Home Dharm Navratri 2021: What should be offered to Maa Shailputri Bhoj Read name...

Navratri 2021: What should be offered to Maa Shailputri Bhoj Read name related story and mantra shardiya navratri october – Astrology in Hindi

25
0


शारदीय नवरात्रि का पहला दिन आज यानी 07 अक्टूबर, गुरुवार को है। नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा की जाती है। मान्यता है कि ऐसा करने से मां दुर्गा की कृपा से घर में सुख-समृद्धि आती है और कष्टों से मुक्ति मिलती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, पर्वतराज हिमालय के यहां पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम शैलपुत्री पड़ा। पूर्व जन्म में ये प्रजापति दक्ष की कन्या थीं, तब इनका नाम सती था। इनका विवाह भगवान शंकरजी से हुआ था।

प्रजापति दक्ष के यज्ञ में सती ने अपने शरीर को भस्म कर अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया। पार्वती और हैमवती भी उन्हीं के नाम हैं। उपनिषद् की एक कथा के अनुसार, इन्हीं ने हैमवती स्वरूप से देवताओं का गर्व-भंजन किया था। नव दुर्गाओं में प्रथम शैलपुत्री का महत्व और शक्तियां अनन्त हैं। नवरात्र पूजन में प्रथम दिन इन्हीं की पूजा और उपासना की जाती है। इस दिन उपासना में योगी अपने मन को मूलाधार चक्र में स्थित कर साधना करते हैं।

नवरात्रि में उत्तर-पूर्व दिशा में ही क्यों की जाती है घटस्थापना, जानिए मान्यता

मां शैलपुत्री का कैसा है स्वरूप-

मां शैलपुत्री के एक हाथ में त्रिशूल और दूसरे हाथ में कमल है। यह देवी वृषभ पर विराजमान हैं, जो पूरे हिमालय पर राज करती है। मान्यता है कि नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की विधि-विधान से पूजा करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

मां शैलपुत्री का प्रसाद-

मां शैलपुत्री के चरणों में गाय का घी अर्पित करने से भक्तों को आरोग्यता का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

नवरात्रि के पहले दिन कुंभ समेत इन राशि वालों का भाग्य देगा साथ, ये करें पीली वस्तु का दान

मां शैलपुत्री मंत्र-

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
वृषारुढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥