Home Hoshangabad संचालक दलहन परियोजना डॉ. तिवारी ने विभिन्न विकासखंडो में मूंग फसल फील्ड...

संचालक दलहन परियोजना डॉ. तिवारी ने विभिन्न विकासखंडो में मूंग फसल फील्ड का किया भ्रमण

269
0

संरक्षित खेती, जोखिम रहित खेती एवं फसल अवशेष प्रबंधन का देखा अनुठा उदाहरण

 

होशंगाबाद। भारत सरकार कृषि मंत्रालय के दलहन परियोजना संचालक डॉ. ए.के. तिवारी एवं उप संचालक कृषि जितेन्द्र सिंह ने आज दिनांक 09 जून को जिले के विभिन्न विकासखंडो में ग्रीष्म कालीन मूंग फसल फील्ड का निरीक्षण किया एवं कृषको से चर्चा की। उन्होने बनखेडी विकासखंड में संरक्षित खेती का अनूठा उदाहरण देखा, जहॉ बनखेडी के ग्राम बंदरझाला के कृषक संजीव मलानी ने अपने खेत में मूंग फसल की किस्म विराट के साथ अंतरवर्ती फसल में अरहर फसल की किस्म लक्ष्मी को 7 फिट के अंतर लाईन से लाईन की दूरी में लगाया है।

 

उन्होने गेहू फसल के अवशेष को मिट्टी में मिलाया है जिसे फसल के नीचे जमीन में गेहूं के फसल अवशेष स्पष्ट देखे जा सकते है। यह फसल अवशेष मलचिंग का कार्य करते है तथा कम पानी में कम खर्च में भूमि की उर्वरता में वृद्धि करते है जिससे किसान के द्वारा अधिक लाभ प्राप्त किया जा रहा है। साथ ही अंतरवर्ती फसल अरहर, गेहूं बुवाई से पूर्व हो जाती है जो लगभग 18 से 20क्विंटल  प्रति हेक्टेयर की उपज देती है एवं अरहर की फसल पाले के जोखिम से सुरक्षित रहती है। मूंग फसल की उत्पादकता लगभग 12 से 15 क्विंटल प्राप्त हो रही है।

 

डॉ. तिवारी ने ग्राम गोंदरई के किसान दिनेश महश्वरी के खेत में मूंग फसल की किस्म विराट, शिखा एवं एमएच-421 का प्रदर्शन देखा एवं सराहना की। उन्होने बाबई, सोहागपुर एवं पिपरिया विकासखंड के विभिन्न ग्रामो में किसानों के खेतो का भ्रमण कर किसानो से चर्चा की उन्होने पिपरिया मंडी में चना खरीदी एवं मंडी में बोली से खरीदी जा रही मूंग की खरीदी का अवलोकन किया। फील्ड भ्रमण के दौरान कार्यक्रम समन्वयक गोविन्द नामदेव, सहायक संचालक कृषि जवाहर कासदे, योगेन्द्र बेडा, राजीव यादव, व्ही,पी, रघुवंशी, एसडीओ पिपरिया सहित कृषि विभाग का मैदान अमला उपस्थित रहा।