Home Dharm Narak Chaturdashi 2021: क्यों मनाई जाती है नरक चतुर्दशी, यहां जानें वजह

Narak Chaturdashi 2021: क्यों मनाई जाती है नरक चतुर्दशी, यहां जानें वजह

30
0

Narak Chaturdashi 2021: दिवाली का त्योहार पूरे भारत में धूमधाम से मनाया जाता है, यह त्योहार पांच दिनों तक मनाया जाता है,  इस त्योहार का तीसरा दिन सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है जो दिवाली के रूप में जाना जाता है।

दिवाली के दौरान लोग एक साथ प्रकाश के दीये और मीठे व्यंजनों का स्वाद लेने और भगवान से प्रार्थना करने के लिए एक साथ आते हैं। इस दिन की विभिन्न मूल कहानियां हैं जिनमें से मुख्य हैं बुराई पर अच्छाई की जीत। जहां उत्तर भगवान राम और देवी सीता की अयोध्या वापसी का जश्न मनाता है, वहीं इस दिन नरक चतुर्दशी  भी मनाई जाती है। बता दें, यह त्योहार नरक चौदस या नर्क चतुर्दशी या नर्का पूजा के नाम से भी प्रसिद्ध है।

जिस दिन श्रीकृष्ण ने भौमासुर का वध किया था उस दिन कार्तिक माह क चतुर्दशी थी इसलिए उसे नरक चतुर्दशी भी कहा जाता है। इस दिन श्रीकृष्ण ने भौमासुर अर्थात नरकासुर का वध किया था और उसकी कैद से लगभग 16 हजार महिलाओं को मुक्त कराया था। इसी खुशी के कारण दीप जलाकर उत्सव मनाया जाता है।

क्या है पूजा विधि

इस दिन यम की पूजा की जाए तो अकाल मृत्यु के भय से मुक्ति मिल जाती है. इसीलिए इस दिन घर के मुख्य द्वार के बांई ओर अनाज की ढेरी रखें. इस पर सरसों के तेल का एक मुखी दीपक जलाना चाहिए लेकिन दीपक की लौ दक्षिण दिशा की ओर कर दें.