Home COVID-19 लॉकडाउन-4 में हर घंटे मिले 247 मरीज संक्रमित, जानें किस चरण में...

लॉकडाउन-4 में हर घंटे मिले 247 मरीज संक्रमित, जानें किस चरण में कितने मामले

24
0
Demo Pic

नई दिल्ली: लॉकडाउन के चौथे चरण की मियाद आज खत्म होने जा रही। लॉकडाउन-1,2 और तीन के मुकाबले लॉकडाउन-4 सबसे खतरनाक साबित हुआ है। 14 दिन के इस लॉकडाउन में हर घंटे 247 मरीज संक्रमित हुए हैं। जब लॉकडाउन तीन खत्म हुआ था तो संक्रमित मरीजों की संख्या 90927 थी। जो अब बढ़कर 1,73,763 पहुंच गई है। यानि 86422 लोग संक्रमित हुए लॉकडाउन-4 में जो सबसे ज्यादा है।

-किस चरण में कितने मामले बढ़े-
लॉकडाउन –          कब से कब तक-          दिन-       कितने मामले बढ़े 
पहला-                 25 मार्च- 14 अप्रैल-         21-      10,815
चौथा-                 18 मई-31 मई-               14-       1,73,763

पांच सबसे संक्रमित दिन-
तारीख-संक्रमितों की संख्या

30 मई- 7965
29 मई- 7466
25 मई- 6977
24 मई- 6767
28 मई- 6560

इन पांच दिनों में सबसे ज्यादा मौत-
तारीख- मरने वालों की संख्या

30 मई – 265
28 मई- 194
29 मई- 175
27 मई-170
25 मई- 154

-पांच मोर्चों पर क्या रही स्थिति-
1.संक्रमण दोगुना होने की दर

पहले : तीन दिन में मामला दोगुना होता था
अब : 15.4 दिन में मामला दोगुना हो रहा

2.स्वस्थ्य होने की दर
पहले : 7% थी स्वस्थ्य होने वाले मरीजों की दर
अब : 47.40% हुई स्वस्थ्य होने वाले मरीजों की दर

3. नमूनों के पॉजीटिव होने की दर बढ़ी
6.3% तक पहुंच गई है नमूनों के पॉजीटिव होने की दर
4% थी नमूनों के पॉजीटिव होने की दर लॉकडाउन-2 से पहले

4. जांच की स्थिति
25 मार्च को 15000 के करीब जांच हुई थीं
30 मई को 36,11,599 टेस्ट किए जा चुके हैं

5 : मृत्यु दर में गिरावट
2.55 फीसदी हुई मृत्यु दर पहले यह 3.3% थी

तैयारी-
– 1093 ऐसे अस्पताल हैं जो सिर्फ कोविड रोगियों के लिए हैं
– इनमें 185306 बेड हैं जिनमें 31250 आईसीयू बेड भी शामिल हैं
– इसी प्रकार 2402 कोविड हैल्थ सेंटर हैं। यहां पर कोरोना के कम गंभीर का इलाज
– आज 109 घरेलू कंपनिया पीपीई किट बना रही हैं जबकि दो महीने पहले कोई नहीं बनाता था
– सात कंपनिया टीका बनाने में लगी हुई है। छह वैज्ञानिक संस्थान भी टीका बना रहे हैं

सबसे बेहतर स्थिति वाले तीन राज्य-
केरल

तब : 25 मार्च को 51 मरीज मिले थे राज्य में
अब : 1150 लोग संक्रमित हुए अब तक

उत्तराखंड- 
तब : 25 मार्च को सिर्फ 5 कोरोना के संक्रमित मिले
अब : 716  लोग संक्रमित हुए अब तक

हिमाचल-
तब : 25 मार्च को सिर्फ 16 कोरोना के संक्रमित मिले
अब : 295  लोग संक्रमित हुए अब तक

सक्रिय मामलों में 5वें नंबर पर भारत-
देश- एक्टिव केस

अमेरिका-11,69,565
ब्राजील- 2,47,213
रूस- 2,24,551
फ्रांस- 90,318
भारत- 86422

-लॉकडाउन-1 से 4 तक में क्या बदला-
लॉकडाउन-1 :सख्त नियम के साथ घरों में रहने की हिदायत
– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए लोगों को 21 दिनों तक घर पर रहने को कहा
– जरूरी समानों को छोड़कर सभी दुकानों,मॉल,बाजार,सिनेमा हॉल सब बंद करने का फैसला
– सभी परिवहन सेवाएं जैसे सड़क, रेल और हवाई पूरी तरह बंद कर दी गई
– बैंक, एटीएम, बीमा कार्यालय काम करते रहेंगे
– केंद्र व राज्य सरकारों के  दफ्तर और निजी संस्थान को भी बंद किया गया

लॉकडाउन-2 : जरूरी सेवाओं में सर्शत छूट

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 दिन के लिए दूसरे चरण के लॉकडाउन की घोषणा की
– 20 अप्रैल से खेती से जुड़ी सभी गतिविधियां को खोलने का ऐलान
– जरूरी सामान मुहैया कराने वाली ई-कॉमर्स कंपनियों को छूट दी जाएगी। कूरियर सेवाओं को इजाजत
– स्कूल-कॉलेज, सभी परिवहन सेवा, सिनेमाघर, मॉल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स तीन मई तक बंद रहेंगे।
– स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश में 170 जिलों को हॉटस्पॉट घोषित किया गया। रेड,ग्रीन और ऑरेंज जोन में बाटा गया

लॉकडाउन- 3 : अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने पर जोर

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 13 दिन के लिए तीसरे चरण के लॉकडाउन की घोषणा की
– कंटेनमेंट जोन छोड़ जिलों में शराब की दुकान खोलने की अनुमति,इससे राजस्व बढ़ने में मदद
– रेड जोन में सभी उद्योग, कंस्ट्रक्शन कार्यों की अनुमति, 33 फीसद लोगों के साथ दफ्तर खोलने की इजाजत
– ऑरेंज जोन में रेडियो टैक्सी, ड्राइवर के साथ एक कार में सिर्फ दो यात्री को अनुमति,गैर जरूरी सामान भी ऑनलाइन ई-कॉमर्स से मंगा सकेंगे
– ग्रीन जोन में सभी तरह के वाहनों की आवाजाही की इजाजत,सभी तरह की दुकानों को खोलने की अनुमति

लॉकडाउन- 4 : राज्यों को दी गई ताकत
-एक से दूसरे राज्य के बीच बसों या निजी वाहनों की आवाजाही राज्य आपसी सहमति से तय करें
– राज्य तय करेंगे कौन सा क्षेत्र किस जोन में आएगा। उसके हिसाब से वहां छूट दी जाएगी
– रेस्तरां होम डिलीवरी के लिए किचन का संचालन कर पाएंगे
– मिठाई आदि के लिए भी होम डिलीवरी की जा सकेगी
– बाजार के खुलने के नियम भी राज्य खुद तय करेंगे
– बिना दर्शक खेल आयोजन हो सकेंगे। स्टेडियम में खिलाड़ी प्रैटिक्स कर सकेंगे