Home Editorials कविता : भारत माँ के वीर शहीद

कविता : भारत माँ के वीर शहीद

68
0

पुलवामा , जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए वीर शहीदों को हार्दिक श्रंद्धाजलि । इन सभी भारत माँ के वीर सपूतों के सम्मान में और इंसाफ की मांग करती मेरी कविता ।

पुलवामा में शहीद हुए , 

           हर वीर को नमन करता हूँ ,

भारत की सरकार सुनो , 

            मैं हाथ जोड़कर कहता हूँ ।

कायरता के पुतले पाक को , 

                     नक्शे से मिटा डालो  ,

हर एक हिंदुस्तानी के , 

             दिल की बात मैं कहता हूँ  ।।

पीठ पीछे वार करके , 

              औकात पाक ने बता डाली ,

भारत माँ की रक्षा खातिर ,  

                 वीरों ने जान गवाँ डाली ।

बदला तो लेना ही होगा , 

             सर्जिकल स्ट्राइक कर डालो ,

आंतक को जड़ से मिटा कर , 

                  पाक को कर दो खाली ।।

वीरांगना का सिंदूर मिटा है ,

                     माँ बापू की टूटी लाठी ,

उठा साया बेटे के सर से , 

                     बहना की रूठी राखी ।

भारत माँ की माटी का , 

               कर्ज चुका कर वो चले गये ,

भारत माँ के वीर शहीदों को ,

                  इंसाफ दिलाना है बाकी ।।

दिन-रात सीमा पर सैनिक , 

                    देश के खातिर लड़ते है ,

चैन से सो सके हम सब , 

                   सैनिक रातभर जगते है ।

लेकिन जब-जब पाक , 

                 कायराना हरकत करता है ,

तब जाके भारत के सैनिक ,

                   मौत का तांडव करते है ।।

बहुत हो गया भाईचारा ,

              अब औकात उन्हें दिखाते है ,

पाक को इस भारी गलती का , 

                     सबक आज सिखाते है ।

निकाल कर अपने हथियार , 

                     नया इतिहास बना डालो ,

दुश्मन को धूल चटा कर , 

               कारगिल की याद दिलाते है ।।

सुनो सरकार करो तैयारी , 

               “जसवंत” हाथजोड़ कहता है ,

पुलवामा में शहीद वीरों के ,

                    इंसाफ की मांग करता है ।

कायरता के पुतले पाक को ,

                           नक्शे से मिटा डालो ,

हर एक हिंदुस्तानी के ,

                   दिल की बात ये कहता है ।।

कवि जसवंत लाल खटीक

रतना का गुड़ा ,देवगढ़

काव्य गोष्ठी मंच, राजसमन्द

शत शत नमन ! 

जय हिन्द ! जय भारत !