Home Editorials कविता: वेलेंटाइन डे स्पेशल  

कविता: वेलेंटाइन डे स्पेशल  

55
0
अपनी अपनी मोह्हबत में , प्रेम के गीत गाते ।
आजकल के प्रेम दीवाने ,वेलेंटाइन डे मनाते ।।
होली और दीवाली के जैसे, प्रेम त्यौहार मनाते ।
लाखों प्रेम के पुजारी, सब अपना प्यार दिखाते ।।
तरह-तरह के दिन मना , एक दूजे को बहलाते ।
अपने सनम को गुलाब देकर , रोज डे मनाते ।।
फिर आता शुभ दिन ,जब बात दिल की बताते ।
इजहार-ए-इश्क करके , देखो प्रपोज डे मनाते ।।
छोटे बच्चे के जैसे,चॉकलेट एकदूजे को खिलाते ।
महंगी – महंगी चॉकलेट देके ,चॉकलेट डे मनाते।।
प्यार के त्यौहार में,खिलौना उपहार में दिलाते ।
बड़ा- सा  टेडी देकर , आशिक टेडी डे मनाते ।।
प्यार , मोहब्बत , इश्क में , वादे हजार निभाते ।
साथ जीने का वादा करके , प्रॉमिस डे मनाते ।।
प्रीत का रोग लग जाता ,समर्पित दोनो हो जाते ।
गुलाबी लबों का चुम्बन करके , किस डे मनाते ।।
महोब्बत में भरोसा करके,जीवन सफल बनाते ।
एक दूजे से आलिंगन करके,प्रेमी हग डे मनाते ।।
एकदूजे में खो जाते,फिर अपनी दुनिया बसाते ।
प्यार,समर्पण व विश्वास से, वेलेंटाइनडे मनाते ।।
कवि जसवंत लाल खटीक
रतना का गुड़ा ,देवगढ़
काव्य गोष्ठी मंच, राजसमन्द