खुद के SoC Exynos लाइन के साथ Mediatek और Qualcomm दोनों चिप्स का इस्तेमाल करता है। चिप बाजार में Google की एंटी के बाद अब चिप सेगमेंट में एक और प्लेयर जुड़ गया है। चिप को बनाना एक महंगी और कठिन प्रक्रिया है।

क्वालकॉम ने छोटा लेकिन ‘महत्वपूर्ण’ ग्राहक खो दिया
गूगल ने स्मार्टफोन बाजार में भले ही ज्यादा हलचल नहीं मचाई हो लेकिन वह अपने यूजर्स के लिए बेहद ही लॉयल रहा है। पिक्सल फोन अपने कैमरा पावर के लिए जाने जाते हैं और इसका इंतजार यूजर्स को रहता है। Google अपने SoC से लैस फोन की पेशकश कर रहा है जिसके चलते अब क्वालकॉम को एक महत्वपूर्ण ग्राहक खोना पड़ेगा।

Tensor Android स्मार्टफोन निर्माताओं को Google के साथ अपने संबंध बनाने का अवसर देती है
वैसे तो यह दोनों तरह से हो सकता है, लेकिन Google अन्य Android OEM को Tensor SoC इस्तेमाल करने की पेशकश कर सकता है। ऐसे में एक ही कंपनी के OS और SoC दोनों के इंटीग्रेशन में सहायता करने और हार्डवेयर के साथ सॉफ़्टवेयर को बेहतर बनाने की संभावना जताई जा सकती है।

Google सिलिकॉन की डायरेक्टर मोनिका गुप्ता ने घोषणा के दौरान कहा, “Google Tensor हमें स्मार्टफोन में लिमिट्स को बढ़ाने की अनुमति देता है। इसे वन-साइज फिट डिवाइस के लिए तौर पर पेश किया गया है जो हर डिवाइस में इस्तेमाल किया जा सकता है।

Google Tensor बाजार में ऐसे समय में प्रवेश करता है जब Mediatek क्वालकॉम को कड़ी टक्कर दे रहा है
गूगल टेंसर बाजार में ऐसे समय में आया है जब क्वालकॉम अपने कॉम्पैटीटर्स जैसे मीडियाटेक से पिछड़ता नजर आ रहा है। काउंटरपॉइंट रिसर्च के अनुसार, मीडियाटेक ने स्मार्टफोन SoC बाजार में 43% की अपनी उच्चतम हिस्सेदारी के साथ वर्चस्व कायम किया।

Google Pixel स्मार्टफोन का कंपनी की हार्डवेयर महत्वाकांक्षाओं को बढ़ावा दे सकता है
यह कहना जल्दबाजी होगी, लेकिन विश्लेषक और समीक्षक दोनों ही Pixel 6 सीरीज के फोन्स से प्रभावित नजर आ रहे हैं। कुछ इसी थ्योरी पर ग्राहक भी चल रहे हैं। उनमें भी इन फोन्स को लेकर क्रेज देखा गया है।

यूएस में प्री-ऑर्डर के लिए फोन आने के कुछ मिनट बाद Google स्टोर क्रैश हो गया। मीडिया रिपोर्टों का दावा है कि Google स्टोर पर Pixel 6 सीरीज के फोन की मांग काफी ज्यादा हो गई थी। शिपिंग की तारीख भी काफी आगे बढ़ती नजर आ रही है।

क्या होगा अगर Google IoT में कदम रखेगा?
क्वालकॉम भी IoT बाजार पर बड़ा दांव लगा रहा है। यह वही बाजार है जिस पर Google राज करता है या यूं कहें कि काफी बड़ा हिस्सेदार है। ऐसे में यहां पर काफी कॉम्पैटिशन देखने को मिल सकता है।