Home Editorials …भाग्य और मेहनत

…भाग्य और मेहनत

91
0
Representative Image

हाथ की लकीरो के भरोसे ,
सुनो ,कभी तुम मत रहना ।
ये सब कहने की बातें ,
मन में वहम तुम मत रखना ।।

मेहनत का फल मिलेगा जब ,
पसीना परफ्यूम ज्यूँ महकेगा ।
खून-पसीना लगेगा तब ,
भाग्य अपने आप चमकेगा ।।

भाग्य का निर्माण स्वयं करेंगे ,
कोई नही इसे लिखेगा ।
जिंदगी की इन राहो में ,
आसान सफर नही मिलेगा ।

भाग्य के भरोसे रहने वाले ,
कर्म के बीज नही बोते है ।
अरे ,भाग्य तो वो भी लिखते है ,
जिनके हाथ नही होते है ।।

पुश्तैनी दौलत जिनके होती ,
वो घोड़े बेच कर सो जाते है ।
मेहनत की रोटी खाने वाले ,
इतिहास में अमर हो जाते है ।।

भाग्य के भरोसे रहने वाले ,
थोथली उड़ान भरते है ।
चार दिन की चाँदनी होती ,
फिर दर-दर भटकते है ।।

खून पसीने का एक रुपया ,
सोने की मोहर ज्यूँ लगता है ।
किस्मत को चमकाने के लिए ,
इंसान दिन रात जगता है ।।

मेहनत करते जाओ तुम ,
किस्मत दौड़ती हुई आएगी ।
” जसवंत ” तेरी मेहनत जरूर  ,
लोगों में जागरूकता लाएंगी ।।

कवि जसवंत लाल खटीक

रतना का गुड़ा ,देवगढ़
काव्य गोष्ठी मंच, राजसमन्द