Home Crime पाकिस्तान से रोज आ रही थीं 50 हजार कॉल…दिल्ली पुलिस ने किया...

पाकिस्तान से रोज आ रही थीं 50 हजार कॉल…दिल्ली पुलिस ने किया अवैध टेलीफोन एक्सचेंज का भंडाफोड़, गैंग का सरगना इरफान फरार

9
0
दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल (सांकेतिक तस्वीर)

इस अवैध टेलीफोन एक्सचेंज में गल्फ कंट्री, नेपाल, USA, कनाडा और पाकिस्तान से करीब 1 लाख से ज्यादा कॉल्स रिसीव किए जा रहे थे. लेकिन हैरान करने वाली बात ये है कि सिर्फ पाकिस्तान से ही करीब 50 हजार कॉल्स रोज आ रहे थे.

दिल्ली पुलिस की सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट की साइबर सेल ने एक अवैध टेलीफोन एक्सचेंज का भंडाफोड़ किया है. इस टेलीफोन एक्सचेंज के जरिये देश को न सिर्फ आर्थिक चुना लगाया जा रहा था बल्कि देश की सुरक्षा में भी सेंधमारी की आशंका है.

इस अवैध टेलीफोन एक्सचेंज में गल्फ कंट्री, नेपाल, USA, कनाडा और पाकिस्तान से करीब 1 लाख से ज्यादा कॉल्स रिसीव किए जा रहे थे. लेकिन हैरान करने वाली बात ये है कि सिर्फ पाकिस्तान से ही करीब 50 हजार कॉल्स रोज आ रहे थे.

 

चांदनी चौक का रहने वाला है गैंग का सरगना इरफान

 

इस गैंग का सरगना इरफान दिल्ली के चांदनी चौक इलाके का रहने वाला है. 9 वी पास इरफान टेक्निकली काफी मजबूत है और उसने पहले टीवी, मोबाइल ठीक करने का काम किया और अपनी टेलीकॉम की अच्छी जानकारी से धीरे- धीरे इसने दिल्ली के हौजकाजी इलाके में एक अवैध कॉल सेंटर तैयार किया और यहां से उसने अपने गोरख धंधे की शुरुआत की. मुंबई में भी ये आरोपी फर्जी टेलीफोन एक्सचेंज खोल रखा था लेकिन पुलिस की सख्ती के कारण वहां से फरार हो गया.

 

फरवरी में जांच एजेंसियों को पहली बार ये मामला संज्ञान में आया कि फर्जी अवैध टेलीफोन एक्सजेच चल रहा है. दिल्ली में उस वक्त एक आरोपी गिरफ्तार हुआ था इमरान खान. उसी की निशानदेही पर आगे ये खुलासा हुआ.

 

Sip सर्वर की मदद से इस एक्सचेंज में अभी तक देश मे करीब 4 करोड़ कॉल्स अलग अलग देशो से भारत आई हैं. इन कॉल्स का पैसा क्या हवाला के जरिये हिंदुस्तान आ रहा था, दिल्ली पुलिस इसकी जांच कर रही है. इस मामले में तीन और आरोपियों को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है. सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट साइबर सेल ने कुल 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया और अभी एक आरोपी फरार है जिसके ठिकाने पर ये फर्जी टेलीफोन एक्सचेंज चल रहा था. इस एक्सचेंज में कॉल से देश की सुरक्षा के लिए भी खतरा भांपा जा रहा है. इसलिए दिल्ली पुलिस के अलावा देश की अन्य एजेंसी भी इसकी जांच कर रही हैं.

 

दूरसंचार सेक्टर को भी हुआ आर्थिक नुकसान

 

यह अवैध टेलीफोन टेलीकॉम एक्सचेंज 45 दिन में सेटअप होकर अवैध तरीके से काम कर रहा था. जांच एजेंसियों के मुताबिक एक दिन में इस सेटअप पर 300000 कॉल बाहर से आ रही थीं जिसके चलते प्रतिदिन भारत सरकार दूरसंचार सेक्टर को करीब आर्थिक नुकसान हो रहा था. आंकड़ों के मुताबिक अब तक करीब 103 करोड़ रुपए का आर्थिक नुकसान इस रैकेट से भारत सरकार और टेलीकॉम सेक्टर को पहुंचा है.