Home Lucknow कांग्रेस की 1000 बसों का ‘बवाल’, प्रियंका गांधी के सचिव पर एफआईआर...

कांग्रेस की 1000 बसों का ‘बवाल’, प्रियंका गांधी के सचिव पर एफआईआर दर्ज

4
0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बसों और प्रवासी मजदूरों को लेकर मंगलवार को दिनभर चली राजनीति का अंत शाम को यूपी कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू (Ajay Kumar Lallu) की गिरफ्तारी के साथ हुआ। अजय उत्तरप्रदेश में कांग्रेस की बसों की एंट्री को लेकर आगरा की बॉर्डर पर बैठे थे। इसी दौरान पुलिस उन्हें टांगकर ले गई। पुलिस ने यहां से सभी प्रदर्शनकारियों को हटा दिया है। वहीं प्रियंका गांधी के निजी सचिव के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। उन पर बसों की गलत जानकारी देने का आरोप लगाया गया है।

कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि चाहे बसों पर भाजपा का बेनर लगा ​दीजिए, लेकिन बसों को मजदूरों के लिए जाने दें। प्रियंका ने ट्वीट कर कहा कि उप्र सरकार ने हद कर दी है। जब राजनीतिक परहेजों को परे करते हुए त्रस्त और असहाय प्रवासी भाई बहनों को मदद करने का मौका मिला तो दुनिया भर की बाधाएं सामने रख दिए। उन्होंने कहा कि योगी जी इन बसों  पर आप चाहें तो भाजपा का बैनर लगा दीजिए, अपने पोस्टर बेशक लगा दीजिए लेकिन हमारे सेवा भाव को मत ठुकराइए क्योंकि इस राजनीतिक खिलवाड़ में 3 दिन व्यर्थ हो चुके हैं। और इन्ही तीन दिनों में हमारे देशवासी सड़कों पर चलते हुए दम तोड़ रहे हैं।

पुलिस ने बल पूर्वक प्रदर्शनकारियों को हटाया
बता दें कि कांग्रेस कार्यकर्ता आगरा में राजस्थान की सीमा पर धरने पर बैठ गए। उन्होंने प्रदेश की योगी सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान पुलिस और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच जमकर नोकझोंक हुई। पुलिस ने हाइवे पर ट्रकों और अपने वाहनों को खड़ा कर रास्ता रोक दिया। कांग्रेस कार्यकर्ता यूपी सीमा में बसों की एंट्री की इजाजत मांग रहे थे। वहीं, पुलिस ने उनसे बसों के परमिट और कागजात मांगे। हालांकि, पुलिस ने बाद में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को धरने पर से हटा दिया।

 

 

यूपी पुलिस और अजय कुमार लल्लू के बीच बहस
इससे पहले इमरान प्रतापगढ़ी के ट्विटर अकाउंट से अपलोड किए गए वीडियो में यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू यह कहते हुए नजर आ रहे हैं।कि हमारी 1000 बसें तैयार हैं। हमें जाने दीजिए ताकि प्रवासी मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाया जा सके। बाकी आपकी सरकार भाषण दे रही है।

ये है पूरा मामला
प्रियंका गांधी ने 16 मई को ट्वीट कर कहा था कि हजारों श्रमिक, प्रवासी भाई-बहन बिना खाए भूखे-प्यासे पैदल दुनियाभर की मुसीबतों को उठाते हुए अपने घरों की ओर चल रहे हैं। यूपी के हर बॉर्डर पर बहुत मजदूर मौजूद हैं। ऐसे में प्रिंयका ने प्रवासी श्रमिकों के लिए 1000 बसें भेजने के लिए प्रदेश सरकार से अनुमति मांगी थी। पहले योगी सरकार ने इस मांग को ठुकरा दिया था, लेकिन बाद में स्वीकार कर लिया। इसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार के प्रशासन ने प्रियंका के कार्यालय से 1000 बसों और चालकों के विवरण की मांग की थी।