Home COVID-19 ‘ब्लैक फंगस’ से बचने के लिए डेंटिस्ट ने बताये 3 सरल उपाय

‘ब्लैक फंगस’ से बचने के लिए डेंटिस्ट ने बताये 3 सरल उपाय

69
0
Representative Image

भारत में कोरोना वायरस महामारी के बीच ‘ब्लैक फंगस’ का खतरा भी तेजी से बढ़ रहा है। एक रिपोर्ट के अनुसार देश में इस घातक वायरस के करीब सात हजार मामले हो गए हैं। इसे म्यूकोर्मिकोसिस भी कहा जाता है।

यह आमतौर पर उन रोगियों में देखा जा रहा है जिन्हें लंबे समय तक स्टेरॉयड दिया गया था, जो लंबे समय से अस्पताल में भर्ती थे, ऑक्सीजन या वेंटिलेटर पर थे, खराब स्वच्छता या जो डायबिटीज जैसी अन्य बीमारी के लिए दवा ले रहे हैं। यदि समय पर इसका इलाज नहीं किया जाता है, तो यह संक्रमण घातक हो सकता है।

ब्लैक फंगस के लक्षण
ब्लैक फंगस के प्रमुख लक्षणों में मुंह से जुड़े लक्षण हैं. इनमें मुंह, जीभ, मसूड़ों का रंग बदलना, भरी हुई नाक, तेज दर्द, चेहरे की सूजन, आंखों के नीचे भारीपन, बेचैनी, बुखार और सिरदर्द शामिल हैं।

 

ब्लैक फंगस से बचने के उपाय

मौखिक स्वच्छता बनाए रखें
कोविड के ठीक होने के बाद, स्टेरॉयड और अन्य दवाओं का सेवन मुंह में बैक्टीरिया या फंगस को बढ़ने में सक्षम बनाता है और साइनस, फेफड़े और यहां तक कि मस्तिष्क में भी समस्या पैदा करता है। दिन में दो-तीन बार ब्रश करें. मुंह की सफाई करने से बहुत मदद मिल सकती है।

ब्रश बदलें
रोगियों के लिए बीमारी के प्रभाव से खुद को बचाने के लिए कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद अच्छी मौखिक स्वच्छता बनाए रखना आवश्यक है। मरीजों को सलाह दी जाती है कि वे एक बार नकारात्मक परीक्षण करने के बाद अपना टूथब्रश बदल लें और नियमित रूप से अपना मुंह धोते रहें।

टूथब्रश और टंग क्लीनर को साफ रखें
कोरोना से ठीक हुए मरीज को अपना ब्रश वहां नहीं रखना चाहिए, जहां अन्य लोग रख रहे हैं। इसके अलावा ब्रश और टंग क्लीनर को नियमित रूप से एंटीसेप्टिक माउथवॉश से साफ करने की सलाह दी जाती है।

इन लक्षणों पर रखें नजर
डॉक्टर लोगों को सलाह दे रहे हैं कि वे चेहरे के किसी भी हिस्से में सूजन, आंखों की रोशनी की समस्या या सिर के किसी एक हिस्से में दर्द जैसे लक्षणों को नजरअंदाज न करें। अगर कोविड-19 से ठीक होने वाले व्यक्ति को इन समस्याओं का सामना करना पड़ता है, तो वो तत्काल ईएनटी स्पेशलिस्ट से संपर्क करें।

एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया और एम्स के डॉक्टर पीयूष रंजन सहित कई विशेषज्ञों ने कहा है कि एक बार संक्रमित होने पर इस फंगल संक्रमण का जल्द पता लगने से मरीजों की जान बच सकती है।

उन्होंने कहा है कि लक्षणों को समझने के लिए कोरोना के मरीजों को दिन के उजाले में नाक, गाल और आंखों के आसपास चेहरे की सूजन, रंग बदलना, दर्द आदि के लिए पूरे चेहरे की जांच करनी चाहिए।

अगर दांतों का ढीला होना, मुंह के अंदर का हिस्सा काला होना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं, तो उन्हें इसकी सूचना तुरंत डॉक्टर को देनी चाहिए । डॉक्टरों ने सलाह दी है कि कोविड-19 से ठीक होने के दौरान और बाद में ब्लड शुगर लेवल की भी जांच करते रहना चाहिए।

भारत में ब्लैक फंगस के सात हजार से ज्यादा मामले
मोटे अनुमानों के अनुसार, देश में ब्लैक फंगस के 7,000 से अधिक मामले हैं। देश में अब तक सबसे ज्यादा संक्रमण महाराष्ट्र में सामने आया है, इसके बाद गुजरात, मध्य प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, तेलंगाना का नंबर आता है।

संक्रमण से कितने लोगों की मौत हुई है?
बताया जा रहा है कि इस घातक संक्रमण से अब तक कम से कम 219 लोगों की संक्रमण से मौत हो चुकी है।

म्यूकोर्मिकोसिस कैसे फैलता है?
म्यूकोर्मिकोसिस एक फंगल संक्रमण है, जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैल सकता है।