Home Bhopal मप्र: पुलिस पर ड्यूटी से लौट रहें डॉक्टरों के साथ मारपीट के...

मप्र: पुलिस पर ड्यूटी से लौट रहें डॉक्टरों के साथ मारपीट के आरोप…पहचान पत्र दिखाए फिर भी ना माने… महिला डॉक्टर को भी पीटा

521
0

भोपाल. एक ओर जहां देश कोरोना के संकट से जूझ रहा है। वहीं दूसरी ओर इस प्रकार के घटनाक्रम मप्र पुलिस की मंशा पर प्रश्न चिन्ह ?? उठता है। सरकार द्वारा लॉकडाउन में मीडिया, डॉक्टर आदि को छूट प्रदान की गई है। उसके बाद भी कभी मीडिया तो कभी डॉक्टरों के साथ पुलिस द्वारा मारपीट के मामले संज्ञान में आ रहे हैं। अगर डॉक्टरों द्वारा लगाए गए आरोप सही पाए जातें हैं तो यह एक गम्भीर बात है। अगर डॉक्टरों के साथ ऐसा व्यवहार किया जाता है तो मध्यप्रदेश की स्वास्थ्य सेवाएं वेंटीलेटर पर जा सकतीं हैं। दरअसल,कोरोना संकट से जूझ रहे मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान भोपाल (एम्स) से डयूटी खत्म करके घर लौट रहे दो डॉक्टरों के साथ पुलिस द्वारा मारपीट व अभद्र व्यवहार का मामला सामने आया है।

क्या है पूरा मामला

प्राप्त जानकारी के अनुसार, 8 अप्रैल की शाम को सात बजे एम्स (AIIMS) भोपाल के डॉ. युवराज सिंह और ऋतुपर्णा जाना अपनी ड्यूटी पूरी करके घर लौट रहे थे। वे सिटी पार्क के पास पहुंचे तब उन्हें पुलिस ने रोक लिया और उनके साथ अभद्र व्यवहार व लाठियों से मारपीट शुरू कर दी। दोनों डॉक्टरों ने अपने पहचान पत्र दिखाए और उन्हें एआईआईएमएस भोपाल से ड्यूटी करके घर लौटने की बात बताई, मगर पुलिसकर्मी नहीं माने और उनके साथ मारपीट जारी रखी। पुलिसकर्मी उन पर आरोप लगा रहे थे कि डॉक्टरों की वजह से आमजन में कोरोना फैल रहा है। इसके बाद दोनों डॉक्टर जैसे-तैसे वहां से बचकर भागे और अपने उच्च अधिकारियों को पूरी घटना के बारे में बताया। इस तरह माहौल में डॉक्टर कोरोना संकट के बीच काम कैसे कर पाएंगे। रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ 24 घंटे में कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

इसके बाद पीड़ित डॉक्टरों ने पहले अपने वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत की फिर डायल 100 पर भी शिकायत की है। इसी के साथ नाराज डॉक्टर्स ने एम्स डायरेक्ट को भी एक शिकायत पत्र सौपा है और दोषी पुलिस कर्मियों पर जांच और कार्यवाही की मांग की है।

24 घंटे में कार्यवाही की मांग

रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने संस्थान के डायरेक्टर को पत्र लिखकर मामले में 24 घंटे के भीतर कार्रवाई की मांग की है। एसोसिएशन ने अपने पत्र में लिखा है कि इस समय देश कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ रहा है। डॉक्टर्स अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की जिंदगी बचाने में लगे हैं।