Home Bhopal धार्मिक भावनाएं आहत करने बख्शें नही जायेंगे :डॉ नरोत्तम मिश्रा

धार्मिक भावनाएं आहत करने बख्शें नही जायेंगे :डॉ नरोत्तम मिश्रा

33
0
गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, File Photo

विवादित वेब सीरीज आश्रम व डाबर का विज्ञापन आपत्तिजनक

भोपाल। धार्मिक भावनाएं आहत करने वाली फिल्म ,वेब सीरीज और विज्ञापनों के खिलाफ प्रदेश सरकार सख्त उठाने जा रही। गृह मंत्री  डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने आज ऐसा करने वालो को सख्त चेतावनी दी । उन्होंने कहा कि सरकार इसको लेकर सख्त गाइडलाइन बनाने जा रही है जिसके तहत अगर फ़िल्म या विज्ञापन में धार्मिक दृश्य है तो उसकी स्क्रिप्ट पहले कलेक्टरों को दिखानी होगी तभी शूटिंग की अनुमति मिल सकेगी।
गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि प्रकाश झा की वेब सीरीज *आश्रम* में हिन्दू धार्मिक भावनाएं आहत करने वाले दृश्यों पर हिन्दू संघटनो को आपत्ति है। लेकिन  मुझे वेब सीरीज के  नाम *आश्रम* पर ही आपत्ति है। उसमें जिस तरह फिल्मांकन किया जा रहा है वह भी धार्मिक भावनाए आहत करने वाला है। उन्होंने कहा कि इसी तरह डाबर के विज्ञापन में लेस्बियन को करवा चौथ मनाते  दिखाया गया है । यह सब क्या है। हिन्दू धर्म को ही हमेशा साफ्ट टारगेट मानकर यह सब क्यों किया जाता है। कभी सूटेबल बॉय फ़िल्म बना कर धार्मिक भावनाएं आहत करने का प्रयास किया जाता है तो कभी महाकाल मंदिर में वीडियो बना कर उस जगह की पवित्रता पर हमला किया जाता है। *आश्रम* नाम से फ़िल्म बना कर हिन्दू संस्कृति पर प्रहार किया जाता है।उन्होंने सवाल किया कि क्या कोई कभी किसी दूसरे धर्म को लेकर तो यह सब फ़िल्म व विज्ञापन बनाने की हिम्मत कर सकता है?
डॉ. मिश्रा ने कहा कि  इस तरह की धार्मिक भावनाए आहत करने के किसी भी प्रयास को गलत मानता हूं और ऐसा करने वालो के खिलाफ हम कठोर कार्यवाही भी करेंगे।
डॉ. मिश्रा ने कहा कि मैने डाबर के विज्ञापन को लेकर डीजीपी को निर्देश दिए है कि वह विज्ञापन का परीक्षण  कराए और विज्ञापन हटाने के लिए चर्चा करें। विज्ञापन तत्काल नही हटता है तो फिर हम वैधानिक कार्यवाही करेंगे।
डॉ. मिश्रा ने कहा कि इसी तरह धार्मिक भावनाएं आहत करने के लिए हम प्रदेश की धरती का इस्तेमाल नही करने देंगे। इसलिए शूटिंग के लिए गाइड लाइन बनाने पर विचार किया जा रहा है। इस गाइड लाइन में फ़िल्म या विज्ञापन में अगर धार्मिक दृश्य फ़िल्माने अनुमति तभी मिलेगी जब उसकी स्क्रिप्ट संबंधित जिलों के कलेक्टर देख लेंगे।