Home Bhopal मप्र मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने लिया संज्ञान : बेटे के देखते...

मप्र मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने लिया संज्ञान : बेटे के देखते देखते ऑक्सीजन के आभाव में गई पिता की जान….मरीजो से मनमानी वसूली

20
0
Representative Image

भोपाल : मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग के माननीय सदस्य श्री सरबजीत सिंह ने मानव अधिकार हनन से जुड़े दो मामलों में संज्ञान लेकर संबंधितों से प्रतिवेदन मांगा है।

 

बेटे के देखते देखते ऑक्सीजन के आभाव में गई पिता की जान

 

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में अव्यवस्थित स्वास्थ्य सेवाओं के लेकर मानव अधिकार आयोग ने गंभीर चिंता व्यक्त करते हुये प्रमुख सचिव स्वास्थ्य विभाग भोपाल एवं संचालक स्वास्थ्य सेवाये भोपाल से दो सप्ताह में निम्नलिखित बिन्दुओं पर विस्तृत रिपोर्ट तलब की हैंः-

 

१. राज्य में सामन्य नागरिकों के कोरोना उपचार के संबध्ंा में महत्वपूर्ण जानकारियां पहुचाने के लिये ऑनलाईन कंसल्टेशन की क्या व्यवस्था है ?

 

२. सामान्य नागरिको को जिले के अस्पतालों में उपलब्ध बेड, दवाईयॉ एवं ऑक्सीजन की जानकारी कैसे हो तथा उनकी सप्लाई चैन बनाये रखने की क्या व्यवस्था है ? तथा उसकी जमाखोरी पर रोक लगाने की क्या व्यवस्था है ?

 

३. कोरोना की महत्वपूर्ण जॉचे जैसे आरटीपीसीआर आदि समय पर किये जाने और उसकी जॉच रिपोर्ट समय पर नागरिको को उपलब्ध कराने की क्या व्यवस्था है ?

 

आयोग ने प्रमुख सचिव मप्र शासन, स्वास्थ्य विभाग, संचालक स्वास्थ्य सेवाये भोपाल तथा कलेक्टर एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जिला कटनी को फैक्स एवं रजिस्टर डाक से नोटिस भेजकर उपरोक्त बिन्दुवार प्रतिवेदन दो सप्ताह में मॉगा है । जिला अस्पताल कटनी के आइसोलेसन वार्ड में भर्ती मरीज के परिजनों की मिन्नतों के बावजूद भी मरीज को ऑक्सीजन नही लग पई जिससे उसकी मृत्यु हो गई। आयोग ने इस मामले में स्वतः संज्ञान लेते हुये उक्त संबंधितों को नोटिस भेजा है।

 

मरीजो से मनमानी वसूली पर चार अस्पतालो मे छापा पड़ा

 

भोपाल जिले के होसंगाबाद रोड स्थित रूद्राक्ष और उबंटू अस्पताल सहित कोलार के भगवती व निर्माना अस्पताल प्रबंधन द्वारा मरीजों से मनमानी वसूली किये जाने के मामले में आयोग के सदस्य श्री सरबजीत सिंह ने स्वतः संज्ञान लेते हुये मामले की विस्तृत रिपोर्ट भेजने के लिये सीएमएचओ भोपाल को फैक्स से नामजद नोटिस भेजा है।

इस मामले में यह भी जानकरी आयोग ने तलब की है कि भोपाल में कोलार क्षेत्र में कोविड-१९ से संबंधित जॉच एवं उपचार की क्या सुविधाये हैं ? तथा सामन्य नागरिक बीमारी की स्थिती में जॉच एवं उपचार हेतु कहॉ जाये ? और उसे यह कैसे मालूम होगा ?

आयोग ने उक्त संबंध में मरीजो से की जा रही मनमानी वसूली तथा प्रशासन द्वारा की गई कार्यवाही की भी जानकारी चाही है।