Home Dharm 22 मई को शनि जयंती, क्यों की जाती है शनिदेव की पूजा?

22 मई को शनि जयंती, क्यों की जाती है शनिदेव की पूजा?

38
0

धर्म डेस्क : ज्येष्ठ माह की अमावस्या तिथि पर शनि जयंती मनाई जाती है। इस बार 22 मई को शनि जयंती है। शनि से जुड़े दोषों से मुक्ति के लिए शनि अमावस्या पर शनिदेव की पूजा का विशेष महत्व होता है। ज्योतिष के अनुसार शनि की साढ़ेसाती, ढैय्या और महादशा होने पर व्यक्ति को तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। शनि के प्रकोप को कम करने के लिए शनि की विशेष अवसरों पर पूजा करने से अटके काम पूरे होते हैं और परेशानियों का अंत भी होता है। आइए जानते है शनि जयंती 2020 के मौक पर शनिदेव की पूजा और इसका महत्व।

कौन है शनि देव
शनिदेव सूर्यदेव और माता छाया की संतान हैं। पिता सूर्य के द्वारा माता छाया के अपमान के कारण शनिदेव हमेशा अपने पिता सूर्य से बैर भाव रखते हैं। फलित ज्योतिष में शनि को अशुभ माना जाता है। इनका स्वरूप काला रंग और ये गिद्ध की सवारी करते हैं। इन्हे सभी ग्रहों में न्याय और कर्म प्रदाता का दर्जा प्राप्त है। मकर और कुंभ राशि के स्वामी शनि देव हैं। यह बहुत ही धीमी चाल से चलते हैं। यह एक राशि में करीब ढाई वर्षों तक रहते हैं। शनि की महादशा 19 वर्षों तक रहती है। मान्यता है शनि देव जिस किसी पर अपनी तिरक्षी नजर रख देते हैं उसके बुरे दिन आरंभ हो जाते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्हें उनकी पत्नी ने शाप दिया था जिस कारण से शनि की नजर को बुरा माना जाता है। वहीं अगर शनि की शुभ दृष्टि किसी पर पड़ जाए तो उसका जीवन राजा के समान बीतने लगता है।

क्यों की जाती है शनिदेव की पूजा
शास्त्रों में कहा गया है जिन जातकों के ऊपर हमेशा कष्ट, गरीबी, बीमारी और धन संबंधी परेशानी होती है उन्हें शनि देव की पूजा जरूर करना चाहिए। शनि देव की पूजा के लिए प्रत्येक शनिवार, शनि अमावस्या और शनि जयंती का दिन काफी महत्वपूर्ण माना गया है। शनि देव पूजा में सरसों के तेल का दीपक जलाने और काली चीजों का दान करने से शनिदोष का प्रकोप कम हो जाता है।

जब अशुभ होते हैं तो व्यक्ति को कई तरह की परेशानियां देते हैं. शनि जब अशुभ होते हैं तो इसका पता इन लक्षणों से लगाया जा सकता है. शनि खराब होने पर कार्य में बाधा पहुंचाते हैं. धनहानि कराते हैं. अपयश प्रदान करते हैं. दुर्घटना और कोर्ट कचहरी से जुड़ी परेशानियां देते हैं.

 

गंभीर रोग भी प्रदान करते हैं
खराब होने पर शनि व्यक्ति को गंभीर रोग भी प्रदान करते हैं. पिता से संबंध खराब करा देते हैं. घुटनों से नीचे पैरों की समस्या दे सकते हैं. भ्रमण कराते हैं. व्यापार में नुकसान भी कराते हैं. पुराने कर्मचारी साथ छोड़ देते हैं.

 

इन बातों का ध्यान रखें
शनि एक न्याय प्रिय ग्रह हैं. शनि व्यक्ति को इसी जन्म में उसके अच्छे और बुरे कर्मों का फल प्रदान करते हैं. इसलिए जो व्यक्ति गलत कार्य करते हैं उन्हें शनि बहुत परेशान करते हैं. शनि की अशुभता से बचने के लिए गरीबों की मदद करनी चाहिए, अनाथ बच्चों की सहायता करने से भी शनि प्रसन्न होते हैं. कुष्ट रोगियों की सेवा करने से भी शनि की अशुभता दूर होती है.

शनि का मंत्र
ॐ नीलांजनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम। छायामार्तण्डसम्भूतं तं नमामि शनैश्चरम्.

शनि देव की पूजा में क्या करें क्या नहीं

– शनिदेव की पूजा में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना चाहिए।
– शनि देव के विशेष दिनों में मंदिर में जाकर उनके दर्शन जरूर करना चाहिए।
– शनि देव के साथ हनुमान जी के भी दर्शन और पूजा करने से शनि दोष से जल्दी छुटकारा मिलता है।
– शनि देव को तेल और नीला फूल जरूर चढ़ाएं।
– गरीबों को दान करना चाहिए।
– शनि की पूजा करते समय सूर्य की नहीं करनी चाहिए।
-कभी भी शनि देव की प्रतिमा के दर्शन करते समय उनकी आंखों में नहीं देखना चाहिए।