Home COVID-19 Alert! अगर आप सैनिटाइजेशन मशीन का उपयोग करते है तो यह खबर...

Alert! अगर आप सैनिटाइजेशन मशीन का उपयोग करते है तो यह खबर आप के लिए है, ध्यान से पढ़िए

7
0
Demo Pic

भोपाल। भोपाल समेत देशभर में कोरोना के खिलाफ जंग के लिए सैनिटाइजेशन का काम जोरों पर है। इसके लिए कई सार्वजनिक स्थानों पर फुल बॉडी सैनिटाइजिंग मशीन भी लगाई गई है, लेकिन आप जानकर थोड़ा परेशान हो सकते हैं कि इस मशीन में उपयोग होने वाला सोडियम हाइपोक्लोराइड रसायन व्यक्ति की आंख, त्वचा, पेट और गले के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है, इसलिए केंद्र सरकार ने अब फुल बॉडी सैनिटाइजिंग मशीन में इस रसायन के उपयोग पर रोक लगा दी है। केंद्र सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने प्रदेश समेत देशभर के राज्यों को इस संबंध में एक गाइडलाइन भेजी है। केंद्र के मुताबिक यह रसायन शारीरिक व मानसिक दोनों रूप से शरीर पर विपरीत प्रभाव डालता है।

दरअसल, फुल बॉडी सैनिटाइजेशन को लेकर केंद्र सरकार की हेल्प डेस्क पर कई सवाल पूछे जा रहे थे। इस पर एक शोध के बाद डायरेक्टर जनरल ऑफ हेल्थ सर्विज (ईएमआर डिविजन) ने नई गाइडलाइन जारी की है। चार बिंदुओं की इस गाइडलाइन में बताया गया है कि सैनिटाजेशन में सोडियम हाइपोक्लोराइड का उपयोग किया जाता है जो शरीर पर उपयोग के लिए नहीं है। लोगों पर इसका स्प्रे नहीं किया जाना चाहिए। बता दें कि निगम द्वारा स्मार्ट सिटी दफ्तर, अस्पतालों, पुलिस लाइन व कई सार्वजनिक स्थानों पर इसे बॉडी सैनिटाइजेशन की व्यवस्था की है। वहीं सैनिटाइजेशन कार्य में जुटे निगम कर्मचारी भी इसके दुष्प्रभाव को झेल रहे हैं। अधिकांश को आखों में जलन की समस्या आम हो गई है।

शरीर को यह नुकसान

सोडियम हाइपोक्लोराइट केमिकल सिर्फ उपकरणों, वस्तुओं के शुद्धिकरण के लिए उपयोग किया जा सकता है। इसके छिड़काव से शरीर में चर्म व नेत्र रोगों की आशंका कई गुना अधिक होती है। इसके छिड़काव के बाद हवा में मिलने मात्र से आंखों में जलन भी होती है। त्वचा से संपर्क पर भी जलन होती है। रिपोर्ट में इस रसायन के स्प्रे पर उल्टी, पेट, नाक व गला संबंधित रोग, एलर्जी के साथ मानसिक रोग का कारक बताया है।

जहां भी फुल बॉडी सैनिटाइजेशन मशीनों को लगाया गया है वहां आवश्यक निर्देश भी चस्पा किए गए हैं। इसमें आंख, नाक, मुंह आदि को बंद करने संबंधित सूचना है। सैनिटाइजेशन को लेकर विशेषज्ञों की राय भी ली गई। तय गाइडलाइन के आधार पर ही काम किया जाएगा।- राजेश राठौर, अपर आयुक्त नगर निगम